Submit your post

Follow Us

अधिकारी को बल्ले से पीटने वाले आकाश विजयवर्गीय ने ऐसा काम किया कि मोदी माफ़ नहीं कर पाएंगे

5
शेयर्स

आकाश विजयवर्गीय. बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं. जून में आकाश नगर निगम के एक अधिकारी को बैट से पीटने के मामले में जेल गए थे. अब एक बार फिर चर्चा में हैं.

दरअसल, सोमवार यानी 4 नवंबर को पूरे मध्य प्रदेश में बिजली के बढ़े हुए बिल और कर्जमाफी को लेकर सीएम कमलनाथ के खिलाफ बीजेपी कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया था. वहीं, आकाश ने इंदौर में प्रदर्शन के दौरान ही चेतावनी दे दी थी. उन्होंने कहा था कि

सरकार से बस ये दो मांग है कि जल्द से जल्द सभी मंत्री विधायक और कांग्रेस के नेता मैदान में पहुंचे और किसानों का बारिश से जो नुकसान हुआ है, उसका मुआवजा जल्द-से-जल्द दें.

साथ ही बिजली बिल पर कहा

मेरी चेतावनी है कि जल्द से जल्द बढ़े हुए बिल माफ करें, या पहले की तरह सस्ते बिल भेजें. वरना जैसे मनोज भैया ने बताया कि कमरे में बंद करेंगे और आपको तो पता ही है हम खाली हाथ तो घूमते नहीं हैं.

बैट चलाया था, 5 दिन के लिए जेल भी गए थे. पर कुछ असर नहीं हुआ. इसीलिए शायद फिर से खुलेआम चेतावनी दे रहे हैं. जबकि आकाश विजयवर्गीय की उस हरकत के बाद खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने बीजेपी बैठक में इसे गलत बताया था. उन्होंने कहा था

बेटा किसी का हो, मनमानी नहीं चलेगी.  ऐसा व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जायेगा.

वहीं, खबरें ये भी थीं कि केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रिपोर्ट मांगी थी. पर बाद में इस रिपोर्ट के सौंपे जाने या फिर इससे जुड़ी कोई भी खबर की चर्चा हुई ही नहीं.

आकाश के बारे में कहा जाता है कि लोगों को धमकाना- डांटना विधायक की आदत में शुमार हो चुका है. कुछ दिन पहले भी उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. इसमें आकाश नगर निगम अधिकारियों को धमकाते नजर आ रहे थे. जनवरी, 2019 में इंदौर नगर निगम के कुछ अफसरों ने एक कार्यक्रम रखा था. इसकी सूचना विधायक को थोड़ी देर से दी गई. इस पर विधायक भड़क गए थे. तब एक पुल का शिलान्यास कार्यक्रम था. आकाश जब वहां पहुंचे तो देखा कि उनके लिए बैठने का इंतजाम नहीं है. इस पर वे निगम अधिकारियों पर भड़क गए.


वीडियो देखें : जिस आदेश के विरोध में आकाश विजयवर्गीय मारपीट कर रहे वो शिवराज के दौर का था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जामिया और AMU में पुलिस की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?

15 दिसंबर को दोनों यूनिवर्सिटीज़ में पुलिस ने कार्रवाई की थी.

मऊ: नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध प्रदर्शन में लोगों ने पुलिस थाने में आग लगा दी

अधिकारियों ने अब धारा 144 लगा दी है.

जामिया में हिंसक प्रोटेस्ट के बाद पूरे उत्तर प्रदेश में क्या चल रहा है?

उत्तर प्रदेश की कई जगहों पर धारा 144 लगा दी गई है.

CAA प्रोटेस्टः जामिया यूनिवर्सिटी के कैम्पस में घुसी पुलिस, डराने वाली तस्वीरें आ रही हैं

पुलिस की कार्रवाई में कई छात्र घायल.

लद्दाख और सियाचिन में तैनात जवानों को खाने की जरूरी चीजें भी नहीं मिल रहीं

CAG रिपोर्ट में सामने आई बात.

जामिया CAB प्रदर्शनः पुलिस के आंसू गैस गोले से छात्र का अंगूठा फट गया

जामिया में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन तेज, परीक्षाएं आगे बढ़ीं.

नागरिकता कानून में हुए संशोधन पर संविधान एक्सपर्ट्स का क्या कहना है?

एक्सपर्ट्स का दावा, ये संशोधन संविधान के आर्टिकल 14, 5 और 11 का उल्लंघन है.

पासपोर्ट पर कमल छाप तो दिया लेकिन सरकार खुद इसे राष्ट्रीय फूल नहीं मानती

बवाल मचा तो सरकार ने कहा था राष्ट्रीय प्रतीकों को छाप रहे हैं.

16 दिसंबर को इस वजह से नहीं होगी निर्भया के चारों दोषियों को फांसी

सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद ही डेथ वारंट पर फैसला होगा.

CAB विरोध: असम में पुलिस की फायरिंग से दो की मौत, कर्फ़्यू मान नहीं रही है भीड़

तीन BJP विधायकों के घर पर हमला. मेघालय के भी कुछ इलाकों में कर्फ़्यू. तीन राज्य में इंटरनेट बंद.