Submit your post

Follow Us

वो क्या स्कीम थी, जिससे हजार-दो हजार नहीं, 32 लाख लोगों से 6380 करोड़ रुपये ठगने का आरोप है?

भारत और पोंजी स्कीम का जैसे कोई पुराना नाता है. एक भूलो तो उससे बड़ा घोटाला सामने आ जाता है. खबर आई है कि ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय ने एग्री गोल्ड पोंजी स्कैम मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. इसमें सैकड़ों-हजार नहीं बल्कि 32 लाख लोगों को चूना लगाए जाने का आरोप है. घोटाले की रकम 6,380 करोड़ से ज्यादा की बताई जा रही है. क्या है ये पूरा घोटाला, आइए बताते हैं.

150 कंपनियां खोल रखी थीं

ईडी की ओर से गिरफ्तार किए गए तीनों लोग एग्री गोल्ड पोंजी कंपनी के प्रमोटर्स हैं. बुधवार को कोर्ट ने इन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. ईडी ने ये कार्रवाई कई प्रदेशों में दर्ज मामलों के आधार पर की है. आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु सहित करीब 9 राज्यों में इस घोटाले से जुड़े मामले दर्ज हैं.

ईडी का कहना है-

अवा वेंकट रामाराव ने साजिशन ये स्कीम चलाई. उसने अपने सात भाइयों को भी इसमें शामिल किया. कई और लोगों के साथ मिलकर 150 कंपनियां खोलीं. लोगों से बड़े रिटर्न का वादा करके रकम जमा करवाई. इस काम के लिए उसने हजारों कलेक्शन एजेंट लगा रखे थे.

ईडी के अनुसार, एग्री गोल्ड ग्रुप के प्रमोटर अवा वेंकट रामाराव का नाम पहले भी एक पोंजी स्कीम में आ चुका है. वह इस तरह की स्कीम चलाने का पुराना खिलाड़ी है.

कंपनी ने अपने हजारों एजेंटों के जरिए 36 लाख से ज्यादा लोगों का पैसा इनवेस्ट करवाया.
कंपनी ने अपने हजारों एजेंटों के जरिए 36 लाख से ज्यादा लोगों का पैसा इनवेस्ट करवाया.

कैसे लगाई लाखों लोगों को करोड़ों की चपत?

एग्री गोल्ड ग्रुप की कंपनियों ने कुछ साल पहले चिटफंड स्कीम की शुरुआत की. एक ग्रुप के तले सैकड़ों कंपनियां खोली गईं. इन कंपनियों के प्लान बेचने के लिए हजारों की संख्या में एजेंट रखे गए. हर पोंजी स्कीम की तरह इसमें भी झांसा दिया गया कि जो इस स्कीम में पैसा लगाएगा, बेहतरीन रिटर्न पाएगा. हालांकि इस स्कीम में कंपनी ने जमीन का भी एक एंगल डाला. कहा कि जो लोग पैसा लगाएंगे, उससे खेती के लिए जमीन खरीदी जाएगी. फिर उसे डिवेलप किया जाएगा. अगर निवेशक चाहे तो डिवेलप होकर लाखों की हो चुकी जमीन को अपनी जमा राशि से बहुत सस्ते में ले सकता है. अगर कोई इनवेस्टर उस जमीन को नहीं लेना चाहेगा तो मूल धन के साथ ही तगड़ा ब्याज दिया जाएगा. इस चिटफंड स्कीम को देश भर के कई राज्यों में एक साथ फैलाया गया. ईडी के मुताबिक, इस स्कीम के जरिए 32 लाख लोगों को इस ग्रुप में जोड़ा गया और उनसे निवेश कराया गया. ईडी के अनुसार-

इन कंपनियों ने कभी नहीं बताया कि वह जो जमीनें खरीद रही है, उसकी लोकेशन क्या है. उस जमीन की असली कीमत कितनी है, जमीन का लेआउट क्या है, वह किस अथॉरिटी के अधिकार में आती है, ये सब जानकारियां भी नहीं दी गईं. इन्होंने अपने पूरे बिजनेस को रियल एस्टेट का कलेवर पहनाया. लेकिन असल में यह एक बिना लाइसेंस और नियम-कायदे के पैसा जमा करने की स्कीम से ज्यादा कुछ नहीं थी.

जांच से पता चला है कि एग्री गोल्ड ग्रुप ऑफ कंपनीज़ के पास इस तरह के डिपॉजिट के लिए ली जाने वाली आरबीआई की परमीशन भी नहीं है. एक अधिकारी ने बताया-

जब रेग्युलेटरी अथॉरिटी सेबी को इस कंपनी की जानकारी मिली तो उसने रकम जमा करने का काम फौरन रोक देने को कहा. आगे किसी तरह का कलेक्शन करने से भी मना किया. लेकिन सेबी की बात मानना तो दूर, आरोपी वेंकट रामाराव ने नई कंपनियां खोलकर उनके नाम पर पैसा जमा करना शुरू कर दिया. कलेक्शन के लिए अपने हजारों एजेंटों की फौज मैदान में उतार दी. एक दिखावे के रियल एस्टेट प्रोजेक्ट को उसने पोंजी स्कीम में तब्दील कर दिया.

कंपनी ने लोगों को सपने दिखाए कि वह जमा किए गए पैसों से जमीनें खरीदेंगे और उन्हें डिवेलप करके निवेशकों को उपलब्ध कराएंगे.
कंपनी ने लोगों को सपने दिखाए कि वह जमा किए गए पैसों से जमीनें खरीदेंगे और उन्हें डिवेलप करके निवेशकों को उपलब्ध कराएंगे.

जमीन खरीदने के झूठे दावे करते रहे

ईडी के मुताबिक, 32 लाख से भी ज्यादा लोगों से जमा किए  6,380 करोड़ से जितनी जमीन खरीदी गई, उनकी वैल्यू वादे के मुताबिक नहीं थी. कंपनी के पास अभी कुल 5.5 लाख प्लॉट हैं. हालांकि ये कंपनी का दावा है, जिसकी जांच होना बाकी है.

ईडी का आरोप है कि वेंकट रामाराव और उसका परिवार पूरी रकम डायवर्ट करने में जुटा था. इसके लिए परिवारवालों के नाम पर शेल कंपनियां बनाई जा रही थीं. उनमें पैसा इनवेस्ट किया जा रहा था. इसके लिए विदेश में भी कंपनियां खोली गईं, और उनमें पैसे भेजे गए.

ईडी ने गिरफ्तारी के दौरान अवा वेंकट रामाराव और दूसरे डायरेक्टरों के घर की तलाशी भी ली थी. इस दौरान जमीन से जुड़े कई कागजात, 22 लाख रुपए कैश और कई डिजिटल डिवाइसेज मिलीं, जिनकी जांच की जा रही है.


वीडियो – सुप्रीम कोर्ट ने अमरावती कथित जमीन घोटाला मामले की मीडिया रिपोर्टिंग पर पाबंदी हटा दी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

UP की फैक्ट्री में बड़ा हादसा, दो लोगों की मौत हो गई और 15 लोग घायल हैं

UP की फैक्ट्री में बड़ा हादसा, दो लोगों की मौत हो गई और 15 लोग घायल हैं

अमोनिया गैस लीक होने के चलते हुए हादसा.

कभी कृषि कानूनों की पक्षधर रहीं पार्टियों ने अब यूटर्न क्यों ले लिया है?

कभी कृषि कानूनों की पक्षधर रहीं पार्टियों ने अब यूटर्न क्यों ले लिया है?

जानिए पहले क्या था इन राजनीतिक दलों का स्टैंड

क्या बढ़िया फ्रिज न होने के कारण इंडिया में कोरोना वैक्सीन लगने में और लेट हो सकती है?

क्या बढ़िया फ्रिज न होने के कारण इंडिया में कोरोना वैक्सीन लगने में और लेट हो सकती है?

कोल्ड चेन का पूरा तिया पांचा यहां समझिए.

साल 2015 के बाद गुजरात, केरल, बंगाल, महाराष्ट्र और बिहार के बच्चों में बढ़ा कुपोषण

साल 2015 के बाद गुजरात, केरल, बंगाल, महाराष्ट्र और बिहार के बच्चों में बढ़ा कुपोषण

सर्वे का दावा, बच्चों की लम्बाई और वज़न ख़तरनाक तरीक़े से घट रहे

क्या कोरोना की नई वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को लकवा मार जा रहा है?

क्या कोरोना की नई वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को लकवा मार जा रहा है?

वैक्सीन लगवाने पर कुछ लोगों में एलर्जी की समस्या भी सामने आई है.

किसान आंदोलन के समर्थन में वैज्ञानिक ने केंद्रीय मंत्री के हाथ से अवॉर्ड लेने से मना कर दिया

किसान आंदोलन के समर्थन में वैज्ञानिक ने केंद्रीय मंत्री के हाथ से अवॉर्ड लेने से मना कर दिया

पत्र में कहा, 'ये मेरी अंतरात्मा के खिलाफ़ है'

350 करोड़ का स्कैम उजागर करने वाले RTI एक्टिविस्ट की मौत पर पुलिस और फ़ैमिली अलग कहानी क्यों बता रहे?

350 करोड़ का स्कैम उजागर करने वाले RTI एक्टिविस्ट की मौत पर पुलिस और फ़ैमिली अलग कहानी क्यों बता रहे?

पुलिस ने कहा कि दुर्घटना में मौत हुई, परिवार हत्या का आरोप लगा रहा

एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा, 'ऐसा ही चलता रहा तो कोई भी शिकार बन सकता है'

एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा, 'ऐसा ही चलता रहा तो कोई भी शिकार बन सकता है'

हैदराबाद के ICFAI लॉ स्कूल में रूल ऑफ लॉ पर लेक्चर दे रहे थे जस्टिस चेलमेश्वर.

कोरोना का ट्रायल वैक्सीन लेने वाले हरियाणा के मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कोरोना का ट्रायल वैक्सीन लेने वाले हरियाणा के मंत्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कोरोना की वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल के दौरान टीका लगाया गया था.

उइगर मुस्लिम ने बताया, 'चीन में हमें ज़बरदस्ती सूअर का मांस खिलाया जाता था'

उइगर मुस्लिम ने बताया, 'चीन में हमें ज़बरदस्ती सूअर का मांस खिलाया जाता था'

नसबंदी न करवाने पर उइगर मुस्लिमों के साथ क्या होता है?