Submit your post

Follow Us

आगरा में कोरोना के मामले तेजी से बढ़े, तो सरकार को ये सख्त कदम उठाना पड़ा

आगरा में कोरोना वायरस के लगातार बढ़ रहे मामलों के बीच अब वहां के चीफ मेडिकल ऑफिसर (सीएमओ) और डायरेक्टर ऑफ हेल्थ एडं फैमिली वेलफेयर को पद से हटा दिया गया है. 10 मई, रविवार को शासन ने यह निर्णय किया. इनकी जगह नए अधिकारियों की नियुक्ति भी कर दी गई.

राज्य के मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया-

आगरा में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने यह निर्णय किया है. सरकार ने तय किया है कि डॉ. मुकेश कुमार वत्स के स्थान पर अब विशेष अधिकरी डॉ. आर.सी. पांडेय नए सीएमओ होंगे. साथ ही आगरा मंडल के डायरेक्टर ऑफ हेल्थ एडं फैमिली वेलफेयर के पद पर डॉ. अविनाश कुमार सिंह होंगे. इस पद पर तैनात एके मित्तल को डिविजनल ऑफिस भेज दिया गया है.

आगरा की स्थिति चिंताजनक

आगरा में अब तक कोरोना के कुल 764 पॉजिटिव केस पाए गए हैं. रविवार को पूरे प्रदेश में कुल 102 नए केस पाए गए, जिनमें सबसे अधिक 13 मामले आगरा के थे. वहीं प्रदेश में रविवार तक कुल 3467 केस सामने आ चुके हैं.

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, आगरा में रविवार को तीन लोगों की कोरोना से मौत हुई. इसके साथ की आगरा में कोरोना से मरने वालों की कुल संख्या 23 पहुंच गई है. वहीं आगरा सेंट्रल जेल के 12 कैदी भी रविवार को कोरोना पॉजिटिव पाए गए. समाचार एजेंसी IANS ने उप-महानिरीक्षक (जेल) लव कुमार के हवाले से बताया कि 24 कैदियों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, जिनमें से 12 कोरोना पॉजिटिव पाए गए.


 


वीडियो देखें: लॉकडाउन के दौरान इन 15 स्टेशनों के लिए रेलवे की तरफ से ट्रेन चलाई जा रही हैं

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना: सुपर स्प्रेडर क्या होते हैं और ये इतने खतरनाक क्यों हैं कि अहमदाबाद में सब कुछ बंद करना पड़ा

अहमदाबाद में 14 हजार सुपर स्प्रेडर होने की आशंका जताई जा रही है.

प्रवासी मजदूरों को लेकर यूपी और राजस्थान की पुलिस में पटका-पटकी हो गई है!

डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे तब मामला शांत हुआ.

मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी बोले-तबलीगी जमात की वजह से लॉकडाउन बढ़ाना पड़ा

ये भी कहा-तबलीग़ियों का गुनाह हिंदुस्तान के मुसलमानों का का गुनाह नहीं है.

कोरोना का नियम बदला, अब बिना टेस्ट ही घर भेजे जाएंगे कम बीमार मरीज

जानिए क्या है सरकार की नई गाइडलाइंस.

दवा बेची, समाजसेवा की, फिर पता चला ख़ुद ही कोरोना पॉज़िटिव हैं, अब जेल हो गई

बनारस के दवा व्यापारी ने कई लोगों को बांटा कोरोना.

क्या सोशल डिस्टेंसिंग से चूकने की इतनी बुरी सज़ा देगी पुलिस?

किसी एक पुलिसवाले का ऐसा करना बाकियों की मेहनत पर पानी फेर देता है.

उदयपुर में एक ही दिन में कोरोना वायरस के 58 केस सामने आए

राजस्थान में मरीज़ों की संख्या तीन हज़ार से ऊपर पहुंच चुकी है.

सूरत: BJP कार्यकर्ता पर आरोप, घर पहुंचाने के नाम पर मजदूरों से पैसे लिए, टिकट मांगने पर पीटा!

एक अन्य वीडियो में BJP पार्षद के भाई टिकट के ज्यादा पैसे लेते दिखे.

जिस फ़ैक्टरी से निकली गैस ने तबाही मचाई, उसे क्लीयरेंस ही नहीं मिला था!

आबादी के बीच बना रहे थे स्टायरीन प्रोडक्ट.

रेड जोन में भी जल्द से जल्द लॉकडाउन खत्म करने के पक्ष में क्यों हैं मोंटेक सिंह अहलूवालिया?

बोले- लॉकडाउन की वजह से सबसे ज्यादा प्रभावित गरीबों के लिए सरकार योजना लाए.