Submit your post

Follow Us

चला गया पाकिस्तानी आर्मी को सरेंडर कराने वाला

20
शेयर्स

रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल जे एफ आर जैकब ने बुधवार की सुबह आखिरी सांस ली. 92 साल की उम्र हो गई थी.

उनको याद किया जाता है सन 1971 वार के लिए. पाकिस्तान को सरेंडर के लिए मजबूर करने के लिए. बांग्लादेश को आजाद कराने के लिए. इत्ती बड़ी जंग जीती. बीमारी से हार गए.

1971_Instrument_of_Surrender

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी मौत पर अफसोस जताया. ट्वीट किए

जब भारत में अंग्रेजों का राज था तब के बंगाल में इनकी पैदाइश हुई. सन 1923 में. पूरा नाम था रैकब फर्ज रफाएल जैकब. फैमिली ईराक ओरिजिन की थी जो 18वीं सदी में आकर बस गई थी कोलकाता में. 19 साल की उमर में ब्रिटिश इंडियन आर्मी ज्वाइन कर ली. 1942 साल था. वर्ल्ड वार का दौर था ये. ईराक में तैनाती थी.

jacob 2

देश आजाद होने के बाद भी आर्मी में रहे. पाकिस्तान की वाट लगाई सन 65 और 71 के वार में. 1978 में रिटायर हुए. बाद में गोवा और पंजाब के गवर्नर रहे. किताबें भी लिखीं जिनमें से एक उनकी बायोग्राफी है.

Lt._General_(Retd.)_JFR_Jacob_presents_his_books_“An_Odyssey_in_War_and_Peace”_and_“Surrender_at_Dacca”_to_PM_Modi

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अयोध्या : मुस्लिम पक्ष ने कहा, 'केवल हमसे ही सारे सवाल क्यों पूछे जा रहे?'

इस पर हिन्दू पक्ष ने कोर्ट में क्या कह दिया?

राफेल बनाने वालों ने राजनाथ सिंह से ऐसी बात कह दी कि निर्मला सीतारमण का दिल बैठ जाए

टैक्स को लेकर क्या कह दिया?

हिंदू राष्ट्र की बात करते-करते पाकिस्तान की बात क्यों करने लगे संघ प्रमुख भागवत?

मोहन भागवत ने और भी बहुत कुछ कहा है, जो संघ के पुराने विचारों से मेल नहीं खाता.

'राम-राम' नहीं कहा तो अलवर में पति को पीटा, पत्नी के कपड़े उतारने की कोशिश की

पति-पत्नी मुसलमान थे.

भिखारिन के अकाउंट से इतने पैसे मिले कि बैंक भी सकते में है

यहां लाखों नहीं, करोड़ों की बात हो रही है.

क्या है गौतम नवलखा केस, जिसे सुनने से अबतक CJI समेत सुप्रीम कोर्ट के 5 जज इनकार कर चुके हैं

किसी भी जज ने कोई कारण नहीं बताया है, पूर्व जज ने कहा था, कारण बताने से पारदर्शिता बढ़ती है.

टीवी पर शुरू हो रहा है 'दी लल्लनटॉप क्विज' सौरभ द्विवेदी के साथ, पूरी जानकारी पाइए

टीवी के इतिहास का सबसे मस्त क्विज, शनिवार 5 अक्टूबर से.

चिन्मयानंद को बचाने के लिए वकील ने कोर्ट में गजब का तर्क दिया है

और ऐसी बात जिसका केस से कोई संबंध नहीं.

योगी का नया ऐप ये काम कर देगा, किसी ने सोचा भी नहीं था

ये क्या बवाल मोल ले लिया योगी जी ने.

चिन्मयानंद और कुलदीप सेंगर के फोन में ऐसा क्या ख़ास है कि पुलिस उलझ गयी है

माथापच्ची हो रही, लेकिन उनका फोन नहीं खुल पा रहा.