Submit your post

Follow Us

ये सब UP में चलता होगा दिल्ली में नहीं, हाई कोर्ट ने किस बात पर यूपी पुलिस की धज्जियां उड़ा दीं!

दिल्ली हाई कोर्ट ने उत्तर प्रदेश पुलिस को तगड़ी झाड़ लगाई है. तगड़ी मतलब रगड़ दिया ढंग से. यूपी पुलिस ने अपहरण के एक मामले में दिल्ली से दो लोगों को गिरफ्तार किया था. आरोप है कि ऐसा करते हुए उसने कानून का सही ढंग से पालन नहीं किया. बस, दिल्ली हाई कोर्ट को जब इस बारे में पता चला तो उसने यूपी पुलिस से ये तक कह डाला- ऐसा यूपी में चलता होगा यहां नहीं.

मामला क्या है?

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक मामला दिल्ली के एक व्यक्ति और यूपी की एक महिला से जुड़ा है. दोनों ने इसी साल 1 जुलाई को परिजनों की मर्जी के खिलाफ शादी कर ली थी. लड़की के परिवार ने इसकी शिकायत यूपी पुलिस को कर दी. उसने अपहरण का आरोप लगाकर मामला दर्ज कराया. इसके बाद यूपी पुलिस ने दिल्ली आकर लड़के के पिता और भाई को उनके दिल्ली स्थित घर से उठा लिया. ये कार्रवाई बीती 6 अगस्त की देर रात की गई थी. अखबार ने बताया कि इसी पर दिल्ली हाई कोर्ट ने यूपी पुलिस की क्लास लगा दी.

कोर्ट ने क्या-क्या सुना डाला?

खबर के अनुसार दिल्ली हाई कोर्ट की जस्टिस मुक्ता गुप्ता ने यूपी पुलिस से साफ कहा कि इस तरह की ‘अवैध’ कार्रवाई देश की राजधानी में बर्दाश्त नहीं की जाएगी. वे बोलीं,

“ये काम ना यहां दिल्ली में नहीं चलने देंगे. कोई भी अवैध काम. कि आप आए, दिल्ली से लोग उठा लें और कह दें कि हमने तो (यूपी के) शामली से उठाया था और अरेस्ट दिखा दें. ये हम यहां नहीं चलने देंगे. ये दिल्ली में काम नहीं करेगा. ये अवैध कार्रवाई है. हम यहां इसकी अनुमति नहीं देंगे.”

कोर्ट ने ये भी कहा कि इस केस में उत्तर प्रदेश पुलिस ने हर कदम पर क़ानून का उल्लंघन किया है. जस्टिस मुक्ता गुप्ता ने यूपी पुलिस को चेतावनी देते हुए कहा कि वो कोर्ट के सामने शामली रूट की सीसीटीवी रिकॉर्डिंग रखे ताकि पता चले कि असल में गिरफ्तारी कहां से की गई. उन्होंने कहा,

“मैं ना सारे सीसीटीवी निकलवा लूंगी और अगर मुझे ये मिल गया कि शामली पुलिस दिल्ली आई थी तो मैं आप सबके खिलाफ डिपार्टमेंटल इंक्वाली शुरू करवा दूंगी.”

जस्टिस गुप्ता ने कहा कि मामले में किसी भी अवैध गतिविधि की अनुमति नहीं दी जाएगी. पुलिस को क़ानून के अनुसार कार्रवाई करनी होगी.

अदालत की फटकार इसके बाद भी जारी रही. कोर्ट ने आगे कहा,

“अगर आप बिल्कुल आंख बंद करके और दिमाग़ बंद करके काम करते हैं तो इसका हमारे पास कोई इलाज नहीं. आप अपनी मर्ज़ी से किसी को भी उठाकर नहीं ले जा सकते. यही क़ानून कहता है ना?”

अदालत ने इस बात पर हैरानी जताई कि पुलिस महिला तक तो पहुंची नहीं, लेकिन उसके पति के पिता और भाई को गिरफ़्तार करने के लिए जरूर दौड़ पड़ी.

दिल्ली पुलिस ने क्या कहा?

यूपी पुलिस की कार्रवाई पर दिल्ली पुलिस का भी एक पक्ष है. उसके मुताबिक यूपी पुलिस ने उसे बताया कि महिला की मां की शिकायत पर उसने दिल्ली से दो लोगों की गिरफ़्तारी की थी, लेकिन इस कार्रवाई से पहले उसने दिल्ली आने की सूचना यहां की पुलिस को नहीं दी थी.

रिपोर्ट के मुताबिक महिला की उम्र 21 साल है. यानी वो नाबालिग नहीं है. इस जानकारी पर कोर्ट ने यूपी पुलिस से कहा,

“अगर आपको और आपके जांच अधिकारी को नहीं पता कि जांच कैसे की जाती है तो इसका कोई इलाज मेरे पास नहीं है.”

कोर्ट ने ये बात तब कही जब महिला की उम्र पर सवाल उठे थे.

सुनवाई के दौरान अदालत ने पुलिस को तुरंत महिला का बयान लेने का निर्देश दिया. ये भी कहा कि कोर्ट यूपी पुलिस को महिला को अपनी ज्यूरिस्डिक्शन से बाहर ले जाने नहीं देगी. जस्टिस मुक्ता गुप्ता ने कहा,

‘आप वहां (यूपी में) ले जाकर प्रताड़ित नहीं कर सकते. मैं उनको यहां दिल्ली के क्षेत्राधिकार से नहीं जाने दूंगी.’

इससे पहले मंगलवार की सुनवाई में कोर्ट ने निर्देश दिया था कि इस मामले से जुड़े SHO और दूसरे अधिकारी अदालत में पेश हों. गुरुवार को जब दिल्ली हाई कोर्ट ने यूपी पुलिस को खरी-खोटी सुनाई, उस समय ये अधिकारी वहां मौजूद थे.


मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी ने नए सवाल उठाए, कहा- आरोपी गोरखपुर पुलिस को ही क्यों मिले?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

ये वेरिएंट कितना खतरनाक है, ये भी जान लें.

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

हंसी होगी, संगीत होगा और होंगे सौरभ द्विवेदी!

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

ED ने किन मामलों में सत्येंद्र जैन और संजय राउत के परिवारों की करोड़ों की संपत्ति कुर्क की है?

कार्रवाई पर संजय राउत भड़क गए हैं.