Submit your post

Follow Us

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल की सुबह 10 बजे देश को संबोधित किया. तीन ख़ास बातें ये रहीं

1. पूरे देश में लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ा दिया गया.

2. 20 अप्रैल को एक रिव्यू किया जाएगा. जिन ज़िलों से कोरोना के केस लगातार ज़ीरो बने हुए हैं, वहां कुछ छूट दी जा सकती है.

3. लॉकडाउन-2 के लिए गाइडलाइंस 15 अप्रैल, दिन बुधवार को जारी की जाएंगी.

हम तीसरे पॉइंट पर बात करेंगे. गाइडलाइंस में किन-किन बातों का ज़िक्र हो सकता है.

20 अप्रैल का ज़िक्र

गाइडलाइंस में इस बात का ज़िक्र होना तय है कि 20 अप्रैल के बाद के लिए सरकार का क्या प्लान है. संभले हुए हालात वाली जगहों को किन-किन बातों में मामूली छूट दी जा सकती है? किस आधार पर ये फैसला होगा कि फलां ज़िला छूट पाने के योग्य है? और क्या हुआ तो छूट वापस ले ली जाएगी?

मेडिकल सुविधाओं की डिटेल, लॉकडाउन-1 का असर

फिलहाल कितने वेंटिलेटर हैं, कितने पीपीई हैं, कितने टेस्ट हो रहे हैं? क्या ये सब काफी हैं? 3 मई तक इन सबकी सप्लाई बरकरार रखने के लिए क्या योजना है? गाइडलाइंस में इन बातों का ज़िक्र हो सकता है.

साथ ही लोग ये भी जानना चाह रहे हैं कि लॉकडाउन-1 का नतीज़ा कैसा रहा? इसको लेकर भी कुछ फैक्ट बेस्ड बातें सामने आ सकती हैं.

ट्रांसपोर्ट

देशभर में 25 मार्च से ही पब्लिक ट्रांसपोर्ट पूरी तरह बंद हैं. बस, ट्रेन, फ्लाइट सब. लॉकडाउन-2 का ऐलान होते ही सारी ट्रांसपोर्ट बुकिंग भी अगले आदेश तक के लिए रोक दी गई हैं. अब लोगों को उम्मीद है कि गाइलाइंस में इस बात का ज़िक्र हो कि इसको आगे कैसे योजनाबद्ध तरीके से चालू किया जाएगा. फिलहाल तो नहीं, लेकिन कुछ दिन बाद, कुछ बसों या ट्रेनों के संचालन शुरू करने को लेकर कुछ बात की जा सकती है.

उदाहरण के लिए- ज़ीरो केस वाली जगहों से, ज़ीरो केस वाली जगहों के लिए कुछ ट्रेन या बस शुरू हो सकती हैं.

सरकारी दफ्तर

केंद्र सरकार ने अपने सभी मंत्रियों को पूरी एहतियात के साथ दफ्तर से काम करने के लिए कह दिया है. यूपी समेत कुछ राज्यों ने भी मंत्रियों को ऑफिस लौटने के लिए कहा है. सरकारी दफ्तरों में काम-काज अब कैसे धीरे-धीरे शुरू हो, इस बात का ज़िक्र गाइडलाइंस में होना लगभग तय ही है.

दुकानें/राशन

सरकार कह रही है कि कोई कमी नहीं है. पीएम मोदी ने भी ये बात दोहराई. लेकिन हमारे-आपके घरों के आस-पास की दुकानों पर अब धीरे-धीरे कई चीज़ों की किल्लत होने लगी है. इसकी वजह है सामानों के आने-जाने में दिक्कत होना. गाइडलाइंस में इस पर मुकम्मल जानकारी हो सकती है कि ये दिक्कत किस तरह दूर होगी.

कॉलेज/हायर एजुकेशन

ज़्यादातर स्कूलों में बच्चों को बिना परीक्षा दिए प्रमोट कर दिया गया है. अब तो समर वेकेशन का वक्त शुरू हो ही रहा है. समस्या हायर एजुकेशन की है, जहां परीक्षाएं अटकी हुई हैं. एजुकेशन सेक्टर को लेकर भी गाइडलाइंस में कोई बात हो सकती है.

ये सारी गाइडलाइंस दो हिस्सों में बांटकर आ सकती हैं. जो ज़िले हॉटस्पॉट्स बने हैं, उनके लिए. और जो ज़िले हॉटस्पॉट्स नहीं हैं, उनके लिए.


कोरोना वायरस: भारत को लॉकडाउन से फायदा हुआ या नहीं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

फिर से 'ऑफिस ऑफिस' के चक्कर काटने निकल पड़ा है मुसद्दीलाल

पंकज कपूर, संजय मिश्रा और मनोज पाहवा ने इसमें अहम रोल किए थे

परेश रावल ने बेटे को फुटबॉल खेलने से क्यों मना कर दिया था?

इंटरव्यू में उन्होंने बेटे की तुलना खुद से किए जाने पर भी जवाब दिया है.

रमीज़ राजा भड़के, बोले कि इन दागी क्रिकेटर्स को किराने की दुकान खुलवा दो

बाबर आज़म कोहली से बेहतर हैं लेकिन...

जौनपुर: चलते लंगर के पीछे से कुछ और 'खेल' करते BJP नेता का बेटा अरेस्ट हो गया

सोसायटी वाले कई दिनों से ग़लत काम करने से रोक रहे थे.

लॉकडाउन: क्या बिहार से बाहर फंसे लोगों को नीतीश सरकार 1000 रुपये दे रही है?

कोरोना वायरस और बिहार को लेकर पोस्ट वायरल हो रही है.

PM मोदी ने देश में लॉकडाउन बढ़ाने के बाद अपनी DP बदल ली

फेसबुक और टि्वटर पर फोटो बदली है.

पीटरसन ने क्यों कहा- आसिफ पर बैन लगने से बहुत खुश हुए थे कई सारे बैट्समेन?

केविन पीटरसन ने शेयर की दिल की बात!

कोरोना वायरस के टाइम में सलमान खान के इलाके के लोगों की मदद कर रहे संजय दत्त

सलमान जब फार्महाउस पर बैठे हैं, तब संजय दत्त ने ऋतिक रोशन का रास्ता पकड़ लिया.

डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ के कोरोना पॉज़िटिव आने के बाद इस राज्य में छह अस्पताल बंद किये गए

अस्पतालों की लापरवाही सामने आई है.

रामायण के 'लक्ष्मण' ने खुद पर बने मज़ाकिया मीम्स को लेकर क्या कहा?

सुनील लहरी ने निभाया था लक्ष्मण का किरदार.