Submit your post

Follow Us

मार्टिन क्रो - वो कप्तान जिसने स्पिनर को बॉलिंग की शुरुआत करने के लिए भेजना शुरू किया

18 फ़रवरी, 2015. वेलिंग्टन में खेला जा रहा दूसरा टेस्ट. न्यूज़ीलैंड वर्सेज़ इंडिया. ब्रेंडन मैकुलम अपने शबाब पर थे. साढ़े पांच सौ गेंद खेलकर 298 रन. 200वें ओवर की पहली गेंद पर ज़हीर को कट मारा और ब्रेंडन ने अपना स्कोर 300 के पार पहुंचाया. पूरा मैदान तालियों से भर गया. ये पहली बार हो रहा था कि न्यूज़ीलैंड का कोई बैट्समैन 300 के पार पहुंचा था.

हर कोई खड़ा था और हाथ पीट रहा था. पवेलियन से कुछ दूर खड़ा एक शख्स सबसे ज़्यादा ख़ुश दिखाई पड़ रहा था. नीली चेक शर्ट पहने, चश्मा लगाये. जवानी के दिनों में ये काफी चौड़ा हुआ करता था मगर अभी कुछ कमजोर दिख रहा था. हांलाकि उसके चेहरे पे वही चमक थी. ऐसा मालूम पड़ रहा था जैसे कि उसके ही बेटे ने 300 मार दिए हों.

ये शख्स था मार्टिन क्रो. ब्रेंडन ने अभी-अभी इन्हीं का रिकॉर्ड तोडा था. मार्टिन ने श्री लंका के खिलाफ़ फ़रवरी 1991 में 523 गेंदें खेल 299 रन बनाए थे. 1991 काफी पसंद है मुझे. मेरी पैदाइश का साल.

मैंने क्रो को खेलते देखा है. यूट्यूब पर. एंड्रू जोन्स के साथ उनकी 467 रनों की पार्टनरशिप देखी है. ऐसा मालूम देता है कि स्पिनरों को आगे बढ़ के छक्का मारने में कोई क्रैश कोर्स किया था. पैरों में करेंट दौड़ता था. क्रीज़ में एक जगह रुकना सीखा ही नहीं था कभी. दुनिया को ऑफ स्टम्प से बाहर निकल के विकेटों के पीछे स्वीप करना इन्होंने ही सिखाया.

41217-pst
सेंचुरी मारने के बाद फैन्स के प्यार (जो कि एक धोका है) से जूझते मार्टिन क्रो.

1992 का वर्ल्ड कप. आधिकारिक नाम – बेनसन एंड हेजेज़ वर्ल्ड कप. इसे मार्टिन क्रो का वर्ल्ड कप भी कहा जाता है. मार्टिन ने 9 मैचों में 456 रन बनाए और टूर्नामेंट के सबसे बड़े रन स्कोरर बने. वो बतौर न्यूज़ीलैंड के कप्तान खेल रहे थे. इस कप में सिर्फ़ मार्टिन की बल्लेबाजी ही वो एक बात नहीं थी जो दर्शनीय थी.

उन्होंने कप्तान के तौर पर कुछ ऐसे फ़ैसले लिए जिन्हें क्रिकेट के आधुनिक होने की पहली सीढ़ी कहा जा सकता है. वो मार्टिन क्रो ही थे जिन्होंने एक स्पिनर को पहला ओवर फेंकने के लिए गेंद थमा दी. इसके अलावा वो मार्टिन क्रो ही थे जिन्होंने क्रिकेट की दुनिया को पिंच-हिटर के सिद्धांत से रूबरू करवाया.

ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ स्पिनर दीपक पटेल को उन्होंने बॉलिंग की ओपनिंग के लिए भेजा और वर्ल्ड कप के दौरान ही उन्होंने मार्क ग्रेटबैच को पिंच हिटर के तौर पर बैटिंग लाइन-अप में ऊपर भेजना शुरू कर दिया. दीपक पटेल को कतई विश्वास नहीं था कि वो नई गेंद से ओपनिंग कर सकते हैं. लेकिन दुनिया के तमाम बल्लेबाजों से कहीं ज़्यादा उन्हें खुद उनके कप्तान ने पढ़ लिया था. ऑस्ट्रेलिया को न्यूज़ीलैंड ने पहले ही मैच में हरा दिया. खुद क्रो ने 100 रन बनाये. दीपक ने 10 ओवर में मात्र 36 रन दिए.

सेमी फाइनल में न्यूज़ीलैंड ने पाकिस्तान को रौंदने की पूरी तैयारी कर ली थी. स्वयं क्रो ने 83 गेंद में 91 रन मारे. पाकिस्तान को 1992 का वर्ल्ड कप जिताने वाले और इस देश के इतिहास के महानतम ऑल राउंडर इमरान खान को 10 ओवर में 59 रन खाने पड़े थे. बैटिंग करते हुए मार्टिन ने अपनी हैमस्ट्रिंग खींच ली थीं.

उन्हें लगा 262 का टोटल स्कोर बहुत है पाकिस्तान के लिए. वो अपना पैर फाइनल के लिए बचा के रखना चाहते थे. न्यूज़ीलैंड जब फ़ील्डिंग करने उतरी तो दिखाई दिया कि कप्तान मार्टिन क्रो मैदान में उतरे ही नहीं हैं. मालूम पड़ा कि वो अपने पैर के लिए फ़िक्रमंद थे लिहाज़ा ड्रेसिंग रूम में ही आराम कर रहे थे. उनकी जगह जॉन राइट कप्तानी संभाल रहे थे.

न्यूज़ीलैंड (पढ़ें मार्टिन क्रो) के मन में ये विचार था कि न्यूज़ीलैंड वो मैच हार नहीं सकता था. खुद जावेद मियांदाद ने अपनी आत्मकथा ‘द कटिंग एज’ में लिखा,

‘ईडेन पार्क की बाउंड्री हांलाकि छोटी ही थीं लेकिन 50 ओवर में 263 का टार्गेट कोई आसान काम नहीं था. इसके अलावा हमने पूरे टूर्नामेंट में दूसरी इनिंग्स में बैटिंग करते हुए 263 या उससे ज़्यादा रन नहीं बनाए थे. हम सभी काफ़ी नर्वस थे.’

पाकिस्तान की टीम 35 ओवर में 140 रन पर 4 विकेट खो चुकी थी. जावेद ने लिखा,

‘इंज़ी मेरे पास सलाह लेने के लिए आया. वो नर्वस लग रहा था और ऐसा मालूम दे रहा था जैसे उसने कोई प्रेत देख लिया हो.’


पूरे टूर्नामेंट में नए बल्लेबाजों पर शुरुआत से ही दबाव बना कर उन्हें फ़ैलने न देने की प्लानिंग मार्टिन क्रो की सबसे बड़ी निशानी थी. यहीं जॉन राइट कुछ और कर बैठे. उन्होंने गेविन लार्सेन और क्रिस हैरिस को अटैक पर लगाए रखा और इंज़माम को खुलकर रन बनाने का मौका मिल गया. पाकिस्तान को अब जीतने के लिए 13 ओवर में 104 रन चाहिए थे.

ड्रिंक्स ब्रेक में बाथरूम जाने का बहाना बना कर जॉन राइट ड्रेसिंग रूम में गए और मार्टिन क्रो से बॉलिंग प्लान के बारे में पूछा. मार्टिन ने उनसे कहा कि स्पिनर दीपक पटेल और एंड्रू जोन्स से लगातार गेंदबाज़ी करवाई जाए. जॉन ने दूसरी गलती की. उन्होंने जोन्स से बॉल ही नहीं फिंकवाई.

इस कारण अंत में जब पाकिस्तान को 5 ओवर में 36 रन  चाहिए थे, क्रिस हैरिस को गेंद फेंकनी पड़ी. इससे पहले इंज़माम ने मोईन खान के साथ मिलकर जीत की ज़मीन तैयार कर दी थी. उन्होंने 31 गेंद में पचासा पूरा किया. और मोईन खान के साथ 87 रन की पार्टनरशिप बनाकर पाकिस्तान को दोबारा जिला दिया था. 


inzimam ul haq vs new zealand 1992 world cup

क्रो इस हार के लिए खुद को दोषी ठहराते हैं. उन्होंने कहा,

‘मैं फ़ील्डिंग करते हुए खुद को और भी चोटिल कर लेते हुए फाइनल में न खेल पाने और खुद को आराम देने और फाइनल में उपलब्ध रहने के बीच फंस गया था. मैं एक तीर से दो शिकार करने के फ़िराक में था. मैंने सोचा कि मेरी टीम जीत भी जाएगी और मैं फाइनल में फिट भी हो जाऊंगा.’

लेकिन ये नहीं हो सका. उस रोज़ मार्टिन क्रो की न्यूज़ीलैंड टीम और वर्ल्ड कप फाइनल के बीच इंज़माम-उल-हक़ डटकर खड़े हो गए. और सालों बाद यहीं दिखाई दिया एक कमाल का इत्तेफ़ाक. तारीख का इत्तेफ़ाक. मार्टिन क्रो को जीवन भर का मलाल देने वाले इंज़माम की पैदाइश और मार्टिन क्रो की मौत की तारीख – 3 मार्च.

2012 में मार्टिन को लिंफोमा हो गया. ब्लड सेल ट्यूमर बना लेते हैं. एक तरह का कैंसर समझिये. 7 महीने में मार्टिन ने उसे भी हरा दिया. डॉक्टरों ने क्लीन चिट दे दी. लेकिन 2014 में फिर से ये बीमारी हो गयी. सेकंड इनिंग्स में मार्टिन फॉलो ऑन खेल गए. इस बार ये बीमारी लाइलाज बन के आई. 3 मार्च 2016 की सुबह मार्टिन की ऑकलैंड में मौत हो गयी. उनका परिवार उनके साथ ही था. न्यूज़ीलैंड और ICC की हॉल ऑफ़ फेम में शामिल हो मार्टिन अब एक दूसरी दुनिया में पहुंच चुके थे.

मार्टिन क्रो की अंतिम यात्रा के दौरान उनके लिए सांस्कृतिक वॉर डांस परफॉर्म करते उस स्कूल के बच्चे जहां मार्टिन क्रो पढ़ा करते थे:


ये भी पढ़ें:

क्रिकेट के इतिहास का सबसे लंबा मैच, जो ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रहा था

पाकिस्तानी फैन ने कोहली को PSL में खेलने बुलाया, सोशल मीडिया मजे लेने पर उतारू हो गया

शारदुल ठाकुर साउथ अफ्रीका टूर से एयरपोर्ट पर उतरे, घर जाने के लिए लोकल पकड़ ली

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

WTC फाइनल के बाद ही टीम इंडिया ने कर दी थी कोहली से बग़ावत?

WTC फाइनल के बाद ही टीम इंडिया ने कर दी थी कोहली से बग़ावत?

ये तो अलग ही कहानी है.

रोहित के फेवरेट ने क्यों ठुकराया टीम इंडिया की कोचिंग का ऑफर?

रोहित के फेवरेट ने क्यों ठुकराया टीम इंडिया की कोचिंग का ऑफर?

ये आते तो कमाल ही हो जाता.

धोनी के मेंटॉर बनने का ये वाला फायदा तो शायद ही किसी ने सोचा होगा!

धोनी के मेंटॉर बनने का ये वाला फायदा तो शायद ही किसी ने सोचा होगा!

वीरू ने बताई कायदे की बात.

इस्तीफे के बाद बोले अमरिंदर - सिद्धू के पाकिस्तान से कनेक्शन, वो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा

इस्तीफे के बाद बोले अमरिंदर - सिद्धू के पाकिस्तान से कनेक्शन, वो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा

कैप्टन ने अपने राजनीतिक भविष्य पर भी बड़ी बात कही.

मुंबई के खिलाफ उतरने से पहले बढ़ गया धोनी का सरदर्द!

मुंबई के खिलाफ उतरने से पहले बढ़ गया धोनी का सरदर्द!

ये तो बहुत गड़बड़ ख़बर है.

आयकर विभाग का दावा, सोनू सूद ने करोड़ों की अवैध विदेशी फंडिंग, फर्जी लेनदेन और टैक्स चोरी की

आयकर विभाग का दावा, सोनू सूद ने करोड़ों की अवैध विदेशी फंडिंग, फर्जी लेनदेन और टैक्स चोरी की

विभाग बोला, सूद ने फर्जी लोन और रसीदों के जरिए वित्तीय धोखाधड़ी को अंजाम दिया!

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस्तीफा दिया

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस्तीफा दिया

विधायकों की मीटिंग से पहले सौंप दिया इस्तीफा.

शार्दुल ठाकुर को किसने सिखाया बल्ला पकड़ने का तरीका?

शार्दुल ठाकुर को किसने सिखाया बल्ला पकड़ने का तरीका?

माही से बेहतर टिप्स कौन देगा?

'चीन और इस्लामिक देश करीब आ रहे हैं', बिपिन रावत के बयान को विदेश मंत्रालय ने नकारा!

'चीन और इस्लामिक देश करीब आ रहे हैं', बिपिन रावत के बयान को विदेश मंत्रालय ने नकारा!

एस जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री से कहा- भारत और चीन को एक दूसरे के प्रति सम्मान की भावना रखनी होगी.

कैप्टन विराट कोहली से बात नहीं कर रहा BCCI?

कैप्टन विराट कोहली से बात नहीं कर रहा BCCI?

पूर्व सेलेक्टर को तो यही लगता है.