Submit your post

Follow Us

प्रेस कॉन्फ्रेंस में महिला पत्रकार के गाल छूने वाले गवर्नर अब नीयत पर सफ़ाई देंगे?

तमिलनाडु के गवर्नर बनवारीलाल पुरोहित का नाम बीते कुछ दिनों से काफी चर्चा में है. अच्छी नहीं, बुरी वजहों से. मदुरई की कामराज यूनिवर्सिटी की प्रफेसर हैं निर्मला देवी. उनके खिलाफ कुछ स्टूडेंट्स ने ऐसी शिकायत की थी कि वो स्टूडेंट्स को सेक्स के बदले डिग्री दिलवाती हैं. यानी वो स्टूडेंट्स को कॉलेज के प्रफेसर्स के साथ ‘सेट’ करती हैं और बदले में उन्हें डिग्री दिलवाती हैं. पूछताछ में निर्मला ने दावा किया था कि उनकी जान-पहचान गवर्नर से है. जिसके बाद से गवर्नर पर ये आरोप लगने लगे कि उनकी शह में यूनिवर्सिटी के अंदर सेक्स रैकेट चल रहे हैं.

banwarilal purohit
बनवारीलाल पुरोहित नागपुर से तीन बार सांसद रह चुके हैं. इससे पहले वो असम के गवर्नर नियुक्त किए थे.

मगर आज जिस वजह से बनवारीलाल पुरोहित गूगल सर्च पर कीवर्ड बने हुए हैं, वो उनकी प्रेस कॉन्फ्रेंस है. जो उन्होंने ये सफाई देने के लिए बुलाई थी कि निर्मला देवी नाम की महिला से उनकी कोई जान-पहचान नहीं है. और सफाई देने के सिलसिले में महिला पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमनियन के सवाल को टालने के लिए उन्होंने लक्ष्मी का गाल थपथपा दिया.

जब उनको आईना दिखाया गया, तो पुरोहित ने इस तरह माफ़ी मांगी:

apologise

मदुरई के देवांग आर्ट्स कॉलेज में इस मसले की शिकायत महीने भर पहले ही हो चुकी थी. मगर पुलिस तक तब पहुंची जब प्रफेसर निर्मला का एक ऑडियो क्लिप वायरल हो गया. जिसमें वो पैसों का हिसाब कर रही थीं.

अपने बचाव में पुरोहित ने कहा :

‘मैं उस महिला को नहीं जानता. मैं पॉलिटिक्स से दूर हूं. अगर जांच में पाया गया कि ऐसा सच में हुआ है तो इसके खिलाफ कड़े कदम उठाए जाएंगे. इसके आगे कुछ भी जांच के बाद ही कहा जा सकता है.’

यौन शोषण के एक केस से खुद को बचाते हुए पुरोहित ने खुद ऐसा काम कर दिया है, जिसे यौन शोषण के दायरे में देखा जा रहा है. मीडिया में अपनी छवि सुधारने चले थे, अब बिगाड़ आए हैं. सिर्फ इसलिए, क्योंकि वो अपनी सत्ता को काबू में नहीं रख पाए. सत्ता 3 तरह की:

1. उम्र में पत्रकार से कई साल बड़े होने की
2. बड़े ओहदे पर होने की
3. पुरुष होने की

द वीक की पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमनियन ने अपने गुस्से को जब ट्विटर पर जाहिर किया तो लोगों ने उनका साथ देने के बजाय उनपर ‘ओवरऐक्टिंग’ करने का आरोप लगाया. कहा कि लक्ष्मी को उन्हें पिता की हैसियत से देखना चाहिए. वो उम्र में इतने बड़े हैं. वगैरह-वगैरह. कितनी कमाल की बात है न? अगर एक 40 साल का पुरुष एक 13 साल की लड़की के कपड़ों में हाथ डाल दे, तो क्या उसे भी पिता की तरह देखना चाहिए? अब आप कहेंगे कि कपड़ों में हाथ डालने और गाल छूने में फर्क है.

sc 1
सोर्स: ट्विटर
sc 2
सोर्स: ट्विटर

फर्क है. मगर दो बातों पर हमें गौर करना चाहिए:

1. यौन शोषण हुआ है या नहीं, ये पीड़ित ही तय कर सकता है. क्योंकि यौन शोषण करने वाला ये कभी नहीं कहेगा कि उसकी नीयत बुरी थी. 2. यौन शोषण की कोई कैटेगरी नहीं होती. वो किसी को घूरने से लेकर किसी का रेप करने तक हो सकता है.

 

सवाल ये नहीं है कि पुरोहित की नीयत क्या थी. सवाल ये है कि बिना इजाज़त आप किसी को हाथ लगाएंगे ही क्यों, खासकर तब, जब आप उसे जानते ही नहीं. इससे फर्क नहीं पड़ता कि वो पत्रकार औरत है या पुरुष, भरी प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकार के सवाल का जवाब देने के बजाय आप इस तरह उसका गाल थपथपा कर उसे टाल दें, जैसे आपके ओहदे के सामने पत्रकार की कोई औकात है ही नहीं, इसमें ‘दादाजी वाली फीलिंग’ कहां से आती है?

sc 3

और जहां तक बात है लक्ष्मी सुब्रमनियन की, ये उनकी ज़िम्मेदारी या फ़र्ज़ नहीं है कि वो पुरोहित या किसी और की ‘नीयत’ को समझें. उन्हें शोषित महसूस हुआ है तो वो आवाज उठाएंगी ही. आवाज उठाने के पहले कोई औरत इस बात का इंतज़ार नहीं करेगी कि उसके साथ कोई और बड़ी, बुरी हरकत हो. फ़र्ज़ तो सिर्फ और सिर्फ पुरोहित का बनता है कि वो अपने हाथ और सत्ता को वश में रखें. और 80 की उम्र में अपनी छीछालेदर न करवाएं.

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.