Submit your post

Follow Us

राजस्थान में CM अशोक गहलोत की बात आखिरकार गवर्नर कलराज मिश्र मान गए

राजस्थान की राजनीति में जमकर उठा-पटक मची हुई है. सीएम गहलोत पिछले कई दिनों से चाह रहे थे कि विधानसभा सत्र बुलाया जाए, लेकिन राज्यपाल कलराज मिश्र की तरफ से मंज़ूरी नहीं मिल रही थी. लेकिन आखिरकार 29 जुलाई की शाम को परमिशन मिल गई. राज्यपाल ने विधानसभा सत्र को 14 अगस्त से शुरू करने की मंज़ूरी दे दी है. इसके अलावा इस सत्र के दौरान कोरोना से बचने के लिए सभी ज़रूरी इंतज़ाम करने के भी मौखिक तौर पर निर्देश दिए हैं.

राज्यपाल ने सेशन बुलाने में हुई देरी के पीछे स्टेट कैबिनेट को ही वजह बताया है. उनका कहना है कि कैबिनेट महामारी के दौर में इतने शॉर्ट नोटिस पर मॉनसून सेशन क्यों बुलाना चाहती है, इसका कारण स्पष्ट नहीं किया था. 29 जुलाई की सुबह गवर्नर ने तीसरी बार इस प्रपोज़ल को मना कर दिया था. गवर्नर का कहना था कि सत्र बुलाने से पहले 21 दिन का नोटिस दिया जाए या फिर अर्जेंट नोटिस पर सत्र बुलाने की वजह को स्पष्ट किया जाए.

राजस्थान कैबिनेट ने 23 जुलाई के बाद से गवर्नर को तीन बार सत्र बुलाने के प्रपोज़ल भेजे. तीनों बार न में जवाब मिला था. उसके बाद कैबिनेट ने 21 दिन पहले नोटिस भेजने वाले निर्देश पर काम किया. और एक नया प्रपोज़ल राज्यपाल को भेजा. राजस्थान के कानून और संसदीय मामलों के मंत्री शांति कुमार धारीवाल ने बताया कि 14 अगस्त की तारीख को इसलिए चुना गया, क्योंकि कैबिनेट ने सत्र बुलाने के लिए पहला प्रपोज़ल गवर्नर को 23 जुलाई के दिन भेजा था, और तब से 14 अगस्त तक 21 दिन होते हैं.

29 जुलाई की सुबह जब तीसरी बार प्रपोज़ल वापस आया था, तब सीएम गहलोत पार्टी नेताओं और विधायकों से पार्टी ऑफिस में एक सेरेमनी के दौरान मिले. यहां गोविंद सिंह डोटासरा ने औपचारिक तौर पर कांग्रेस के स्टेट प्रेसिडेंट का चार्ज संभाला. सेरेमनी में गहलोत ने कहा था,

“आज फिर हमें कहा गया कि हम 21 दिन में इसे (सत्र) बुला सकते हैं. लव लेटर आ गया है और अब मैं उनके (गवर्नर) साथ चाय पीने जा रहा हूं. कि भाई आपने प्रेम पत्र तीसरी बार भेज दिया. आप चाहते क्या हैं?”

इस सेरेमनी के बाद गहलोत राजभवन गए. फिर कैबिनेट मीटिंग की. स्पीकर सी.पी. जोशी ने भी गवर्नर से मुलाकात की.

इतने दिनों से हो क्या रहा था?

सीएम गहलोत असेंबली सेशन बुलाना चाहते थे. उनका कहना था कि इसमें कोरोना को लेकर चर्चा की जाएगी. हालांकि अटकलें यह हैं कि गहलोत इस सेशन के जरिए बहुमत परीक्षण कराना चाहते हैं. वहीं राज्यपाल कलराज मिश्र का कहना था कि विधानसभा सत्र बुलाने के लिए 21 दिन पहले नोटिस देना होता है. अगर कुछ विशेष हालात हैं, तो अलग बात है. इसका जिक्र कैबिनेट को करना चाहिए. मामला यहीं पर अटका हुआ था. गहलोत सामान्य चर्चा के लिए 31 जुलाई से विधानसभा सत्र बुलाने की मांग पर अड़े थे और कलराज मिश्र 21 दिन के नोटिस पर. वो कोरोना काल का भी जिक्र कर रहे थे. हालांकि अब सत्र को लेकर हालात साफ होते दिख रहे हैं. विधानसभा में कोरोना पर चर्चा होगी, या बहुमत परीक्षण, ये 14 अगस्त को देखेंगे.


वीडियो देखें: राजस्थान के राज्यपाल और पूर्व BJP नेता कलराज मिश्र क्या संविधान के मुताबिक चल रहे हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ईरान ने समुद्री डाकुओं को रिहा किया और 11 भारतीय नाविकों को तस्कर बताकर जेल में डाल दिया!

ढाई महीने हो गए, कहीं कोई खोज ख़बर नहीं.

सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ FIR दर्ज़ करवाई

सुशांत ने 14 जून को सुसाइड कर लिया था.

अयोध्या में 5 अगस्त के भूमि पूजन को लेकर क्या-क्या तैयारियां चल रही हैं

रामलला की पोशाक से लेकर अयोध्या में रंग-रोगन तक की सारी बातें.

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को हड़काया, दिल्ली दंगे में पिंजरा तोड़ पर ऐसी बयानबाज़ी क्यों?

पुलिस ने क्या जवाब दिया, वो भी देखिए.

जिस मेट्रो स्टेशन के नीचे दंगे हुए, 5 महीने बाद भी दिल्ली पुलिस ने वहां से CCTV फ़ुटेज नहीं निकाली!

कोर्ट ने कहा, 'पुलिस में अजीब-सी सुस्ती है वीडियो फ़ुटेज को लेकर'

मास्क बांटने के बहाने बच्चे को किडनैप किया, चार करोड़ मांगे, पुलिस ने 24 घंटे में पकड़ लिया

यूपी के गोंडा का मामला, पांच आरोपी भी गिरफ्तार.

चुनाव आयोग ने बीजेपी IT सेल से जुड़ी कंपनी से चुनावी कामधाम करवाया!

ये कम्पनी पूर्व महाराष्ट्र सरकार और दूसरे सरकारी विभागों का भी काम देख रही थी.

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.