Submit your post

Follow Us

बैन के खतरे के बीच PUBG ने भारत के लिए अपनी प्राइवेसी पॉलिसी बदल डाली है

इधर जब PUBG Mobile के बैन होने न होने पर सोशल मीडिया पर पूरी गर्म-जोशी के साथ बहस चल रही थी, तब PUBG ने इंडिया के लिए अपनी प्राइवसी पॉलिसी ही बदल डाली. गेम चालू करते ही ऐप बताती है कि देखो भइया, हमने अभी-अभी इंडिया के लिए अपनी प्राइवसी पॉलिसी अपडेट की है.

आगे बढ़ने पर बड़ा लम्बा सा फर्रा खुलता है. ऊपर PUBG की प्राइवसी पॉलिसी की समरी या सारांश है और नीचे पूरी की पूरी की पॉलिसी. PUBG मोबाइल बताता है कि ये आपकी जानकारी को कहां रखता है और कैसे यूज़ करता है.

नई प्राइवसी पॉलिसी के पीछे बैन का है डर?

इस साल जून के आखिर में भारत सरकार ने टिकटॉक समेत 57 चायनीज़ ऐप्स पर बैन लगा दिया. क्यों? प्राइवसी और डेटा सिक्योरिटी के चलते. हाल ही में सरकार ने 47 और ऐप्स पर बैन लगा दिया है. इनकी लिस्ट नहीं दी गई. हालांकि, बताया गया कि ये पहले से बैन की हुई चायनीज़ ऐप्स की लाइट वर्ज़न या फिर क्लोन थीं.

Pubg Pp 0
नई पॉलिसी का नोटिफ़िकेशन दे रहा है PUBG मोबाइल.

साथ ही साथ ये ख़बर भी आई कि सरकार 275 दूसरी ऐप्स की जांच कर रही है. इनमें PUBG मोबाइल भी शामिल है. ‘PUBG मोबाइल’ के चाइना कनेक्शन और प्राइवसी पॉलिसी पर सवाल उठे. ऐसे में पब्जी ने अपनी पॉलिसी में बदलाव कर दिया.

आपकी कौनसी जानकारी PUBG के पास है?

गेम में अपनी प्रोग्रेस सेव करने के लिए आपको PUBG मोबाइल के साथ अकाउंट बनाना होता है. इसके लिए आपको कुछ जानकारी देनी होती है, जैसे कि अपना नाम, ईमेल आईडी. अगर आप अकाउंट बनाने के लिए फ़ेसबुक, ट्विटर या गूगल प्ले का इस्तेमाल करते हैं तो आपका नाम, प्रोफ़ाइल पिक्चर, फ़्रेंड लिस्ट, और यूज़र आईडी PUBG मोबाइल के साथ शेयर होती है.

Pubg Pp 2
PUBG मोबाइल प्राइवसी पॉलिसी.

इसके अलावा गेम खेलते हुए PUBG मोबाइल के पास आपके आईपी ऐड्रेस के साथ-साथ डिवाइस आईडी और डिवाइस इन्फॉर्मेशन जाती है. जिसमें शामिल है— बैटरी लेवल, वाइफ़ाई स्ट्रेंथ, फ़ोन में कितनी RAM और स्टोरेज है, ऑपरेटिंग सिस्टम कौन सा है, कंट्री कोड क्या हैआदि आदि. PUBG ऐप के वर्जन और ऐप के चैट डेटा और इवेंट रजिस्ट्रेशन आदि की जानकारी तो पब्जी के पास होती ही है.

जानकारी कहां इस्तेमाल होती है?

PUBG मोबाइल का कहना है कि इस जानकारी को गेम सर्विस चलाने के लिए, अकाउंट वेरिफ़ाई करने, और सिक्योरिटी के लिए इस्तेमाल किया जाता है. अगर आप गेम में कोई ख़रीद करते हो तब भी आपकी जानकारी का इस्तेमाल होता है. इसके साथ ही गेम में गड़बड़ी वग़ैरह को भी पहचानने के लिए होता है.

आपकी जानकारी कहां रखी जाती है?

Pubg Pp 1
PUBG मोबाइल प्राइवसी पॉलिसी.

PUBG मोबाइल का कहना है कि इसके सर्वर इंडिया, सिंगापुर, हॉन्ग कॉन्ग, और अमेरिका में हैं. इंडियन यूज़र का डेटा इंडिया वाले सर्वर में स्टोर होता है. कंपनी का ये भी कहना है कि इसकी सपोर्ट, इंजिनियरिंग और दूसरी टीमें कई अलग-अलग देशों में बैठी हैं, जिनमे इंडिया भी शामिल है. इंडियन यूज़र के डेटा का ऐक्सेस इंडिया में बैठी टीम के पास ही होता है.

अगर आप अपना अकाउंट डिलीट कर देते हैं तो PUBG मोबाइल अगले सात से 30 दिन में आपके डेटा को डिलीट कर देता है.


वीडियो: पांच मिनट में ही फोन की बैटरी 50% चार्ज हो जाएगी, पर कैसे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ईरान ने समुद्री डाकुओं को रिहा किया और 11 भारतीय नाविकों को तस्कर बताकर जेल में डाल दिया!

ढाई महीने हो गए, कहीं कोई खोज ख़बर नहीं.

सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ FIR दर्ज़ करवाई

सुशांत ने 14 जून को सुसाइड कर लिया था.

अयोध्या में 5 अगस्त के भूमि पूजन को लेकर क्या-क्या तैयारियां चल रही हैं

रामलला की पोशाक से लेकर अयोध्या में रंग-रोगन तक की सारी बातें.

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को हड़काया, दिल्ली दंगे में पिंजरा तोड़ पर ऐसी बयानबाज़ी क्यों?

पुलिस ने क्या जवाब दिया, वो भी देखिए.

जिस मेट्रो स्टेशन के नीचे दंगे हुए, 5 महीने बाद भी दिल्ली पुलिस ने वहां से CCTV फ़ुटेज नहीं निकाली!

कोर्ट ने कहा, 'पुलिस में अजीब-सी सुस्ती है वीडियो फ़ुटेज को लेकर'

मास्क बांटने के बहाने बच्चे को किडनैप किया, चार करोड़ मांगे, पुलिस ने 24 घंटे में पकड़ लिया

यूपी के गोंडा का मामला, पांच आरोपी भी गिरफ्तार.

चुनाव आयोग ने बीजेपी IT सेल से जुड़ी कंपनी से चुनावी कामधाम करवाया!

ये कम्पनी पूर्व महाराष्ट्र सरकार और दूसरे सरकारी विभागों का भी काम देख रही थी.

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.