Submit your post

Follow Us

ईडन गार्डन्स में उतरेंगे भारत और बांग्लादेश के 42 प्लेयर्स

साल था 2000 और जगह थी ढाका का बंगबंधु नेशनल स्टेडियम. नवंबर के महीने में सौरव गांगुली की कप्तानी वाली भारतीय क्रिकेट टीम बांग्लादेश के दौरे पर थी. यहां टीम को एक टेस्ट मैच खेलना था. खास बात यह थी कि इस टेस्ट मैच के जरिए कुल 14 प्लेयर्स ने टेस्ट डेब्यू किया. टेस्ट क्रिकेट शुरू होने के सवा सौ साल से ज्यादा वक्त में ऐसे मौके कम ही आए थे जब एक साथ इतने प्लेयर्स ने डेब्यू किया हो. भारत ने इस टेस्ट को 9 विकेट से जीता था. स्पिनर सुनील जोशी को मैन ऑफ द मैच चुना गया था.

इससे पहले कि आप सोचें कि ऐसा क्यों हुआ… हम बता देते हैं. दरअसल इस टेस्ट के जरिए बांग्लादेश टेस्ट क्रिकेट में एंट्री कर रहा था. यह बांग्लादेश का पहला क्रिकेट टेस्ट मैच था. हम आज इसकी बात क्यों कर रहे हैं? क्योंकि यहां खेले लगभग सारे प्लेयर्स एक बार फिर से इकट्ठा होने वाले हैं.

# दादा की तैयारियां

जैसा कि सभी जानते हैं कि दादा ने भारत के पहले डे-नाइट क्रिकेट टेस्ट को भव्य बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. इस सिलसिले में उन्होंने बहुत सारे मेहमानों के साथ बांग्लादेश के पहले क्रिकेट टेस्ट में खेले सभी प्लेयर्स को भी बुलाया है.

हाल ही में BCCI के प्रेसिडेंट बने सौरव गांगुली ने पहले तो बांग्लादेश को ईडन में डे-नाइट टेस्ट खेलने के लिए मनाया और फिर इस इवेंट को इतना बड़ा करने की तैयारी कर ली है कि जिसका जवाब नहीं है.

सौरव ने पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन, चंदू बोर्डे और नारी कॉन्ट्रैक्टर जैसे पूर्व भारतीय क्रिकेटर्स को न्यौता भेजा है. हालांकि नवंबर 2000 में हुए इस ऐतिहासिक टेस्ट में खेले ज़हीर खान और युवराज सिंह दुबई में चल रही T10 लीग में खेल रहे हैं जिसके चलते उन्होंने ईडन आने से मना कर दिया है.

रेड FM के साथ एक इंटरव्यू में दादा के नाम से मशहूर गांगुली ने कहा,

‘यह एक खास मैच है. गणमान्य लोग आ रहे हैं. पूर्व कप्तान लोग आ रहे हैं. साल 2000 में भारत के खिलाफ पहली बार टेस्ट मैच खेलने वाली बांग्लादेश की टीम आ रही है. सबको सम्मानित किया जाएगा. मेरी कॉम, पीवी सिंधु, अभिनव बिंद्रा, पुलेला गोपीचंद… सब यहीं होंगे. सबका सम्मान होगा.’

# बड़ी-बड़ी तैयारियां

दादा ने इस मैच को खास बनाने के लिए काफी तैयारियां की है. मैच के दौरान स्टेडियम में पिंक लाइट का इस्तेमाल किया जाएगा. स्कोरकार्ड भी इसी रंग का होगा. ना सिर्फ स्टेडियम बल्कि शहर की बाकी महत्वपूर्ण बिल्डिंग्स को भी इसी रंग से रौशन किया जाएगा.

इतना ही नहीं दादा ने मैच के लिए खान-पान का मेन्यू खुद से तय किया है. इस मैच में बांग्लादेश की प्राइम मिनिस्टर शेख हसीना और बंगाल की चीफ मिनिस्टर ममता बनर्जी भी मौजूद रहेंगी.

# साल 2000 में खेली टीमें

बांग्लादेश : शहरयार हुसैन, मेहराब हुसैन, हबीबुल बशर, अमीनुल इस्लाम, अकरम खान, अल शहरयार, नईमुर रहमान (कप्तान), खालिद मसूद, मोहम्मद रफीक, हसीबुल हुसैन, रंजन दास

भारत : शिव सुंदर दास, सदागोपन रमेश, मुरली कार्तिक, राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली (कप्तान), सबा करीम, सुनील जोशी, अजीत अगारकर, जवागल श्रीनाथ, ज़हीर खान.


मयंक अग्रवाल ने बनाए 200 रन तो विराट कोहली ने किया ऐसा इशारा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अवमानना वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को क्या सज़ा दी है?

प्रशांत भूषण के दो ट्वीट का मुद्दा था.

अनलॉक-4 की गाइडलाइंस जारी, मेट्रो चलेगी, जानिए स्कूल खोलने को लेकर क्या कहा गया है

धार्मिक और राजनीतिक कार्यक्रमों को लेकर क्या छूट मिली है?

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त