Submit your post

Follow Us

बिल्डर अब फ्लैट्स की डिलीवरी लेट करने से पहले 10 बार सोचेंगे

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ग्राहकों को फ्लैट की डिलीवरी करने में देरी बिल्डर को अब हर्ज़ाना भरना होगा. यह रकम फ्लैट के तैयार होने तक हर साल ग्राहकों को ब्याज के रूप में देनी पड़ेगी. यह कितनी होगी? फ्लैट की कीमत की 6 फीसद सालाना. सबसे खास बात ये कि यह पैसा उस लेट पेमेंट पेनल्टी के अलावा होगा, जो बिल्डर अब तक बायर्स को देते आए हैं.

पुराने नियम और नए फैसले में क्या अंतर है?

अभी तक बिल्डर अगर फ्लैट की लेट डिलीवरी करते थे तो उन्हें फ्लैट की रकम की तुलना में एक मामूली रकम पेनाल्टी के तौर पर देनी होती थी. मौजूदा मामले में यह 5 रुपये प्रति वर्गफुट थी, जो अग्रीमेंट के हिसाब से हर महीने देनी होती है. टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़, 24 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला बिल्डर और बायर्स के बीच हुए अग्रीमेंट यानी अपार्टमेंट बायर्स अग्रीमेंट (ABA) के तहत इस प्रति वर्गफुट जुर्माने के इतर होगा.

किस मामले में आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला?

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस केएम जोसेफ की बेंच ने बेंगलुरु में डीएलएफ सदर्न होम्स, जिसे अब बेगुर ओएमआर होम्स के नाम से जाना जाता है और एनाबेल बिल्डर्स व डेवलपर्स से जुड़े मामले में यह आदेश दिया है. कोर्ट ने लेटलतीफी पर बायर्स को हर साल फ्लैट की कीमत पर 6 फीसद ब्याज देने को कहा है. ये दोनों बिल्डर बेंगलुरु में 1980 फ्लैट्स बना रहे हैं.

क्या सभी बायर्स को मिलेगा फायदा?

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि जिन ग्राहकों को फ्लैट की डिलीवरी में 2 से 4 साल की देरी हो चुकी है, बिल्डर्स को उन्हें एक्स्ट्रा हर्जाना देना होगा. कोर्ट ने कहा कि शुरुआत में बिल्डर्स को सालाना 6 फीसद का ब्याज देना होगा. लेकिन फ्लैट पजेशन में 36 महीनों से ज्यादा की देरी होती है तो पजेशन तक कंपाउंड इंटरेस्ट (चक्रवृद्धि ब्याज) के हिसाब से पेनाल्टी देनी होगी.

वादा करके मुकरने पर भी मुआवजा

राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग (NCDRC) ने फ्लैट खरीददारों की शिकायत खारिज करते हुए कहा था कि वे अग्रीमेंट में तय राशि से अधिक हर्जाना पाने के हकदार नहीं हैं। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस आदेश को पलट दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने ये भी कहा कि बिल्डर अगर कब्जा मिलने में देरी के अलावा सुविधाओं के बारे में किया गया अपना वादा निभाने में नाकाम रहता है, तो भी फ्लैट खरीदार उसका मुआवजा पाने के हकदार हैं। इसी के साथ सुप्रीम कोर्ट ने कंस्यूमर फोरम को बिल्डर-बायर अग्रीमेंट में तय रकम से भी ज्यादा हर्जाना देने का अधिकार दे दिया.


विडियो- अर्थात: Covid-19 और लॉकडाउन के बाद भारत के बैंक किस क्राइसिस के शिकार होने वाले हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?

सलमान खान की रेकी करने वाला शार्प शूटर पकड़ा गया

जनवरी में रची गई थी सलमान खान की हत्या की साजिश!

रोहित शर्मा और इन तीन खिलाड़ियों को मिलेगा इस साल का खेल रत्न!

इसमें यंग टेबल टेनिस सेंसेशन का भी नाम शामिल है.

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे

पिछले कुछ समय से अमेरिका में रह रहे थे.