Submit your post

Follow Us

देखिए! ऐसी दिखती है कोरोना की पहली सफल वैक्सीन

कोरोना की वैक्सीन की बहुत सारी फ़ोटो इंटरनेट पर मौजूद हैं. अधिकतर फ़ोटो एजेंसियां खींचकर रख लेती हैं. असली नहीं होती हैं. बस संकेत के रूप में. लेकिन Oxford यूनिवर्सिटी द्वारा तैयार की जा रही वैक्सीन की तस्वीर आ गयी है. नीचे देखिए.

SII द्वारा बड़े स्तर पर निर्मित की जा रही Covishield - Oxford और Astrazeneca द्वारा इसका ट्रायल किया जा रहा है, जिसके शुरुआती चरणों में बहुत सफल परिणाम आए हैं.
SII द्वारा बड़े स्तर पर निर्मित की जा रही Covishield – Oxford और Astrazeneca द्वारा इसका ट्रायल किया जा रहा है, जिसके शुरुआती चरणों में बहुत सफल परिणाम आए हैं.

तस्वीर को ध्यान से देखें तो छोटे अक्षरों में लिखा है कि ये वैक्सीन का डमी है. यानी असल वैक्सीन इस तरह ही दिखेगी. इस वैक्सीन को Covishield नाम दिया गया है. भारत में भी इस वैक्सीन का निर्माण चल रहा है. पुणे की सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया (SII) द्वारा. 20 जुलाई 2020 को Lancet जर्नल में इस वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल एक परिणाम प्रकाशित हुए हैं. इस ट्रायल में आशाजनक नतीजे आए हैं. कहा जा रहा है कि ये वैक्सीन दोधारी तलवार का काम करेगी. कैसे? एक तो ये वैक्सीन शरीर में एंटीबॉडी तो बनाएगी ही, जो वायरस का हमला होने पर उससे सुरक्षित करेगा, साथ ही टी सेल का उत्पादन भी करेगी. अगर शरीर में ग़लती से कोरोना का इंफ़ेक्शन हो भी जाता है, तो टी सेल उस इंफ़ेक्टेड सेल को ही ख़त्म कर देगा. मतलब दोहरी सुरक्षा. 

यहां देखिए इस वैक्सीन के ट्रायल का परिणाम :


मई से ही SII ने इस वैक्सीन का भारी मात्रा में निर्माण शुरू कर दिया था. जबकि Oxford में ट्रायल ही अप्रैल से शुरू हुए थे. SII ने कहा था कि अगर ह्यूमन ट्रायल में सफल परिणाम मिलते हैं, तो वैक्सीन की भारी मात्रा लोगों को लगने के लिए उपलब्ध रहे. और अब ये वैक्सीन लगभग बनकर तैयार है. ट्रायल के जो परिणाम प्रकाशित हुए हैं, उन्हें भी सफल परिणाम की तरफ़ देखा जा रहा है. इस वैक्सीन का तीसरे फ़ेज़ का ट्रायल भी शुरू हो चुका है. ट्रायल में Oxford को फ़ार्मा कम्पनी Astrazenca का साथ मिला है. और सबकुछ ठीक रहा तो कुछेक महीनों में ही हमारे आपके बीच होगी. 


कोरोना ट्रैकर :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

इन तीन परिवारों के उजड़ने की कहानी से समझिए कि कोरोना से बचाव कितना ज़रूरी है

पहले मां की मौत, फिर एक के बाद एक 5 बेटों की मौत

सुशांत के डॉक्टर ने बताया सिर्फ डिप्रेशन नहीं, इस मेडिकल कंडीशन से भी जूझ रहे थे सुशांत सिंह

पुलिस ने डॉक्टर्स से बात की तो पता चला.

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन नहीं रहे

वो 85 बरस के थे, कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे.

उत्तर बिहार में हर साल क्यों आती है बाढ़, अभी कैसे हैं हालात

भौगोलिक स्थिति समझना बहुत जरूरी है.

बिहार महादलित विकास मिशन घोटाला: 'स्पोकन इंग्लिश' के नाम पर कैसे हुई हेरा-फेरी

एक निलंबित और तीन रिटायर्ड IAS अधिकारियों समेत 10 लोगों पर FIR.

राजस्थान में सियासी संकट के बीच अशोक गहलोत ने एक और मोर्चा मार लिया है!

19 जुलाई को राजस्थान की राजनीति से संबंधित ये 5 चीजें हुईं.

ये 'एयर बबल' क्या है, जिस पर हवाई यात्रा करने वाले टकटकी लगाए देख रहे हैं

भारत ने 'एयर बबल' को लेकर कदम उठाए हैं.

राजस्थान में गहलोत और पायलट की लड़ाई, वसुंधरा राजे ने पहली बार कुछ कहा है

वसुंधरा राजे पर गहलोत सरकार को बचाने का आरोप लगा था.

राजस्थान: तीन ऑडियो क्लिप और तीन बड़े नेताओं के नाम, क्या है पूरी कहानी

राजस्थान की राजनीति में उथल-पुथल जारी है.

क्या है रिलायंस जियो की नई पेशकश जियो टीवी+

जियो टीवी+ की सारी खासियतों पर एक नजर.