Submit your post

Follow Us

'दबंग' के डायरेक्टर ने कहा कि सलमान खान, अरबाज़ और सुहैल ने उनका करियर बर्बाद कर दिया

सुशांत सिंह राजपूत. 34 बरस के थे. 14 जून को मुंबई के अपने फ्लैट में सुसाइड कर लिया. कूपर अस्पताल ने पोस्टमार्टम किया. एडवांस रिपोर्ट जारी की, मौत की वजह फांसी के कारण दम घुटना बताया गया. सुशांत के जाने के बाद से ही सोशल मीडिया पर लोग लगातार लिख रहे हैं.

इन सबके बीच अब डायरेक्टर अभिनव कश्यप ने भी अपनी बात रखी है. अभिनव ने 2010 में आई ‘दबंग’ को डायरेक्ट किया था. उन्होंने फेसबुक पर बेहद लंबा पोस्ट लिखकर सलमान खान और उनके परिवार के ऊपर गंभीर आरोप लगाए. कहा कि सलमान और उनकी फैमिली की वजह से उनकी (अभिनव की) फिल्में नाकाम हुईं.

सबसे पहले सुशांत को श्रद्धांजलि दी

अभिनव ने लिखा,

“सुशांत सिंह राजपूत RIP. ओम शांति, लेकिन तुम्हारी लड़ाई जारी रहेगी. सरकार से अपील करता हूं कि अच्छे से जांच कराई जाए. सुशांत के सुसाइड ने उस दिक्कत को सामने ला दिया है, जिसे हममें से बहुत से लोग फेस कर रहे हैं. वास्तव में एक व्यक्ति को आत्महत्या के लिए क्या मजबूर कर सकता है? मुझे डर है कि उनकी मौत मीटू की तरह किसी बड़े मूवमेंट की शुरुआत न बन जाए. सुशांत की मौत ने यशराज फिल्म्स (YRF) टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी के रोल को स्कैनर में ला दिया है, लेकिन इसकी जांच करना अधिकारियों का काम है. ये लोग करियर नहीं बनाते हैं. ये आपके करियर और ज़िंदगी को बर्बाद करते हैं. एक दशक तक व्यक्तिगत रूप से पीड़ित रहने के बाद, मैं आत्मविश्वास से ये कह सकता हूं कि बॉलीवुड का हर टैलेंट मैनेजर और हर टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी कलाकारों के लिए मौत का जाल है.”

फिर टेलैंट मैनेजमेंट एजेंसी पर बात की

इसके आगे अभिनव ने टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी और मैनेजर्स को सफेद कॉलर वाले दलाल बताया. और कहा कि हर कोई इसमें शामिल है. अभिनव ने आगे लिखा,

“उन सबका केवल एक सिंपल मंत्रा है, ‘हमाम में सब नंगे और जो नंगे नहीं हैं, उनको नंगा करो, क्योंकि अगर एक भी पकड़ा गया तो सब पकड़े जाएंगे.’ ये इन सबका तरीका है. पहले टैलेंट स्काउट्स (कास्टिंग डायरेक्टर्स वगैरह), जो कट/कमिशन के आधार पर काम करते हैं, मुंबई से किसी टैलेंट को खोजते हैं. फिर उस टैलेंट को सेलिब्रिटीज़ से कॉन्टैक्ट बनाने के नाम पर बॉलीवुड की पार्टियों में बुलाया जाता है. यहां उनके साथ अच्छा बर्ताव नहीं होता. वो निराश होते हैं और आत्मविश्वास भी टूट जाता है. एक बार जब आत्मविश्वास टूटता है, तो स्काउट्स उन पर मल्टी-ईयर का एक्सक्लूसिव कॉन्ट्रैक्ट साइन करने का दबाव बनाता है. ये कहता है कि वो इस फील्ड के दरिंदों से उसे बचाएगा. इसके साथ ही ये शर्त होती है कि अगर वो इस कॉन्ट्रैक्ट को तोड़ेगा तो भारी जुर्माना देना होगा. एक बार जब कलाकार टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी के साथ कॉन्ट्रैक्ट को साइन कर लेता है, तो फ्री होकर काम करने के उसके अधिकार खत्म हो जाते हैं. उनसे वो एजेंसी बहुत कम पैसों में काम कराती है. बंधुआ मज़दूर की तरह. अगर वो किसी तरह एजेंसी के चंगुल से छूटकर भाग भी जाते हैं, तो उन्हें चरणबद्ध तरीके से बहिष्कृत कर दिया जाता है. कलाकार किसी दूसरी एजेंसी के पास जाता है, ये सोचकर कि आने वाला कल अच्छा होगा, लेकिन कल कभी नहीं आता. उनकी नई एजेंसी भी वैसी ही निकलती है. कुछ साल बाद कलाकार टूट जाता है. फिर या तो वो सुसाइड कर लेता है या फिर वेश्यावृत्ति और एस्कॉर्ट सर्विस की तरफ चला जाता है.’

सलमान खान और उनके परिवार पर आरोप

इसके बाद अभिनव ने सलमान खान और उनके परिवार के बारे में अपने पोस्ट में लिखा. कहा,

‘मेरा अनुभव भी कुछ इस तरह का ही रहा. मैंने खुद शोषण सहन किया है. मुझे भी डराया गया था. ‘दबंग’ के बाद से ही अरबाज़ खान ऐसा कर रहे हैं. मैं ‘दबंग-2’ से इसलिए बाहर हो गया था क्योंकि अरबाज़ खान और सोहेल खान मिलकर मुझे परेशान करके मेरे करियर का नियंत्रण अपने हाथ में लेने की कोशिश करने लगे थे. अरबाज़ ने मेरा दूसरा प्रोजेक्ट जो कि श्री अष्टविनायक फिल्म्स के साथ था, उसे नाकाम कर दिया था. अरबाज़ ने खुद इस अष्टविनायक के हेड को कॉल करके बुरा अंजाम भुगतने की धमकी दी थी. नतीजा ये रहा कि वो प्रोजेक्ट मेरे हाथ से चला गया. मुझे जो साइनिंग अमाउंट मिला था, वो भी मैंने श्री अष्टविनायक फिल्म्स को वापस कर दिया और वायकॉम पिक्चर्स चला गया. वहां भी उन्होंने यही काम किया. बस फर्क इतना था कि इस बार सोहेल खान ने ये काम किया. उन्होंने उस वक्त के वायकॉम के CEO विक्रम मल्होत्रा को धमकाया. ये प्रोजेक्ट भी नाकाम रहा और मैंने साइनिंग अमाउंट लौटा दिया, जो कि सात करोड़ रुपए था, साथ ही करीब 90 लाख रुपए इंटरेस्ट के तौर पर चुकाए. इसके बाद रिलायंस एंटरटेनमेंट मेरे बचाव में आया. फिर हमने मेरी फिल्म ‘बेशरम’ के लिए पार्टनरशिप की.’

आगे अभिनव ने अपने पोस्ट में सलमान खान का नाम मेंशन किया और ‘बेशरम’ के खिलाफ निगेटिव कैंपेन चलाने के आरोप लगाए. लिखा,

‘सलमान खान और उनके परिवार ने इस फिल्म की रिलीज़ को बर्बाद करने की कोशिश की. उनके PRO ने मेरे और ‘बेशरम’ के खिलाफ निगेटिव कैंपेन चलाया. इससे डिस्ट्रीब्यूटर्स मेरी फिल्म खरीदने से डर गए. रिलायंस एंटरटेनमेंट और मेरे अंदर इतनी हिम्मत और क्षमता थी कि हम ये फिल्म अपने बल पर रिलीज़ कर सकते थे, लेकिन लड़ाई तो अभी शुरू हुई थी. मेरे दुश्मनों ने ट्रोलिंग शुरू कर दी, नफरत भरा कैंपेन चलाया, मेरी फिल्म के खिलाफ. तब तक ये सब करते रहे, जब तक कि ये फिल्म बॉक्स ऑफिस में नाकाम नहीं हो गई. लेकिन फिर भी इस फिल्म ने 58 करोड़ की कमाई कर ली थी. लेकिन वो लड़ते रहे. उन्होंने फिल्म की सैटेलाइट रिलीज़ को भी नाकाम करने की कोशिश की, जिसे पहले ही मिस्टर जयंती लाल गड़ा को बेचा जा चुका था. जो उस वक्त ज़ी टेलीफिल्म्स के मुख्य एग्रीगेटर हुआ करते थे. लेकिन रिलायंस के साथ संबंध अच्छे थे, जिससे सैटेलाइट राइट्स को लेकर फिर से नेगोशिएशन हुआ, लेकिन काफी कम दाम में.’

अभिनव ने आगे ये बताया कि उन्हें उनके परिवार की महिलाओं को लेकर रेप की धमकियां मिलने लगी थीं. उन्होंने लिखा,

‘आगे कुछ साल तक मेरे सारे प्रोजेक्ट्स नाकाम किए गए. और मुझे लगातार जान से मारने की धमकियां मिलती रहीं. मेरे परिवार की महिलाओं का रेप करवाने की भी धमकी मिलती रही. इन धमकियों ने और परेशानियों ने मेरी और मेरे परिवार की मेंटल हेल्थ पर असर डाला, जिसकी वजह से साल 2017 में मेरा तलाक हो गया और मेरा परिवार टूट गया. कई नंबरों से मुझे SMS के ज़रिए ये सारी धमकियां दी गई थीं, जिससे कि मेरे पास सबूत हो गए. मैं 2017 में पुलिस के पास गया, FIR दर्ज करवाने, जो कि उन्होंने दर्ज करने से मना कर दी लेकिन नॉन कॉग्निजेबल रिपोर्ट लिखी. जब धमकियां बढ़ गईं, तो मैंने पुलिस से कहा कि इन नंबर्स को ट्रेस करें. लेकिन वो मैसेज भेजने वाले (सोहेल खान- जिस पर मुझे शक था) का पता नहीं लगा पाए. मेरी शिकायत अब भी ओपन है और मेरे पास पुख्ता सबूत भी हैं.’

अभिनव का कहना है कि उनके दुश्मन शातिर-चालाक हैं और हमेशा छिपकर पीछे से हमला करते हैं. वो कहते हैं,

‘इन दस बरसों की सबसे अच्छी बात ये है कि मैं अपने दुश्मनों को जानता हूं. वो सलीम खान, सलमान खान, अरबाज़ खान और सोहेल खान हैं. वैसे तो ऐसी कई छोटी मछलियां हैं, लेकिन सलमान खान का परिवार इन सबका हेड है. वो अपने पैसों, राजनीतिक कनेक्शन और अंडरवर्ल्ड के कनेक्शन का इस्तेमाल करके किसी को भी धमकी दे देते हैं. दुर्भाग्य से सच्चाई मेरी तरफ है और मैं सुशांत की तरह हार नहीं मानूंगा. मैं पीछे नहीं हटूंगा और तब तक लड़ता रहूंगा जब तक कि उनका या फिर मेरा अंत न हो जाए. बहुत सहन कर लिया. अब लड़ने का वक्त आ गया है.’

ये सारी बातें अभिनव ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखी. जिसे अभी तक साढ़े चार हज़ार लोगों ने शेयर किया है और करीब दो हज़ार लोगों ने कमेंट किया है.


वीडियो देखें: अर्जुन कपूर ने मैसेंजर की चैट शेयर करके सुशांत की कौन-सी बात बताई?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.

सुशांत के पिता और उनके विधायक भाई ने डिप्रेशन को लेकर क्या कहा?

फाइनेंशियल दिक्कत की ख़बरों पर भी बोले.

मुंबई में सुशांत सिंह राजपूत को दी गई अंतिम विदाई, ये हस्तियां हुईं शामिल

मुंबई में तेज बारिश के बीच अंतिम संस्कार.

सुशांत ने किस दोस्त को आख़िरी कॉल किया था?

दोस्त फोन रिसीव न कर सका. जब तक कॉल बैक किया, देर हो चुकी थी.

सुशांत के साथ काम कर चुके मनोज बाजपेयी, राजकुमार राव और अनुष्का शर्मा ने क्या कहा?

सुशांत ने 11 फिल्मों में काम किया था.

सुशांत के सुसाइड से जुड़ी शुरुआती डिटेल्स आ गई हैं, सुबह 10 बजे तक सब ठीक था

किसे कॉल किया था? घर में कितने लोग थे? वगैरह.

कभी फिल्मी सितारों के पीछे नाचते थे सुशांत, फिर एकता कपूर ने कहा- मैं तुझे स्टार बनाऊंगी

सुशांत सिंह राजपूत ने फिल्मों से पहले छोटे पर्दे पर काम किया था.

मुम्बई से लेकर सुशांत के पटना वाले घर तक हर तरफ भयानक सदमा है

सुशांत के पिता पटना में रहते हैं. सदमे में चले गए हैं.

13 जून की रात सुशांत के दोस्त उनके साथ उनके घर पर रुके थे

14 जून की सुबह जब कई बार बुलाने पर भी दरवाज़ा नहीं खुला, तो शक हुआ.