Submit your post

Follow Us

ऑक्सीजन की कमी से मौतों के बारे में राज्य सरकारों की ये बातें सुनकर आप चौंक जाएंगे

कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी से किसी की भी मौत न होने के हेल्थ मिनिस्ट्री के बयान पर बवाल तेज होता जा रहा है. स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने 20 जुलाई को राज्यसभा में लिखित जवाब देते हुए बताया था कि किसी भी राज्य या केन्द्र शासित प्रदेश ने यह जानकारी नहीं दी है कि कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी के चलते कोई मौत हुई है. उन्होंने इसके पीछे राज्यों से मिले आंकड़ों को आधार बताया. इसे लेकर विपक्षी दलों और सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया हुई. विपक्ष ने विशेषाधिकार हनन नोटिस देने तक की बात कही है. लेकिन हैरानी की बात ये है कि कई राज्य भी अब केंद्र की बात पर हामी भर रहे हैं. इनमें केंद्र में विपक्ष में बैठी पार्टियों की राज्य सरकारें भी शामिल हैं.

गुजरात

गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने दावा किया कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान राज्य में किसी की मौत मेडिकल ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई. उन्होंने कहा कि

“हमारे राज्य में कोरोना के एक भी मरीज की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई. अब तक राज्य में तकरीबन 8.5 लाख कोरोना के मरीज ठीक हो चुके हैं. हमारे राज्य में कई डेडिकेटेड कोरोना हॉस्पिटल हैं जिसमें लाखों लोग इलाज कराकर घर जा चुके हैं. राज्य के किसी भी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई है.”

महाराष्ट्र

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार है. इस सरकार में कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी जैसी पार्टियां शामिल हैं जो केंद्र सरकार के ऑक्सीजन से किसी की भी मौत न होने के दावे पर बवाल मचा रही हैं. लेकिन राज्य सरकार केंद्र के दावे के साथ खड़ी नजर आ रही है. महाराष्ट्र के हेल्थ मिनिस्टर राजेश टोपे ने कहा कि

“राज्य में एक भी मरीज की ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं हुई है. हमने इसे लेकर कोर्ट में शपथ पत्र दाखिल किया है. हमने राज्य में पैदा होने वाली ऑक्सीजन का दक्षता से उपयोग करते हुए सप्लाई को मैनेज किया है.”

लेकिन दूसरी तरफ राज्यसभा में शिवसेना के सांसद संजय राउत ने इससे अलग बयान दिया है. उन्होंने कहा कि वो राज्य सभा में केंद्र सरकार के दिए बयान से ‘अवाक’ हैं. वह बोले-

“मैं अवाक हूं. उन लोगों का क्या होगा जिन्होंने अपने परिजनों को ऑक्सीजन की कमी से खोया है? केंद्र सरकार के खिलाफ एक केस दायर करना चाहिए. ये झूठ बोल रहे हैं.”

बिहार

बिहार के हेल्थ मिनिस्टर मंगल पांडे ने भी कहा है कि राज्य में ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि

“अब तक राज्य में कोरोना की वजह से 9,632 लोगों की मौत हो चुकी है, लेकिन इनमें से कोई ऐसा नहीं है जिसकी मौत ऑक्सीजन की कमी की वजह से हुई हो. कोरोना की दूसरी लहर के दौरान राज्य में मेडिकल ऑक्सीजन की मांग 14 गुना बढ़ गई थी. लेकिन इसकी वजह से किसी की मौत नहीं हुई है.”

इस बयान को राज्य के पूर्व हेल्थ मिनिस्टर और आरजेडी के नेता तेज प्रताप यादव ने झूठ करार दिया है. उन्होंने कहा कि

“पिछले कुछ महीनों में हजारों लोगों की मौत ऑक्सीजन की कमी की वजह से हो गई. इसके बावजूद हेल्थ मिनिस्टर झूठ बोलकर लोगों को बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रहे हैं.”

Bihardeath1
बिहार के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना से मौतों का आंकड़ा जुटाने में गलती मानी थी. पहले मौतों की जो संख्या 5,458 बताई गई थी, उसे बढ़ाकर जून में 9375 कर दिया था. (फोटो ट्विटर)

तमिलनाडु

तमिलनाडु के हेल्थ सेक्रेटरी जे. राधाकृष्णन ने दावा किया है कि राज्य ने ऑक्सीजन की कमी जरूर महसूस की लेकिन इसकी वजह से किसी की मौत नहीं हुई है. उनका कहना है कि

“कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित कर पाना चुनौती भरा काम था. लेकिन एक भी ऐसी मौत नहीं हुई जिसे सीधे ऑक्सीजन की कमी से जोड़ा जा सके. अगर ऐसा होता तो ऑक्सीजन सपोर्ट पर मौजूद सभी गंभीर मरीज मर गए होते. ऐसी घटना कहीं पर भी नहीं रिपोर्ट हुई थी. सरकार ने इसके लिए एक ऑडिट कमेटी बनाई थी और सभी मौतें मेडिकल कारणों से हुई हैं.”

मध्य प्रदेश

इस मामले पर मध्य प्रदेश के हेल्थ मिनिस्टर प्रभुराम चौधरी ने केंद्र सरकार को सही ठहराया. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने राज्यसभा में जो भी बताया वो राज्यों के उपलब्ध कराए गए आंकड़ों पर आधारित था. वह बोले-

“यह बात सही है कि मध्य प्रदेश में एक भी मौत ऑक्सीजन की कमी की वजह से नहीं हुई है. ऐसे मौके जरूर आए जब अस्पतालों में मेडिकल ऑक्सीजन की कमी महसूस की गई लेकिन राज्य सरकार ने फौरन एक्शन लिया और सप्लाई को सुनिश्चित किया.”

गोवा

गोवा के चीफ मिनिस्टर प्रमोद सावंत ने भी दावा किया कि कोरोना की दूसरी लहर में किसी की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि

“गोवा अकेला ऐसा राज्य है जिसने कोरोना से मरने वालों की सही जानकारी दी है. हालांकि प्राइवेट हॉस्पिटल से मौत की रिपोर्ट आने में देर जरूर हुई है.”

Goa Gmch Cm Sawant
मई 2021 में गोवा के मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में 26 मरीजों की मौत हो गई. सीएम सांवत खुद पीपीई किट पहन कर कोरोना वार्ड में पहुंचे थे. उन्होंने माना था कि ऑक्सीजन की सप्लाई में कमी हुई है. (फोटो- सीएम प्रमोद सावंत के ट्विटर अकाउंट से)

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार है. चीफ मिनिस्टर हैं भूपेश बघेल. राज्य में हेल्थ मिनिस्ट्री संभाल रहे हैं टीएस सिंह देव. उन्होंने भी ऑक्सीजन की कमी से मौत होने की बात को नकार दिया. उनका कहना है कि

“यह सच है कि किसी भी मरीज की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई है. हमारे राज्य में ऑक्सीजन सरप्लस रही है. ऑक्सीजन के मैनेजमेंट से जुड़े कुछ हो सकते हैं लेकिन ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई है. दिल्ली और अन्य जगहों पर ऑक्सीजन की कमी बताई गई लेकिन यह राज्य सरकार पर है कि वह ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत को कैसे रिपोर्ट करती है. चलो कम से कम केंद्र ने माना कि हेल्थ राज्य का विषय है. वरना ऐसा लग रहा था कि वह सब कुछ अपने ही कंट्रोल में ले रहे हैं. केंद्र हर अच्छी चीज का क्रेडिट लेता है और बुराई राज्यों के ऊपर डाल देता है. “

दिल्ली

हालांकि दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ने केंद्र सरकार द्वारा राज्यसभा में दिए गए स्टेटमेंट पर धावा बोला. उन्होंने कहा कि

“जल्दी ही अब केंद्र कहेगा कि कोरोना जैसी कोई महामारी ही नहीं थी. जब किसी की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हो रही थी तो हॉस्पिटल हाई कोर्ट क्यों जा रहे थे? केंद्र का जवाब पूरी तरह से झूठ है. दिल्ली सरकार ने ऑक्सीजन की कमी और कोरोना से मरने वालों को मुआवजा देने के लिए ऑडिट कमेटी बनाई थी. इस कमेटी को केंद्र सरकार ने एलजी के जरिए रुकवा दिया. केंद्र सरकार लोगों के जले पर नमक छिड़क रही है. हम एलजी से गुजारिश कर रहे हैं कि हमें कमेटी को चलाने दें. कई लोगों की ऑक्सीजन की कमी से मौत हुई है.”

उन्होंने बताया कि दिल्ली सरकार ने पहले ही कोरोना से होने वाली 21 मौतों को लेकर डेथ ऑडिट कमेटी की रिपोर्ट दिल्ली हाई कोर्ट को सौंप रखी है.

केंद्र सरकार के ऑक्सीजन की कमी से कोई भी मौत न होने के बयान पर कांग्रेस ने भी तीखी प्रतिक्रिया दी है. राहुल गांधी और पी. चिदंबरम ने ट्वीट करके इसे झूठ करार दिया. इस पर बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी इस मसले पर राजनीति कर रही है. केंद्र सरकार के मंत्री ने साफ कहा है कि जो आंकड़े दिए गए हैं वो राज्य सरकारों द्वारा ही उपलब्ध कराए गए हैं और हेल्थ राज्य का विषय है.


वीडियो – सोशल लिस्ट: सरकार ने कहा – ऑक्सीजन की कमी से मौत का रिकॉर्ड नहीं आया, लोग भड़के

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

RRB NTPC के रिजल्ट में किन गड़बड़ियों पर छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं, खुद उनसे सुनिए

RRB NTPC के रिजल्ट में किन गड़बड़ियों पर छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं, खुद उनसे सुनिए

क्या एक ग्रेजुएट और एक 12वीं पास को एक एक जैसा पेपर देना जायज है?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

मृतक व्यक्ति पर नाबालिग से बलात्कार का आरोप था.

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5G के रोल आउट को लेकर दिक्कतें चालू.

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

बीमा कंपनी गाड़ी चोरी या दुर्घटनाग्रस्त होने का बहाना बनाए तो ये आदेश दिखा देना.

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

दबी जुबान में क्या कह रही है पुलिस?

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

जानेंगे बैंक FD में क्यों घट रही है लोगों की दिलचस्पी.

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.