Submit your post

Follow Us

ज्ञानवापी के बाद ईदगाह मस्जिद का होगा सर्वे? मथुरा कोर्ट का बड़ा फैसला आया

देश में मंदिर और मस्जिद को लेकर विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है. वाराणसी (Varanasi) की ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) के बाद अब मथुरा (Mathura) में शाही ईदगाह मस्जिद (Shahi Idgah Mosque) में सर्वे कराने की मांग वाली याचिका स्वीकार कर ली गई है. याचिकाकर्ता मनीष यादव ने कोर्ट कमिश्नर के जरिये सर्वे कराने की मांग की थी जिसे मथुरा कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है. इस मामले की सुनवाई 1 जुलाई तय की गई है. ईदगाह मस्जिद (Shahi Idgah Mosque) मथुरा (Mathura) के श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर के ठीक बगल में है.

याचिकाकर्ता ने क्या कहा?

आजतक से जुड़े मदन गोपाल शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक याचिकाकर्ता मनीष यादव के वकील देवकीनंदन ने कहा,

“ईदगाह के अंदर जो शिलालेख हैं, उन्हें दूसरे पक्ष के द्वारा हटाया जा सकता है और सबूतों को नष्ट किया जा सकता है. दोनों पक्षों की मौजूदगी में वहां की वीडियोग्राफी कराई जाए.”

वहीं एक और याचिकाकर्ता महेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि उन्होंने सबसे पहले इस मामले में 24 फरवरी 2021 को एक प्रार्थना पत्र कोर्ट में दिया था. इसमें वीडियोग्राफी कराने के लिए कोर्ट कमिश्नर की नियुक्ति की मांग की थी. उन्होंने कहा कि प्लेस ऑफ बर्थ (वर्शिप) एक्ट के कारण उस पर कोई फैसला नहीं हो पाया. जिसके बाद उन्होंने 9 मई, 2022 को एक और प्रार्थना पत्र दिया. मनीष यादव और महेंद्र प्रताप सिंह के अलावा दिनेश शर्मा ने भी एक याचिका दाखिल की थी. जिसमें भी सर्वे के लिए ईदगाह मस्जिद की वीडियोग्राफी कराने की मांग की गई थी.

‘वीडियोग्राफी की जरूरत नहीं’

ईदगाह मस्जिद और श्रीकृष्ण जन्मभूमि को लेकर विवाद में मथुरा कोर्ट में 10 मामले दर्ज हैं. लेकिन, ईदगाह मस्जिद पक्ष के वकील सर्वे की मांग को जरूरी नहीं मानते हैं. उन्होंने आजतक से बातचीत में बताया,

“याचिकाकर्ता पिछले 2 सालों में अलग-अलग तरह के प्रार्थना पत्र देते रहे हैं. उन्हें पता ही नहीं है कि वह आखिर कहना क्या चाहते हैं. मथुरा में दोनों समुदाय के धर्मस्थल अलग-अलग हैं. इसलिए वीडियोग्राफी की कोई जरूरत नहीं है.”

Mathura Mandir
मथुरा का श्रीकृष्ण जन्मभूमि मंदिर (फाइल फोटो- पीटीआई)

इससे पहले गुरुवार, 12 मई को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने मथुरा कोर्ट को ईदगाह मस्जिद और श्रीकृष्ण जन्मभूमि विवाद से जुड़े सभी मामलों को चार महीने के भीतर निपटाने का आदेश दिया था. हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने यह भी कहा कि अगर सुनवाई में सुन्नी वक्फ बोर्ड या दूसरे पक्षकार शामिल नहीं होते हैं, तो कोर्ट एकपक्षीय आदेश जारी कर सकता है. हाई कोर्ट ने ये आदेश भी मनीष यादव की याचिका पर दिया था. मनीष यादव ने मामले की जल्द सुनवाई के लिए मथुरा कोर्ट को निर्देश देने की मांग की थी.

शाही ईदगाह मस्जिद पर 19 मई को आएगा फैसला?

लखनऊ की रहने वाली रंजना अग्निहोत्री ने मथुरा सेशन्स कोर्ट में श्री कृष्ण जन्मभूमि के पास 13.37 एकड़ ज़मीन के मालिकाना हक को लेकर याचिका लगाई थी. उन्होंने कोर्ट से मांग करते हुए कहा कि शाही ईदगाह मस्जिद को हटाया जाए क्योंकि मस्जिद की जगह केशव देव मंदिर था, जिसे बाद में गिरा दिया गया था. याचिका में ये भी कहा गया कि इसी 13.37 एकड़ परिसर में मुगल सम्राट औरंगजेब के आदेश पर मस्जिद बनाई गई थी. इस मामले में 6 मई को सुनवाई पूरी हो चुकी है. 19 मई को फैसला भी आने वाला है. सेशन्स कोर्ट के जज राजीव भारती इस मामले में फैसला सुनाएंगे.


दी लल्लनटॉप शो: ताज महल या तेजो महालय और बंद कमरों पर हाईकोर्ट ने ये बड़ी बात कह दी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

क्रैश का कारण अभी साफ नहीं हो सका है.

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

मृतक राहुल भट्ट राजस्व विभाग में कार्यरत थे.

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.