Submit your post

Follow Us

कोरोना पर रिसर्च छापने वालों ने मोदी सरकार की जमकर क्लास लगा दी है!

रिसर्च जर्नल दि लैंसेट (The Lancet) ने भारत में कोविड-19 के बिगड़े हालातों पर अपने संपादकीय में मोदी सरकार की जमकर आलोचना की है. लिखा है कि पीएम मोदी को पिछले साल कोरोना महामारी के सफल नियंत्रण के बाद दूसरी लहर से निपटने में हुई अपनी गलतियों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए.

और क्या लिखा है संपादकीय में?

# मार्च में जब कोविड-19 की दूसरी वेव में केस बढ़ने शुरू हुए तो इससे पहले ही स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ऐलान कर चुके थे कि भारत में कोविड-19 अब ख़त्म ही होने वाला है. एक्सपर्ट  की तरफ से बार-बार दूसरी वेव आने की चेतावनी दी जा रही थी, लेकिन सरकार की तरफ से ऐसे संकेत आ रहे थे मानो कोरोना वायरस पर जीत हासिल कर ली गई हो.

# ये ग़लत आकलन किया गया कि भारत हर्ड इम्युनिटी के मुहाने पर पहुंच रहा है. जबकि ICMR के ही सेरो सर्वे में ये बात निकली कि सिर्फ 21 फीसदी लोगों में ही एंटीबॉडीज़ बनी है.

# प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार महामारी को नियंत्रण करने की बजाय सोशल मीडिया से अपनी आलोचना हटवाने में ज़्यादा रुचि रख रही थी.

जर्नल ने भारत के हेल्थ सिस्टम पर भी सवाल खड़ा किया है. लिखा है-अस्पतालों में मरीजों को ऑक्सीजन नहीं मिल रही है, वे दम तोड़ रहे हैं. मेडिकल टीम भी थक गई है, वे संक्रमित हो रहे हैं. सोशल मीडिया पर व्यवस्था से परेशान लोग मेडिकल ऑक्सीजन, बेड, वेंटिलेटर और जरूरी दवाइयों की मांग कर रहे हैं.

# लगातार ये चेतावनी दी गई थी कि बड़े इवेंट्स सुपरस्प्रेडर का काम कर सकते हैं. फिर भी मास गैदरिंग वाले धार्मिक आयोजन और पॉलिटिकल रैलियों का आयोजन किया गया.

# भारत में वैक्सीनेशन की रफ्तार भी काफी सुस्त रही है और यही वजह है कि महज 2 फीसदी आबादी को ही टीका लग सका है. केंद्र सरकार ने राज्यों से विचार-विमर्श किए बिना ही लगातार वैक्सीनेशन की योजनाएं बदलीं. जैसे कि 18 साल से अधिक उम्र वालों को वैक्सीन लगाने का फैसला.

# बिना विचार-विमर्श के लिए गए इन फैसलों ने भयंकर किल्लत पैदा की और लोगों में कन्फ्यूजन भी पैदा हुआ.

# उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र जैसे राज्य दूसरी वेव के लिए तैयार ही नहीं थे. जबकि ओडिशा, केरल जैसे राज्य अच्छे से तैयार थे.

# सरकार को अब दो काम करने चाहिए. पहला – वैक्सीनेशन की रफ्तार जितनी बढ़ा सकें, बढ़ाएं. लोकल प्रशासन और प्राइमरी हेल्थ केयर सेंटर्स के साथ मिलकर काम करें और वैक्सीन का बेहतर वितरण करें.

# दूसरा काम – वैक्सीनेशन के साथ-साथ ही इंफेक्शन फैलने से रोकने के लिए हरसंभव काम करें. साथ ही सही-सही डेटा सामने रखें ताकि पूरी तैयारी के साथ आगे की योजना बनाई जा सके.

संपादकीय में लिखा है कि इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मैट्रिक्स एंड इवॉल्यूशन का अनुमान है कि भारत में 1 अगस्त तक कोविड-19 से 10 लाख मौतें हो सकती हैं और इस राष्ट्रीय तबाही के लिए मोदी सरकार ही ज़िम्मेदार होगी.


वेंटिलेटर और ऑक्सीजन की कमी पर मोदी सरकार के दावों का सच सुनकर गुस्सा आएगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पेगासस मामले पर SC ने बिठाई कमेटी, जानिए किस किस पहलू से होगी जासूसी की जांच

पेगासस मामले पर SC ने बिठाई कमेटी, जानिए किस किस पहलू से होगी जासूसी की जांच

केंद्र के जवाब से असहमत कोर्ट ने कहा, लोगों की विवेकहीन जासूसी मंजूर नहीं.

आर्यन खान केस: किरण गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, 18 करोड़ में डील होने की बात सुनी थी

आर्यन खान केस: किरण गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, 18 करोड़ में डील होने की बात सुनी थी

गवाह प्रभाकर सेल का दावा-8 करोड़ समीर वानखेड़े को देने की बात हुई थी.

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

लिंक करने का पूरा प्रोसेस बता रहे हैं, जान लीजिए.

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

सपा ने ट्वीट कर कहा- 2022 में मिलकर करेंगे बीजेपी को साफ़!

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

थाने के मालखाने से 25 लाख चोरी के आरोप में पुलिस ने पकड़ा था सफाईकर्मी को.

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, कभी खत्म न होने वाली कहानी न बन जाए ये जांच.

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.