Submit your post

Follow Us

क्या सचमुच पोटाश है नेता कमल हासन में, या साउथ की परम्परा को ही आगे बढ़ाएंगे?

दक्षिण भारत. सिनेमा के लोगों की सियासी जमीन तैयार करने का बेहतरीन स्टूडियो. सिनेमा से निकले तो एम करुणानिधि ने इतिहास रच दिया. सिनेमा का कोई आदमी पहली बार मुख्यमंत्री बन गया. साल था 1969 और राज्य था तमिलनाडु. उसके बाद सिनेमा का एक और कामयाब शख्स राजनीति के मैदान में उतरा. पहले करुणानिधि की पार्टी जॉइन की, फिर अपनी पार्टी बनाई और बन गया तमिलनाडु का मुख्यमंत्री. नाम था एमजी रामचंद्रन और साल था 1977. रामचंद्रन मुख्यमंत्री बने तो पार्टी में सिनेमा की एक हिरोइन भी शामिल हो गई, जयललिता. वो भी तमिलनाडु की मुख्यमंत्री बनीं.

Tamil Politician
एनटी रामा राव, एम करुणानिधी और जयललिता

अब इस जमात में शामिल होने के लिए साउथ के सुपर स्टार कमल हासन भी तैयार हैं. शुरुआत तो तमिलनाडु से ही होगी, लेकिन पार्टी का नाम क्या होगा, इसे वो अभी तय नहीं कर पाए हैं. सुपर स्टार हैं और राजनीति में आने को तैयार हैं तो पहले से बनी-बनाई पार्टियां उन्हें हाथों-हाथ लेने को भी तैयार थीं. लेकिन उन्होंने अपनी ही पार्टी बनाने की ठानी है.  सियासी पारी शुरू करने जा रहे कमल हासन वक्त-वक्त पर अपनी राजनीतिक समझ को सामने लाते रहे हैं. नेताओं से पहले जनता को ईमानदार होगा की बात कहने वाले कमल हासन ने  पिछले कुछ दिनों में राजनीति पर उन्होंने कुछ कहा है-

1.कोई भी राजनीतिक दल विचारधारा पर टिका होता है. मुझे नहीं लगता कि मेरा राजनीतिक लक्ष्य किसी दल की विचारधारा से मेल खा सकता है.

2. तमिलनाडु की राजनीति बदल सकती है. मैं उस बदलाव को लाना चाहता हूं. चाहे उस बदलाव की गति धीमी ही क्यों न हो?

3. वोट देकर मुझे राजनीति में इसलिए न बुलाएं कि बाहर करने के लिए पांच साल का इंतजार करना पड़े. अगर मुझसे काम ना हो तो तुरंत निकाल दें.

4. मैं परेशानियों से तुरंत छुटकारा दिलाने का वादा नहीं कर रहा, लेकिन मैं बदलाव का वादा करता हूं.

5. राजनीति से या तो मैं बाहर जाऊंगा या भ्रष्टाचार, दोनों साथ नहीं रह सकते.

राजनीति में आने से पहले का उनका ये पॉलिटिकल स्टैंड है. वो कहते हैं कि मेरा राजनीतिक लक्ष्य किसी की विचारधारा से मेल नहीं खाता है. इसके ठीक बाद ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कमल हासन से मुलाकात करते हैं और उनसे भ्रष्टाचार की लड़ाई में साथ आने का न्यौता देते हैं. हासन इसका स्वागत करते हुए कहते हैं-

दिल्ली के सीएम मुझसे मिलने आए, मेरे लिए यह सम्मान की बात है. उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ी है. उनकी छवि करप्शन से लड़ने को लेकर रही है.

Hasan Kejriwal
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कमल हासन के घर जाकर मुलाकात की थी.

इससे पहले कमल हासन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हैं और कहते हैं कि कोई तो ऐसा है, जो देश को बदलने के बारे में कम से कम सोच रहा है. वो केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन के साथ भी सियासत पर बात करते हैं. इसके बाद वो कहते हैं-

मैं फिल्म उद्योग में 40 साल से हूं, लेकिन मैं आपको एक चीज कह सकता हूं कि मेरा रंग निश्चित तौर पर भगवा नहीं है.

हालांकि बाद में दिए बयान में कमल हासन ने बीजेपी से गठबंधन की बात से सीधे तौर पर इनकार नहीं किया. उन्होंने कहा-

अगर यह मेरी विचारधारा के आड़े नहीं आता है और सिर्फ प्रशासन के बारे में सोचता है तो ऐसा संभव है.अगर लोगों की भलाई का मुद्दा है तो राजनीति में कोई भी अछूत नहीं होता है. 

इसके अलावा कमल हासन ने कहा था,

‘बीफ जैसे मुद्दे पर मैं सरकार के खिलाफ रहा हूं. मैं बीफ खाता था, लेकिन अब मुझे छोड़ना पड़ा. इसका मतलब ये नहीं है कि मैं और लोगों को बीफ न खाने के लिए कहूं.’

इससे पहले पी विजयन से मुलाकात पर कमल हासन ने कहा था-

अधिकतर वामपंथी मेरे नायक हैं . मैं चीजों के मध्य में रहना चाहता हूं और पक्ष नहीं लेना चाहता.

अभी हाल ही में कमल हासन ने एक और बयान दिया है. उनसे वामपंथ के बारे में पूछा गया. उन्होंने जवाब दिया

मैं पूरी तरह से लेफ्नट के साथ नहीं हूं. मुझे लेफ्ट से सेंटर की ओर आना होगा क्योंकि लोग महत्वपूर्ण हैं.

सियासत में एंट्री के बाद ऐक्टिंग का क्या होगा, तो कमल हासन ने कहा

अगर मुझे किसी संवैधानिक पद पर रहना है, तो ऐक्टिंग छोड़नी होगी. जुड़ा रहूंगा, लेकिन सक्रिय भागीदारी नहीं कर पाउंगा.

hasan vijyan
केरल के मुख्यमंत्री के पी विजयन के साथ कमल हासन.

वो तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीसामी के काम की लंबे समय से आलोचना कर रहे हैं. वो वक्त-बेवक्त समाज से जुड़े मुद्दों के साथ ही सियासत पर भी ट्वीट करते रहते हैं. उन्होंने ट्वीटर पर लिखा कि काम नहीं तो पैसा नहीं, सिर्फ सरकारी कर्मचारियों के लिए क्यों? रिसॉर्ट में सौदा करने वाले नेताओं के बारे में क्या राय है.”

इसके अलावा भी कमल हासन ने कई अलग-अलग मौकों पर तमिलनाडु की राजनीति के साथ ही पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या से संबंधित विवादों पर ट्विटर के जरिए अपनी राय रखी है.

 

Hasan Rajnikant
रजनीकांत ने भी अपनी पार्टी का ऐलान कर दिया है.

तमिलनाडु में राजनीति को साफ-सुथरा करने के लिए कमल हासन सबसे बड़े सुपर स्टार रजनीकांत की भी मदद लेना चाहते थे. वो कहते थे-

‘अगर रजनीकांत राजनीति में आते हैं, तो मैं उनके साथ काम करना चाहूंगा. प्रतिद्वंद्वी होने के बावजूद हम दोनों हमेशा से ही अपने पेशे से जुड़े मुद्दों पर बात करते हैं. वो राजनीति में आते हैं तो हम दोनों को राजनीतिक विषयों पर बात करने में कोई परेशानी नहीं होगी.’

लेकिन रजनीकांत ने कमल हासन से पहले ही अपनी पार्टी बनाने का ऐलान कर दिया है. अब कमल राजनीति में आने को तैयार हैं. 21 फरवरी से ही पूरे तमिलनाडु की यात्रा करेंगे. 16 जनवरी को उन्होंने मीडिया से कहा था-

‘यात्रा की शुरुआत में मैं अपनी राजनैतिक पार्टी की घोषणा करना चाहता हूं. कुछ समय से तमिलनाडु की राजनीति को तोड़ने की कोशिश की जा रही है. मेरे विचार और काम लोगों की एक सामुहिक आवाज को बुलंद करना है.’

कमल हासन के पास अपनी पार्टी के नाम का ऐलान करने के लिए तकरीबन एक महीने का वक्त बचा है. ऐसे में उन्हें सियासत को ठीक से परखकर ही मैदान में उतरना होगा. अपनी ग्लैमरस छवि को भुनाने के दौरान कमल हासन को ये भी याद रखना होगा कि जिन लोगों ने इस छवि के सहारे सियासत में कदम रखा है, चाहे वो करुणानिधि हो या जयललिता, इनपर भ्रष्टाचार के इतने आरोप लगे हैं कि उसके आगे उनकी ग्लैमरस छवि पूरी तरह से फीकी पड़ जाती है.


ये भी पढ़ें:

क्या इन चार मौतों की जिम्मेदारी लेंगे कमल हसन और रजनीकांत?

नेता रजनीकांत ने सोशल मीडिया पर पहली स्पीच में क्या बोला?

फिल्मों के वो पांच बड़े चेहरे, जो राजनीति में धड़ाम हो गए

क्या फिर सिनेमा से मिलने जा रहा है तमिलनाडु का अगला मुख्यमंत्री?

कौन कहता है कि रजनीकांत ने अब जाकर राजनीति शुरू की है!

राजनीति ने रजनीकांत को ज्वाइन कर लिया है

तो अब तय हो गया कि तमिलनाडु में कमल हासन आ रहे हैं नेता बनकर

हिंदू ग्रंथ की कमियां निकालने वाला हर इंसान मुसलमान नहीं होता

जलीकट्टू से कम नहीं हैं ये जानवरों से होने वाले खूनी खेल

वीडियो में रजनीकांत के बहाने समझिए दक्षिण भारत में सिनेमा का पॉलिटिकल कनेक्शन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.