Submit your post

Follow Us

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

खबर एक FIR, एक RTI और एक तारीख से जुड़ी है. जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) और दिल्ली पुलिस से जुड़ी है. बीते दिनों कैम्पस में हिंसा और तोड़-फोड़ हुई थी. अब इस मामले की जो FIR फाइल हुई है उसे लेकर एक बड़ी गड़बड़ी सामने आई है. दिल्ली पुलिस पर बैकडेट में FIR फाइल करने का आरोप है. ये बात एक RTI से पता चली है.

पुलिस की FIR में क्या है?
JNU हिंसा मामले में पुलिस ने दो FIR फाइल की थीं. पहली FIR 1 जनवरी को और दूसरी 4 जनवरी को. दोनों में यूनिवर्सिटी कैंपस में तोड़-फोड़ और इसकी वजह से सर्वर डाउन होने का ज़िक्र है. यही वो FIR हैं, जिनमें JNUSU प्रेसिडेंट आइशी घोष का नाम भी शामिल है.

RTI के जवाब में क्या है?
ये तो थी एक बात. अब सामने आया है एक RTI का जवाब, जो JNU प्रशासन ने दिया है. RTI में पूछा गया था कि 25 दिसंबर, 2019 से 8 जनवरी, 2020 के बीच यूनिवर्सिटी कैंपस में तोड़-फोड़ की वजह से कितनी बार सर्वर डाउन की कंडीशन बनी. यूनिवर्सिटी की तरफ से जवाब दिया गया- दो बार ऐसी कंडीशन बनी. पहली- 3 जनवरी को और दूसरी- 4 जनवरी को.

दिल्ली  पुलिस की FIR में JNUSU प्रेसिडेंट आईशी घोष का नाम भी शामिल है. फोटो- PTI
दिल्ली पुलिस की FIR में JNUSU प्रेसिडेंट आईशी घोष का नाम भी शामिल है. फोटो- PTI

अब ध्यान दीजिए. पुलिस ने किन दो दिन की FIR फाइल की? 1 जनवरी और 4 जनवरी. यूनिवर्सिटी ने किन दो तारीखों का ज़िक्र किया- 3 जनवरी और 4 जनवरी. बस यहीं बात फंस रही है कि जब पहली घटना 3 जनवरी की है, तो पुलिस ने बैकडेट में 1 जनवरी को FIR कैसे फाइल कर ली? ये RTI नेशनल कैंपेन फॉर पीपुल्स राइट टू इंफॉर्मेशन (NCPRI) के सदस्य मेंबर सौरव दास ने लगाई थी.

RTI के जवाब से ये बातें भी पता चलीं…
# बायोमेट्रिक सिस्टम और CCTV कैमरे को न तो 3 जनवरी, न ही 4 जनवरी को कोई नुकसान पहुंचा था.
# RTI के जवाब में JNU ने CCTV कैमरों की लोकेशन देने से मना कर दिया. कहा कि ये जानकारी देना सुरक्षा कारणों से ठीक नहीं होगा.
# यूनिवर्सिटी ने ये जरूर बता दिया है कि कैंपस के नॉर्थ गेट पर कोई कैमरा नहीं लगा है.


स्मृति ईरानी ने दीपिका पादुकोण के JNU जाने को लेकर जो कहा उसका छुपा मतलब ये रहा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पहले तबलीगी जमात और अब राम नवमी, आस्था के नाम पर भीड़ जुटाने से बाज़ नहीं आ रहे लोग

पश्चिम बंगाल में राम नवमी पर मंदिरों में जुटे हज़ारों लोग.

तबलीगी जमात: महमूद मदनी बोले- सोशल डिस्टेन्सिंग न मानना कत्ल के बराबर है

तबलीगी जमात में शामिल होने वालों से सामने आने की अपील भी की.

90 साल की कोरोना पेशेंट ने वेंटिलेटर लगाने से मना कर दिया, वजह दिल छू लेगी

करीब 10 दिन स्ट्रगल करने के बाद उनकी मौत हो गई.

अब AIIMS के सीनियर डॉक्टर कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं

1 अप्रैल को दिल्ली के स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट में काम करने वाली डॉक्टर संक्रमित पाई गई थी

तबलीगी जमात मामले में दर्ज हुई FIR में क्या लिखा है, किन लोगों का नाम हैं?

तबलीगी जमात प्रमुख मौलाना मोहम्मद साद की तलाश जारी है.

14 अप्रैल के बाद ट्रैवल करना है तो टिकट बुक कर सकते हैं या नहीं, रेलवे ने बताया

भारतीय रेलवे ने मामले को लेकर सफाई दी है.

तबलीगी जमात में शामिल होने वालों से 9000 लोगों को कोरोना वायरस का ख़तरा

मरकज से लौटे लोगों के संपर्क में जो भी लोग आए हैं उन्हें खोजा जा रहा है.

वर्ल्ड कप 2011 वाली धोनी की आइकॉनिक फोटो पर गौतम गंभीर क्यों किलस गए?

क्रिकेट फैंस ने घेर लिया.

लॉकडाउन: ड्यूटी से लौट रहे डॉक्टर को पुलिसवालों ने पीटा

आईकार्ड दिखाने के बाद भी नहीं माने.

कोरोना वायरस के बहाने परिवार ने दिव्यांग के साथ जो किया, वो दिल दुखाने वाला है

मामला छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर का है.