Submit your post

Follow Us

मोदी सरकार ने जितना बताया, क्या उतनी वैक्सीन बर्बाद कर रहे झारखंड और छत्तीसगढ़?

केंद्र सरकार ने 26 मई को वैक्सीन बर्बादी के आंकड़े जारी किए. अब उन्हीं आंकड़ों को लेकर झारखंड के CM हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया है. दरअसल, केंद्र के आंकड़ों के मुताबिक,झारखंड ने कोविड-19 के वैक्सीन की सबसे ज्यादा बर्बादी की. 37.3 प्रतिशत की. उसके बाद छत्तीसगढ़ ने 30.2 प्रतिशत वैक्सीन को बर्बाद किया.  केंद्र सरकार के मुताबिक, वैक्सीन बर्बादी में तीसरे नंबर पर तमिलनाडु था. 15.5 प्रतिशत बर्बादी के साथ. गौरतलब है कि तीनों ही राज्यों में गैर भाजपा सरकार है.

Hemant Soren ने क्या कहा?

हेमंत सोरेन ने ट्वीट किया कि BJP अपनी हताशा में रोज़ नया शिगूफ़ा छोड़ती है. कहा कि सरकार का आंकड़ा भ्रामक होने के साथ-साथ हास्यास्पद भी है. उन्होंने बताया-

झारखंड को अभी तक 48 लाख 63 हज़ार 660 वैक्सीन मिली है.

केंद्र के ही आंकड़ों के हिसाब से झारखंड के 40 लाख, 12 हज़ार 269 लोगों को वैक्सीन लग चुकी है.

उन्होंने लिखा कि ये जानकारी CoWIN ऐप से आसानी से क्रॉसचेक की जा सकती है. सोरेन ने सवाल किया,

“48 लाख का 37 % – मतलब 18 लाख के लगभग होता है. अगर इतना बर्बाद हुआ तो फिर कैसे हमने 40,12, 269 वैक्सीन लगा दी? असल में हमारे राज्य में वैक्सीन वेस्टेज अब तक प्राप्त आंकड़ों के हिसाब से 4.65 % है जो राष्ट्रीय औसत (6.3%) से काफ़ी कम है. हम अपनी वेस्टेज को 2 % से भी कम करने के लिए युद्धस्तर पर तैयारी कर रहे हैं.”

Jharkhand Cowin
Cowin ऐप पर झारखंड के आंकड़े

बाद में झारखंड के स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी दी कि राज्य में वैक्सीन बर्बादी का आंकड़ा 2.5 प्रतिशत ही है.

स्वास्थ्य विभाग के IEC विंग के विशेष कर्तव्य अधिकारी सिद्धार्थ त्रिपाठी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि चक्रवात यास के प्रभाव के कारण सभी 24 जिलों से डेटा संकलित नहीं हो पाया था, इस वजह से मुख्यंत्री ने जो आंकड़े ट्वीट किए उनमें कुछ गड़बड़ी थी.

छत्तीसगढ़ ने भी केंद्र के आंकड़ों को खारिज किया

झारखंड ही नहीं, छत्तीसगढ़ ने भी केंद्र की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों को खारिज किया है. छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने ट्वीट किया,

“हेल्थकेयर, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45+ के लिए केंद्र से मिले टीकों में से केवल 0.95 प्रतिशत की बर्बादी हुई है. 18-45 एज ग्रुप के लिए राज्य ने जितनी वैक्सीन खरीदी उनमें से केवल  के लिए सीधे हमारे द्वारा खरीदे गए टीके केवल 0.29 प्रतिशत बर्बाद हुए हैं. यह राष्ट्रीय औसत 6% से कहीं बेहतर है.”

इसी ट्वीट थ्रेड में उन्होंने ये भी दावा किया कि 21 मई, 2021 को केंद्र और राज्य सरकारों के बीच हुए वीडियो कॉन्फ्रेंस में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने माना था कि एक तकनीकी ख़राबी की वजह से CoWIN बर्बादी के आंकड़ों को बढ़ा कर दिखा रहा है.

Chattisgarh Cowin
CoWin ऐप पर छत्तीसगढ़ के आंकड़े

 

केंद्र के नियम की वजह से हो रही वैक्सीन बर्बादी

झारखंड के अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य अरुण कुमार सिंह ने बर्बादी का सारा ज़िम्मा केंद्र सरकार पर मढ़ दिया. उन्होंने कहा,

“45 वर्ष से ज़्यादा उम्र के लोगों में बर्बादी 0.4% और 18 से 44 वर्ष के आयु वर्ग के लिए बर्बादी 7% है. यह केंद्र के नियमों के कारण है, क्योंकि CoWin ऐप मौके पर पंजीकरण की इजाज़त नहीं देता है. उदाहरण के लिए, यदि 100 लोगों ने किसी सेंटर पर स्लॉट बुक किए हैं और केवल 93 ही आते हैं, तो बाक़ी सारी खुराकें बर्बाद हो जाती हैं.”

अरुण सिंह ने दावा किया कि ज़िलों की तरफ़ से सही समय पर डेटा अपलोड नही हो पा रहा है और कुछ मानवीय भूल के कारण केंद्र के डेटाबेस पर बर्बादी ज़्यादा दिखाई दे रही है.

बीजेपी का पलटवार

इस बीच बीजेपी विधायक दल के नेता और झारखंड के पहले सीएम बाबूलाल मरांडी ने इस हालत के लिए राज्य सरकार के प्रबंधन पर सवाल उठाए. उन्होंने ट्वीट किया,

“कोरोना से मौत और वैक्सीन की बर्बादी के मामले में झारखंड को देश में कई गुना आगे पंहुचाने के लिये हमारी लचर स्वास्थ्य व्यवस्था एवं कुप्रबंधन ज़िम्मेवार है. ये नहीं सुधरेगी तो लोग ज़्यादा मरेंगे ही और वैक्सीन की बर्बादी का भी रिकॉर्ड क़ायम रहेगा.”

 

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया से कहा ,

“एक तरफ झारखंड भारत में सबसे ज्यादा वैक्सीन बर्बाद कर रहा है और दूसरी तरफ उसकी सरकार घड़ियाली आंसू बहा रही है और केंद्र पर वैक्सीन नहीं देने का आरोप लगा रही है. जनता देख रही है.”

India Cowin
वैक्सीन पर CoWin ऐप में 27-05-21 तक के आंकड़े

CoWin ऐप के आंकड़े

ख़बर लिखे जाने तक CoWin की वेबसाइट के मुताबिक़ अब तक भारत में कुल 20 करोड़ 56 हज़ार 676 लोगों को टिका लग चुका है. वहीं झारखंड में 40 लाख 44 हज़ार 855 लोगों को टीका लगा है और छत्तीसगढ़ में 62 लाख 09 हज़ार 699 लोगों को टीका लगाया गया है.


विडियो- पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान और कोविड-19 टीकाकरण अभियान में कोई अंतर नहीं है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

डेढ़ महीने पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान करने वाले बाबुल सुप्रियो ने TMC जॉइन की

डेढ़ महीने पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान करने वाले बाबुल सुप्रियो ने TMC जॉइन की

केंद्रीय मंत्री पद से हटाए जाने के बाद भाजपा छोड़ी थी.

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

कहानी में एक और किरदार सामने आया है, राज फौजदार.

राजस्थान में अब सब-इंस्पेक्टर परीक्षा का पेपर लीक, वॉट्सऐप बना जरिया

राजस्थान में अब सब-इंस्पेक्टर परीक्षा का पेपर लीक, वॉट्सऐप बना जरिया

पुलिस ने बीकानेर, जयपुर, पाली और उदयपुर से 17 लोगों को गिरफ्तार किया है.

क्या पाकिस्तान यूपी चुनाव में आतंकी हमले कराने की तैयारी में है?

क्या पाकिस्तान यूपी चुनाव में आतंकी हमले कराने की तैयारी में है?

दिल्ली पुलिस ने 6 संदिग्धों को गिरफ्तार कर कई दावे किए हैं.

नसीरुद्दीन शाह ने योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर बड़ी बात कह दी है!

नसीरुद्दीन शाह ने योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर बड़ी बात कह दी है!

नसीर ने ये भी कहा कि कई मुस्लिम अपने पिता को बाबा भी कहते हैं.

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

पूर्व पत्नी ने लगाया रेप के प्रयास का आरोप, AIMIM नेता ने कहा- बेबुनियाद.

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

ये बदलाव जनवरी 2022 से लागू होंगे.

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

इरा बसु वायरोलॉजी में PhD हैं और 30 साल से भी ज्यादा समय तक पढ़ाया है.

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

यहां तक कि CRPF कान्स्टेबल की मौत भी फ्रेंडली फायर में हुई थी!

अक्षय कुमार की मां का निधन

अक्षय कुमार की मां का निधन

अपने जन्मदिन से सिर्फ एक दिन पहले अक्षय को मिला गहरा सदमा.