Submit your post

Follow Us

सिर्फ एक पैसेंजर के लिए चलती है जापान में ये ट्रेन

56
शेयर्स

उत्तरी जापान में एक होकैदो नाम का एक आइलैंड है. वहां पर है कमी-शिराताकी नाम का एक ट्रेन स्टेशन. अकेला, सुनसान. सालों बीत गए, इस स्टेशन पर कोई पैसेंजर नहीं चढ़ता. सिवा एक लड़की के. रोज एक ही समय आ कर प्लैटफॉर्म पर खड़ी हो जाती है. ट्रेन उसे ले जाती है. फिर छोड़ जाती है. दिन भर में सिर्फ दो ही बार ट्रेन रूकती है. सालों से एक ही पैसेंजर के लिए.

कमी-शिराताकी स्टेशन
कमी-शिराताकी स्टेशन

जी नहीं, किसी फिल्म का सीन नहीं है ये. न ही कहानी है. बल्कि जापान रेलवे का लिया हुआ फैसला है. स्टेशन की लोकेशन ऐसी जगह है जहां बहुत कम पॉपुलेशन रहती है. स्टेशन से बिलकुल भी रेवेन्यू नहीं आता था. तो सरकार ने फैसला लिया कि स्टेशन को बंद कर दिया जाएगा. फिर पता पड़ा कि एक बच्ची है जो रोज उस स्टेशन से स्कूल जाया करती है. बस रेलवे ने ये फैसला लिया कि जबतक बच्ची का स्कूल खत्म नहीं हो जाता, स्टेशन बंद नहीं किया जाएगा. ट्रेन का टाइम टेबल भी बच्ची के स्कूल के टाइम के हिसाब से बना दिया गया है.

Kamishirataki timetable JAPAN
स्टेशन के टाइम टेबल. दिन भर में बस दो ही बार यहां ट्रेन रूकती है. सोर्स: विकिपीडिया

जापान में जबसे नई तकनीक वाली ट्रेनें आयी हैं, पुरानी ट्रेनों से घाटे के अलावा कुछ नहीं मिलता. फिर भी सिर्फ एक बच्ची की पढ़ाई के लिए ट्रेन चलाकर जापान रेलवे ने ‘पब्लिक सर्विस’ की एक मिसाल कायम की है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

नहीं रहे पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली

पिछले 15 दिनों से एम्स के आईसीयू में थे भर्ती

बुमराह का ये रिकॉर्ड टेस्ट क्रिकेट में उन्हें इंडियन बॉलिंग की सनसनी साबित करने के लिए काफी है

वनडे के बाद टेस्ट मैचों में बुमराह का कमाल.

बाबा रामदेव ने बताया क्यों बिगड़ी थी आचार्य बालकृष्ण की तबीयत

अचानक तबीयत खराब होने के बाद आचार्य बालकृष्ण को एम्स में भर्ती कराना पड़ा था.

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड से कहा- करारा जवाब मिलेगा और लंका लगा दी

एक ओर जोफ्रा आर्चर थे तो दूसरी ओर हेजलवुड.

BCCI की टाइटल राइट्स डील में क्या झोल है?

ई-ऑक्शन नहीं होने को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं.

पतंजलि वाले बालकृष्ण को हार्ट अटैक आया, रेफर होने के बाद एम्स में भर्ती

पहले हरिद्वार के पतंजलि योगपीठ के पास भूमानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

पाकिस्तानी टेरर फंडिंग के आरोप में बलराम सिंह, सुनील सिंह और शुभम मिश्रा को ATS ने धरा

बलराम सिंह को 2017 में भी गिरफ्तार किया था. फिलहाल बेल पर था.

प्रियंका चोपड़ा को हटाने की रिक्वेस्ट पर यूनिसेफ ने पाक का मूड और खराब कर देने वाला जवाब दिया

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद प्रियंका का 'जय हिन्द' लिखने वाला मुद्दा अब जोर क्यों पकड़ रहा है?

सरकार के थिंक टैंक ने माना, 'बीते 70 साल में ऐसी बुरी मंदी नहीं देखी'

इससे पहले सुब्रमण्यम ने प्राइवेट सेक्टर को दो टूक हिदायत दे डाली थी कि,'बालिग व्यक्ति लगातार अपने पापा से मदद नहीं मांग सकता.'

जोफ्रा आर्चर ने ऑस्ट्रेलिया की बैटिंग का धागा खोलकर रख दिया

जितनी उम्मीद थी उससे ज़्यादा डिलीवर किया है.