Submit your post

Follow Us

जादवपुर यूनिवर्सिटी में डिग्री लेते ही छात्रा ने स्टेज पर CAA की कॉपी के दो टुकड़े किये

5
शेयर्स

सिटिज़नशिप अमेंडमेंट एक्ट. CAA के खिलाफ देशभर में प्रोटेस्ट चल रहा है. लोग इसका अलग-अलग तरह से विरोध कर रहे हैं. कोई नारे लगा रहा है, तो कोई गाने गाकर अपना विरोध दर्ज करा रहा है. कुछ लोग पेंटिंग्स और पोस्टर्स से कानून और सरकार पर तंज कस रहे हैं, तो कुछ यूनिवर्सिटी में CAA की प्रति फाड़कर सरकार के प्रति गुस्सा जाहिर कर रहे हैं.

हम फिलहाल दो यूनवर्सिटी की बात करेंगे. एक जादवपुर यूनवर्सिटी और एक बनारस हिंदू यूनवर्सिटी की. पहले जादवपुर की बात करते हैं. ये कोलकाता में है. मंगलवार यानी 24 दिसंबर को कॉन्वोकेशन था. स्टूडेंट्स को डिग्री दी जा रही थी. इसी दौरान गोल्ड मेडल देने के लिए देबस्मिता चौधरी को भी बुलाया गया. वो आईं. उनके हाथ में उस दौरान एक कागज़ था. उन्होंने डिग्री ली. मेडल लिया. फिर उस कागज़ को सबके सामने फाड़कर नारा लगाया. नारे लगाए, ‘हम कागज़ नहीं दिखाएंगे. इंकलाब ज़िंदाबाद’. अब इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

इसके पहले यूनवर्सिटी के नॉन टीचिंग स्टाफ ने राज्यपाल धनखड़ को कॉन्वोकेशन में शामिल होने से रोका था. राज्यपाल को विरोध में काले झंडे दिखाए थे और उनकी कार रोक ली थी और ‘वापस जाओ’ के नारे लगाए थे. गेट नंबर पांच पर लगभग आधा घंटा वेट करने के बाद राज्यपाल धनखड़ लौट गए. छात्रों ने राज्यपाल का विरोध इसलिए किया था, क्योंकि वो CAA का समर्थन कर रहे थे.

ये मामला यहीं खत्म नहीं हुआ. राज्यपाल ने अपने ट्विटर हैंडल से कई सारे ट्वीट किए. कुछ में ममता बनर्जी को टैग भी किया. उन्होंने लिखा कि वो यूनिवर्सिटी में बच्चों को डिग्री देने के लिए गए थे. पर छात्रों ने रास्ता बंद कर दिया और अंदर जाने नहीं दिया. छात्रों ने ‘धनखड़ गो बैक’ के नारे लगाए और उसका पैमप्लेट भी कपड़ों पर चिपका कर घूमे.

इस पर कार्रवाई भी नहीं हुई. धनखड़ का कहना है कि उनका रास्ता रोकने वाले केवल 50 लोग थे. पर वीसी यानी वाइस चांसलर मूक दर्शक बने रहे. और तो और प्रदर्शनकारियों में से कोई भी छात्र नहीं था. साथ ही मीडिया को भी लोक कल्याण के साथ-साथ ये भी संकेत देना चाहिए कि छात्रों के हित को खतरे में नहीं डाला जा सकता है.

 वहीं, बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में भी कॉन्वोकेशन था. 23 दिसंबर को. वहां के स्टूडेंट्स भी CAA को लेकर गुस्से में थे. एक स्टूडेंट ने तो डिग्री लेने से ही मना कर दिया क्योंकि उसके साथ के स्टूडेंट्स प्रोटेस्ट करने की वजह से जेल में बंद थे. और यूनिवर्सिटी प्रशासन को इस बात से कोई मतलब नहीं था. स्टूडेंट का नाम रजत है. उसका भी वीडियो वायरल हो रहा है.

रजत ने आर्ट्स स्ट्रीम से मास्टर्स किया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुलिस का कहना है कि उन्होंने प्रोटेस्टर्स को BHU से नहीं बल्कि बेनियाबाग से गिरफ्तार किया है, जो भीड़ के साथ प्रदर्शन कर रहे थे. बेनियाबाग BHU से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर है. पुलिस के मुताबिक, अगर BHU का कोई छात्र गिरफ्तार है, तो वो इसकी पुष्टि नहीं कर सकते हैं.


वीडियो देखें: CAA और NRC को लेकर दिल्ली के रामलीला मैदान से कांग्रेस पर बरसे PM नरेंद्र मोदी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पहले मोदी ने NRC पर झूठ बोला, अब अमित शाह NPR पर झूठ बोलते धरे गए

NPR पर अमित शाह का दावा उनकी सरकार के बयान से उलट है.

रेलवे के 166 साल के इतिहास में पहली बार वो नहीं हुआ जो होना ही नहीं चाहिए

2018-19 में रेल एक्सीडेंट में नहीं हुई किसी यात्री की मौत.

CAA Protest: यूपी सरकार ने प्रदर्शनकारियों को 14 लाख का नोटिस भेजा है

योगी आदित्यनाथ ने पहले ही चेताया था.

सोनाक्षी सिन्हा ने 'दबंग 3' के लिए जो बात कही है उसके लिए बहुत हिम्मत चाहिए

सलमान खान ये बात कभी नहीं कह पाते.

कल्कि ने बताया- पहली फिल्म के बाद उन्हें रशियन प्रोस्टिट्यूट समझ लिया गया था

अपने पहले फिल्म ऑडिशन से भाग क्यों आई थीं कल्कि?

कंगना रनौत ने CAA प्रोटेस्ट्स पर बयान दिया, मनीष सिसोदिया ने क्लास लगा दी

टैक्स की बात की, लेकिन ये जरूरी चीज़ भूल गईं.

BJP ने ट्विटर पर ऐसी बात लिख दी कि लोग ट्वीट करने वाले को ढूंढ रहे

पेरियार का अपमान करके भाजपा ने ट्वीट डिलीट कर दिया.

CAA, NRC के विरोध में इस लड़की ने गोल्ड मेडल लेने से इनकार कर दिया है

इतना डरा हुआ था यूनिवर्सिटी प्रशासन कि उसे कॉन्वोकेशन हॉल में जाने से रोक दिया.

जर्मनी का लड़का CAA के खिलाफ प्रोटेस्ट में शामिल हुआ तो इमिग्रेशन वालों ने वापस भेज दिया

IIT मद्रास में हुए प्रोटेस्ट में शामिल हुआ था.

ओशो की पर्सनल सेक्रेटरी रहीं मां आनंद शीला ने प्रियंका चोपड़ा को लीगल नोटिस क्यों भेजा है?

कहती हैं कि यंग थीं, तब आलिया भट्ट जैसी दिखती थीं.