Submit your post

Follow Us

ज़मीन पर पड़े घायल किसान और सबस्टेशन में लगी आग के बीच उन्नाव ज़मीन का पूरा मामला समझिए

5
शेयर्स

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में किसानों ने ज़मीन के मुआवजे के लिए जमकर बवाल काटा. सैकड़ों की संख्या में धरना प्रदर्शन किया. किसानों का कहना है कि उन्हें उनकी ज़मीन के एवज में सही मुआवजा नहीं दिया गया. जबकि ज़िले के डीएम देवेंद्र पांडे का कहना है किसानों का जितना मुआवजा बनता है वो दिया जा चुका है. प्रशासन के पास इनका कोई बकाया नहीं है.

विवाद क्या है विस्तार से समझिए?

उन्नाव में उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास निगम की ट्रांस गंगा सिटी परियोजना के तहत किसानों की ज़मीन अधिग्रहित की गई. जिसके बाद किसानों को सरकारी रेट से मुआवजा दे दिया गया. लेकिन किसानों के मुताबिक जो मुआवजा दिया गया वो काफी कम था, जिसके बाद वो और मुआवजे की मांग करने लगे. काफी दिनों से मुआवजे की मांग जब अनदेखी की गई तो किसानों ने धरना प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. इसके बाद पुलिस ने जब प्रदर्शन शांत कराने की कोशिश की तब मामला बिगड़ गया और दोनों के बीच झड़प की स्थिति उत्पन्न हो गई. यहां तक कि किसानों के गुस्से को शांत करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज भी करनी पड़ी.

16 नवंबर को हुए इस प्रदर्शन की चिंगारी अगले दिन भी शांत नहीं हुई. 17 नवंबर के दिन गुस्साए किसानों ने सब स्टेशन के पाइप लाइन को आग के हवाले कर दिया. इस आग पर पुलिस ने बहुत ही मुश्किल से काबू पाया. ये सबस्टेशन ट्रांस गंगा सिटी एरिया के एक किमी के दायरे में ही बना था.

इस मामले का वीडियो देखिए-

किसानों के हंगामे को देखते हुए 12 थानों की फोर्स के साथ पीएसी की तैनाती की गई. लेकिन किसानों का विरोध नहीं रुक रहा है. पुलिस और किसानों की झड़प में 5 पुलिस वाले घायल हुए हैं, जबकि पुलिस ने 30 नामजद समेत 230 लोगो. के खिलाफ केस दर्ज किया है. वहीं इस मामले में 5 लोगों की गिरफ्तारी भी हुई है.

किसान और पुलिस के बीच हुई झड़प के बीच एक वीडियो भी काफी वायरल हो रहा है जिसमें पुलिस ज़मीन पर पड़े किसान को पीट रही है. इस वीडियो को शेयर करके लोग पुलिस की निंदा कर रहे हैं.

किसान नेता सनोज यादव ने आरोप लगाया कि-

सरकार ने गलत तरीके से किसानों की जमीन अधिग्रहीत की है. ऐसे में किसानों को उचित मुआवजा दिया जाए. साथ ही नौकरी व डेवलेपमेंट लैंड जमीन मुहैया कराई जाए.

उन्नाव विवाद पर प्रियंका गांधी ने यूपी सरकार को निशानने पर लिया है. उन्होंने लिखा-

उप्र के सीएम क्या केवल किसानों पर लच्छेदार भाषण ही दे पाते हैं? क्योंकि भाजपा सरकार में किसानों का अपमान ही होता रहता है. उन्नाव में जमीन का मुआवजा मांग रहे किसानों की पुलिस ने बेरहमी से पिटाई की. महिला किसानों को भी पीटा गया. किसानों की जमीन ली है तो मुआवजा तो देना ही होगा.

अभी फिलहाल इस मामले में कोई बीच का रास्ता नहीं निकल पाया है. वहीं दूसरी तरफ उन्नाव के ज़िलाधिकारी हालात को पूरी तरह से काबू में बता रहे हैं. मीडिया से बातचीत में डीएम ने कहा, हम गांवों में जाएंगे और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करेंगे. यह उपद्रवियों का काम है.


Video: दाइतारी नायक ने अपना पद्म श्री वहां टांग दिया जहां वो बकरियों को बांधते हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?

जिस अधिकारी पर प्रियंका गांधी ने गला दबाने का आरोप लगाया उसने क्या कहा है

भाई की मौत की खबर मिलने के बाद भी ड्यूटी पर तैनात थीं अफसर.

प्रियंका गांधी का UP पुलिस पर बड़ा आरोप, 'मुझे घेरा और मेरा गला दबाया'

लखनऊ दौरे पर हैं प्रियंका गांधी.

एक महीने में 77 बच्चों की मौत पर राजस्थान के CM बोले- इसमें कोई नई बात नहीं है

अस्पताल में इसी साल अब तक 940 बच्चों की मौत हो गई है.

क्या आर्मी चीफ बिपिन रावत ने अपने ताज़ा बयान से लाइन क्रॉस की है?

CAA प्रोटेस्ट का नाम लिए बग़ैर अपने 'विचार' रखे. फिर सेना के अफसरों से लेकर नेताओं तक ने प्रतिक्रिया दी.

100 लोगों से भरे प्लेन ने उड़ान भरी और तुरंत बाद एक बिल्डिंग से टकराकर क्रैश हो गया

अभी कुछ मौतों की पुष्टि हुई है, आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है.

क्या मुखर्जी नगर में रहने वाले स्टूडेंट्स को जबरन छुट्टी पर भेज रही है दिल्ली पुलिस?

लोग इसे CAA प्रोटेस्ट से जोड़कर देख रहे हैं.