Submit your post

Follow Us

अकेले कार चलाने पर भी मास्क जरूरी, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर लोगों ने नेताओं को आईना दिखा दिया

अगर आप दिल्ली में हैं और अपनी कार में अकेले सफर कर रहे हैं तो भी मास्क लगाना जरूरी है. कोरोना के फिर से बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली हाईकोर्ट ने ये फैसला दिया है. जस्टिस प्रतिभा सिंह की सिंगल बेंच ने बुधवार 7 अप्रैल को अपने फैसले में कहा कि प्राइवेट गाड़ी में चाहे एक व्यक्ति हो या एक से अधिक, मास्क या फेस कवर पहनना जरूरी है.

इस तरह की याचिकाएं दिल्ली हाईकोर्ट में डाली गई थीं, जहां अकेले कार चला रहे व्यक्ति का मास्क नहीं पहनने की वजह से चलान काटा गया था. एक याचिकाकर्ता वकील ने तो मास्क न पहनने पर 500 रुपए का चलान काटने के बदले 10 लाख का मुआवजा मांग लिया था. दलील थी कि व्यक्ति अकेला अपनी कार ड्राइव कर रहा है तो वह पब्लिक प्लेस नहीं है.

लेकिन कोर्ट ने इन याचिकाओं को खारिज करते हुए मास्क पहनने को जरूरी बताया है.

दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के बाद ट्विटर पर लोगों के रिएक्शन की बाढ़ आ गई. कुछ ने तो हालिया नेताओं की चुनावी रैलियों से भी इसे जोड़ दिया.  कुछ ट्वीट देखिए.

दिल्ली सरकार ने क्या कहा था?

दिल्ली में सौरभ शर्मा नाम के एक व्यक्ति का सितंबर 2020 में चालान कट गया था. 500 रुपए का. सौरभ कार में थे औऱ मास्क नहीं पहना था. पेशे से वकील सौरभ ने इसके ख़िलाफ हाईकोर्ट में पिटीशन फाइल की. 10 लाख रुपए का मुआवजा मांगा. केंद्र सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय का कहना था कि पब्लिक हेल्थ राज्य का मामला है. सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार ने हाई कोर्ट के सामने पिछले साल 18 नवंबर को कहा था कि आपकी पर्सनल गाड़ी आपका प्राइवेट ज़ोन नहीं है. इसमें बैठे हर व्यक्ति को मास्क लगाना ज़रूरी है.

दिल्ली सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के एक जजमेंट को भी कोट किया, जिसके मुताबिक–

सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा था?

आमतौर पर लोगों के बीच धारणा होती है कि गाड़ी उनकी पर्सनल होती है, उसके भीतर वो चाहे जो कर सकते हैं लेकिन सुप्रीम कोर्ट अपने फैसले में साफ कर चुका है कि ऐसा नहीं है.

जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस केएम जोसेफ ने फैसले में कहा था,

बिहार एक्साइज़ एक्ट के कुछ प्रवाधानों को चुनौती देते हुए सतविंदर सिंह ने एक याचिका दायर की थी. बिहार के बाहर शराब पीने की वजह से उनका चलान कट गया था. उसी याचिका पर सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने ये फैसला दिया था.


लॉकडाउन लगा रहे राज्यों की वैक्सीन वाली ये मांग मोदी सरकार मान क्यों नहीं रही?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अनिल देशमुख का महाराष्ट्र के गृह मंत्री पद से इस्तीफा, जानिए क्या कारण बताया है

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने उन पर गंभीर आरोप लगाए थे.

अमेरिकी संसद पर हमले के बारे में अब तक क्या-क्या पता चला है?

हमले में पुलिसवाले की मौत हो गई, हमलावर मारा गया.

यूपी पुलिस ने जिस हिस्ट्रीशीटर आबिद को गनर दिया है, वो है कौन?

आबिद पर आरोप है कि उसने अतीक के कहने पर अपनी बहन की हत्या करवाई थी.

मनसुख हिरेन मर्डर केस: NIA को मीठी नदी में कौन से अहम सुराग मिले हैं?

आरोपी सचिन वाझे को लेकर नदी पहुंची थी जांच एजेंसी.

फिल्मी अंदाज में अस्पताल से भागने वाला गैंगस्टर कुलदीप फज्जा एनकाउंटर में मारा गया!

पुलिस की आंखों में मिर्च पाउडर फेंक कुलदीप को भगा ले गए थे उसके साथी.

सुशांत सिंह राजपूत की बहन के खिलाफ़ मुकदमा खारिज करने से सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ इंकार कर दिया

सुशांत को गैरकानूनी दवाइयां देने के मामले में रिया चक्रवर्ती ने केस दर्ज करवाया था.

पंजाब से यूपी की जेल भेजा जाएगा मुख्तार अंसारी, SC में काम कर गई विजय माल्या वाली दलील!

यूपी सरकार के बार-बार कहने पर भी मुख्तार को क्यों नहीं भेज रही थी पंजाब सरकार?

लॉकडाउन के दौरान लोन की EMI टाली थी तो ब्याज को लेकर सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला पढ़ लीजिए

EMI टालने की छूट बढ़ाने और पूरा ब्याज माफ करने पर भी कोर्ट ने रुख साफ कर दिया है.

भारत में कोरोना की सेकेंड वेव पहले से भी ज्यादा खतरनाक?

पिछले 24 घंटे में नवंबर 2020 के बाद अब सबसे ज़्यादा मामले आए हैं.

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वसूली कर रहे या राज्य में सरकार गिराने की कोशिश चल रही?

मनसुख हीरेन की मौत के बाद क्या सब चल रहा है?