Submit your post

Follow Us

कोटकपूरा फायरिंग: पंजाब के पूर्व CM प्रकाश सिंह बादल को SIT ने जांच के लिए तलब किया

प्रकाश सिंह बादल. पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और शिरोमणि अकाली दल के संरक्षक. श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के बाद हुए कोटकपूरा फायरिंग मामले की जांच के लिए गठित नई SIT (स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम) ने समन भेजा है. उन्हें 16 जून को पेश होने के लिए कहा गया है.

प्रकाश सिंह बादल उस समय पंजाब के मुख्यमंत्री थे जब श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के बाद 14 अक्टूबर 2015 को पुलिस की ओर से कोटकपूरा फायरिंग में दो लोगों की मौत हो गई थी औऱ कई घायल हुए थे. फायरिंग के आदेश किसने दिए इसकी जांच के लिए बादल को तलब किया गया है.

नोटिस में लिखा है,

आपको उपरोक्त मामले में जांच के लिए मोहाली में PSPCL रेस्ट हाउस में 16 जून 2021 को सुबह 10.30 बजे SIT के सामने प्रासंगिक रिकॉर्ड के साथ व्यक्तिगत रूप से पेश होने के लिए कहा जाता है.

पिछली SIT की जांच को रद्द करने के बाद पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट के निर्देश पर गठित नई SIT का नेतृत्व ADG रैंक के अधिकारी एलके यादव कर रहे हैं. 9 अप्रैल को न्यायमूर्ति राजबीर सहरावत की बेंच ने कुंवर विजय प्रताप सिंह द्वारा दायर जांच और चार्जशीट को रद्द कर दिया था. इस SIT का गठन सितंबर 2018 में कैप्टन अमरिंदर सरकार द्वारा किया गया था.

हाईकोर्ट द्वारा पुरानी SIT की जांच और SIT को रद्द किए जाने के बाद पूर्व आइजी कुंवर विजय प्रताप ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली थी. इसके बाद एलके यादव की अध्यक्षता में नई SIT का गठन किया गया.

पुरानी SIT भी कर चुकी है पूछताछ

पुरानी SIT ने नवंबर 2018 में पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से पूछताछ की थी.इस पूछताछ के दौरान भी हाईप्रोफाइल ड्रामा हुआ था. जब कुंवर विजय प्रताप अकेले ही पूर्व मुख्यमंत्री के आवास पर पूछताछ करने के लिए पहुंच गए थे. इस पर बादल ने उन्हें अपने सीनियर अधिकारियों को बुलाने के लिए कहा था. बाद में कुंवर ने SIT प्रमुख प्रबोध कुमार को बुलाया था. तब जाकर 45 तक मिनट तक SIT ने बादल से पूछताछ की थी.

इन लोगों से हो चुकी है पूछताछ

एलके यादव की अध्यक्षता वाली SIT पहले ही पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी और पंजाब पुलिस के कई अन्य अधिकारियों से पूछताछ कर चुकी है. इसमें तत्कालीन डीआइजी रणबीर सिंह खटरा भी शामिल हैं, जिन्होंने गुरु ग्रंथ साहिब की चोरी और बेअदबी में डेरा अनुयायियों की गिरफ्तारी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. SIT ने सैनी, तत्कालीन आइजी परमराज सिंह उमरानंगल (जिन्हें बाद में निलंबित कर दिया गया था) और तत्कालीन मोगा एसएसपी चरणजीत शर्मा पर लाई डिटेक्टर टेस्ट करने के लिए फरीदकोट ट्रायल कोर्ट के समक्ष एक आवेदन प्रस्तुत किया है.

क्या है मामला?

साल 2015. पंजाब का फरीदकोट ज़िला. ज़िले के बुर्ज जवाहर वाला गांव में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की चोरी हुई. 12 अक्टूबर 2015 को फरीदकोट के ही बरगाड़ी गांव में गुरु ग्रंथ साहिब के कुछ फटे हुए पन्ने मिले. यहीं से ये मामला पहली बार लोगों की नज़र में आया. क्योंकि जो फाड़े गए वो कोई मामूली पन्ने नहीं थे. पन्ने फाड़े जाने के बाद कई जगह विरोध प्रदर्शन हुए. 14 अक्टूबर 2015 को फरीदकोट के बेहबल कलां में हुए ऐसे ही एक विरोध प्रदर्शन में पुलिस से झड़प के दौरान 2 लोग मारे गए और एक गंभीर रूप से घायल हुआ. कोटकपूरा में हुए पुलिस लाठीचार्ज में भी काफी लोगों को गंभीर चोटें आईं. इसकी जांच के लिए तत्कालीन प्रकाश सिंह बादल सरकार ने जांच कमीशन बनाने के आदेश दिए. मृतकों के लिए एक करोड़ का मुआवज़ा भी दिया गया. बाद में इस मामले में कई लोगों के गिरफ्तार किया गया था. 2017 में पंजाब विधानसभा के चुनाव हुए और अकाली सरकार चली गई. इसके बाद कांग्रेस की सरकार बनी. और सरकार ने जांच आगे बढ़ाई. हालांकि पुरानी SIT की रिपोर्ट हाईकोर्ट ने खारिज कर नई SIT बना दी.


पंजाब चुनाव के पहले अकाली दल और BSP के गठबंधन में किसे कितनी सीटें मिलीं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?