Submit your post

Follow Us

युवराज सिंह ने बता दी अपने रिटायर होने की वजह

इंडियन ऑलराउंडर युवराज सिंह को रिटायर हुए एक साल हो गया. अपने खेलने के दिनों में युवराज टीम इंडिया के सबसे बड़े सितारों में से एक थे. पंजाब के लिए डोमेस्टिक क्रिकेट खेलने वाले युवराज ने अकेले दम पर भारत को कई मैच जिताए थे.

दो बार के वर्ल्ड चैंपियन युवराज साल 2011 वनडे वर्ल्ड कप के बेस्ट प्लेयर चुने गए थे. युवराज ने अपने कमाल के प्रदर्शन के दम पर भारत को 28 साल बाद फिर से वर्ल्ड चैंपियन बनाया था. वर्ल्ड कप के तुरंत बाद उन्हें कैंसरग्रस्त पाया गया था. लंबे इलाज के बाद युवी ने एक बार फिर से वापसी की थी.

# इसलिए हुए रिटायर

अपनी के बाद युवी ने अपना बेस्ट वनडे स्कोर भी बनाया लेकिन टीम में अपनी जगह पक्की नहीं कर पाए. लंबे वक्त के इंतजार के बाद उन्होंने 10 जून 2019 को क्रिकेट से रिटायर होने का फैसला किया. भारत के लिए 304 वनडे, 58 T20I और 40 टेस्ट खेलने वाले युवराज रिटायरमेंट के बाद कई विदेशी लीग्स में दिखे. हाल ही में गौरव कपूर के साथ एक बातचीत के दौरान युवराज ने अपने रिटायर होने की वजह बताई.

युवी ने कहा,

‘जब आप जिंदगी में तेज रफ्तार से चल रहे हों तो आपको कई चीजों का आभास नहीं होता और फिर एकाएक आपको लगता है कि, अरे ये क्या हो गया और मैं 2-3 महीनों से घर पर बैठा हूं, जाहिर तौर पर अलग वजहों से. मेरे करियर में वह स्टेज आ गया था जब क्रिकेट मानसिक रूप से मेरी मदद नहीं कर पा रहा था.

मैं हमेशा से क्रिकेट खेलना चाहता था लेकिन अब इससे मेरी मदद नहीं हो पा रही थी. मैं खुद को घसीटते हुए सोच रहा था कि मुझे कब रिटायर होना होगा, मुझे रिटायर हो जाना चाहिए? मुझे रिटायर नहीं होना चाहिए, क्या मैं एक और सीजन खेलूं?’

वनडे में 8701 रन बनाने वाले युवराज ने विदेशी लीग्स में खेलने को मज़ेदार बताया. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें बढ़ती उम्र के साथ गेम की तेजी से सामंजस्य बिठाने में दिक्कत हो रही थी.


टीम इंडिया के विश्व कप 2011 की जीत पर श्रीलंका के खेल मंत्री ने बड़ा आरोप लगाया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

नतीजे आने शुरू हो गए हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.