Submit your post

Follow Us

फेसबुक ले आया है आज के वक्त का सबसे ज़रूरी फीचर

फेसबुक ‘फेक न्यूज़’ को लेकर लगातार कदम उठा रहा है. मार्च में उसने अमेरिका में ‘डिस्प्यूटेड टैग’ लॉन्च किया था ताकि भ्रामक जानकारियों वाली खबरों को न्यूज़ फीड पर मार्क किया जा सके. अब फेसबुक 14 देशों में अपने यूजर्स को फेक न्यूज़ पहचानने के टिप्स भी देने वाला है. इन्हें फेसबुक ने ‘एजुकेशनल टूल’ कहा है. हालांकि इन देशों में भारत नहीं है.

7 अप्रैल से इंग्लैंड, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, इटली, फिलीपींस, इंडोनेशिया, ताइवान, म्यांमार, ब्राज़ील, मेक्सिको, कोलंबिया, अर्जेंटीना और कैनेडा के फेसबुक यूज़र्स को अपने न्यूज़ फीड पर सबसे ऊपर एक मैसेज दिखेगा. ‘it is possible to spot fake news’ टाइटल वाले इस मैसेज में फेक न्यूज़ को पहचानने के लिए 10 टिप्स होंगी. ये टिप्स तीन दिन तक फेसबुक पर रहेंगी और किसी एक यूज़र को ज़्यादा से ज़्यादा तीन बार ये नज़र आएंगी. इन देशों के बाद ये टिप्स बाकी दुनिया के फेसबुक यूज़र्स को भी दिखाई देंगी.

A man is silhouetted against a video screen with a Facebook logo as he poses with a Samsung S4 smartphone in this photo illustration taken in the central Bosnian town of Zenica, August 14, 2013. REUTERS/Dado Ruvic/File Photo
हम में से कई लोग खबरें फेसबुक न्यूज़ फीड पर पढ़ते हैं. (फोटोः Reuters)

फेक न्यूज़ क्या है?

इंटरनेट के ज़माने में सूचनाओं की अति है. इसलिए सभी तथ्यों को जांचना मुश्किल है. कई बार एक ही बात के कई वर्ज़न होते हैं. तो ये पक्के तौर पर फेक न्यूज़ को पहचानना मुश्किल है. लेकिन अपनी सहूलियत के लिए फेसबुक ने फेक न्यूज़ की एक परिभाषा गढ़ी है. फेसबुक ऐसे आर्टिकल्स को फेक न्यूज़ मानता है जो असल न्यूज़ आर्टिकल जैसे दिखते हैं लेकिन जिनमें गलत तथ्य दिए होते हैं. तथ्य सही हैं या गलत, ये तय करने के लिए फेसबुक ने कुछ ‘फैक्ट चेकर्स’ के साथ समझौता किया है. इंटरनेशनल फैक्ट चेकिंग कोड ऑफ प्रिंसिपल्स को मानने वाले एबीसी न्यूज़, फैक्ट चेक डॉट ऑर्ग, स्नूप्स और पॉलिटिफैक्ट जैसे संस्थान ये तथ्य जांचेंगे.

फेसबुक पर पिछले दिनों से लगातार दबाव बना हुआ है कि वो फेक न्यूज़ को लेकर कदम उठाए. ‘हम एक मीडिया कंपनी नहीं हैं’ कह कर लंबे समय तक फेसबुक इस से बचता भी रहा. लेकिन अमेरिका में राष्ट्रपति चुनावों के दौरान फेक न्यूज़ एक बड़ी समस्या के तौर पर उभरा. अपनी बड़ी रीच की वजह से खासतौर पर फेसबुक न्यूज़ फीड को लेकर सवाल उठाए गए. तब जाकर फेसबुक न्यूज़ फीड के वाइस प्रेसिडेंट एडम मोसेरी सामने आए और कहा कि फेसबुक अपनी ओर से फेक न्यूज़ को लेकर कदम उठाएगा. ये टिप्स ऐसा ही एक कदम है.

कोई सूचना जब खबर की तरह पेश की जाती है, तो उसे सच की तरह लिया जाने लगता है. इसलिए भ्रामक खबरें एक बहुत बड़ी समस्या हैं. इससे पहले गूगल भी फेक न्यूज़ से निपटने के लिए कदम उठा चुका है. फेसबुक मान रहा है कि डिस्प्यूटेड टैग और इन टिप्स के बावजूद कई भ्रामक खबरें न्यूज़ फीड पर बनी रहेंगी. उनके लिए फेसबुक क्या कदम उठाता है, देखना होगा.


ये भी पढ़ेंः

फेसबुक ने फेक न्यूज का इलाज करना शुरू कर दिया है

मार्क जकरबर्ग का फेसबुक मैनिफेस्टो भारत की पत्रकारिता को बदल देगा

फेसबुक डिसलाइक का बटन ला रहा है, लेकिन एक चालाकी के साथ

मां हिरन की बच्चों के लिए दी गई कुर्बानी का सच होश उड़ाने वाला है

याद है, एक मुंहनोचवा आया था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

LAC पर चॉपर भेजकर अपने घायल सैनिकों को एयरलिफ्ट कर रहा है चीन

तनाव ज्यों का त्यों बना हुआ है.

गलवान घाटी में सैनिकों की शहादत पर रक्षा मंत्री का बयान आ गया है

गलवान में सेना के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हुए हैं.

हैदराबाद में पोस्टिंग का इंतज़ार कर रहे थे शहीद कर्नल बी संतोष

माता-पिता बोले, 'बेटे को खोने का दुख है, लेकिन गर्व भी महसूस हो रहा है.'

शहीद पलानी ने लोन लेकर घर बनवाया था, लेकिन एक बार देख भी नहीं सके

पत्नी से आखिरी बार हुई बातचीत में कहा था, 'मेरी चिंता मत करना'

17 दिन पहले पैदा हुई बेटी का चेहरा नहीं देख पाए लद्दाख में शहीद हुए कुंदन कुमार

भारत-चीन के बीच गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में शहीद हुए.

हफ़्ते भर पहले कोरोना-फ़्री हुए इसे देश में अब चौचक गड़बड़ हो गयी

बस वही, न्यूज़ीलैंड की बात है

मैच तो दोबारा शुरू करा लेंगे, लेकिन इस नई प्रॉब्लम का क्या करेंगे क्रिकेट बोर्ड?

हर टीम गेम में हो रही है ये समस्या.

युवी ने फर्स्ट चांस देने वाले सलेक्टर्स को कहा- थैंक्स, भज्जी बोले- आखिरी सलेक्टर्स को क्या कहोगे?

युवी ने बिना कहे ही एमएसके प्रसाद पैनल के लिए सबकुछ कह दिया.

सुशांत के जाने पर रवीना टंडन ने वो सब बता दिया जो वो इतने साल तक झेलती रहीं

रवीना ने कहा, 'इंडस्ट्री में डर्टी पॉलिटिक्स होती है'.

'दबंग' डायरेक्टर ने सलमान पर गंभीर आरोप लगाए, उनके भाई अनुराग कश्यप ने अपना पक्ष लिख दिया

अभिनव कश्यप ने कहा था कि सलमान, अरबाज़ और सुहैल ने उनका करियर बर्बाद कर दिया.