Submit your post

Follow Us

चीन के 'सीमा पर सब ठीक' वाले दावे पर भारत ने क्या जवाब दिया है?

पूर्वी लद्दाख की गलवान वैली में भारत-चीन सैनिकों के हिंसक संघर्ष को कई हफ़्ते बीत चुके हैं. भारत और चीन की तरफ़ से कई राउंड मीटिंग हो चुकी हैं. भारत लगातार कहता आ रहा है कि चीन पूरी तरह से पीछे नहीं हट रहा है. लेकिन अब चीन ने दावा किया है कि दोनों देशों के बीच शांति प्रक्रिया अपने अंतिम चरण में है. चीनी विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को दावा किया कि दोनों देशों के सैनिक ‘लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल’ (एलएसी) से पीछे हट गए हैं और जमीनी स्तर पर तनाव अब सामान्य स्थिति में पहुंच गया है. हालांकि भारत ने चीन के इस दावे को नकार दिया है.

चीन के राजदूत सन वेइदॉन्ग ने एक वेबिनार में ये तमाम बातें कहीं. भारत और चीन की दोस्ती पर बहुत कुछ कहा. लेकिन भारत ने दो टूक जवाब दिया है, “अभी सीमा पर चीन के साथ संघर्ष पूरी तरह ख़त्म नहीं हुआ है. चीन की सेना बातचीत के मुताबिक वापसी नहीं कर रही है.”

गलवान घाटी में हुए हिंसक संघर्ष के लिए चीन ने भारत को ज़िम्मेदार बताया है.

वेबिनार में चीन के राजदूत का दावा

‘इंस्टीट्यूट ऑफ चाइनीज स्टडीज’ के एक वेबिनार में भारत में चीन के राजदूत सन वेइदॉन्ग को आमंत्रित किया गया था, जहां उन्होंने अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि हम सीमा क्षेत्रों में तनाव को कम करने के लिए संयुक्त प्रयास कर रहे हैं. हमारे जवानों ने कहा कि हम कोई विरोधाभास नहीं चाहते और सीमा के आसापास शांति बनाए रखने की कोशिश कर रहे हैं.

Galwan River Map Into
सैटेलाइट इमेज के ज़रिए ऐसी दिखती है गलवान नदी और घाटी. (तस्वीर: प्लैनेट लैब्स/इंडिया टुडे)

# और क्या कहा?

कार्यक्रम में चीनी राजदूत ने कहा कि भारत और चीन एक-दूसरे के बिना नहीं रह सकते. दोनों देशों को एक-दूसरे की जरूरत है और वो टकराव के जाल में उलझने की बजाए अपने मतभेदों को सुलझाने में सक्षम हैं. उनका कहना था कि भारत और चीन के लिए जरूरी है कि वो अपने मतभेदों को अच्छे से मैनेज करें और आपस में सहयोग बढ़ाएं.

चीनी राजदूत काफी देर तक इस बात पर जोर देते रहे कि चीन को आक्रामक बताना अनुचित है. उनका कहना है कि चीन के पांच हजार साल के इतिहास में वो भले ही ‘दुनिया का सबसे ताकतवर मुल्क’ रहा हो, लेकिन उसने किसी दूसरे देश को अपना उपनिवेश नहीं बनाया. चीनी राजदूत ने भारत और चीन के बीच परस्पर मुनाफे की साझेदारी पर जोर दिया.

# भारत ने दो टूक जवाब दिया

विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव इस बारे में कहा-

विवाद सुलझाने की दिशा में कुछ प्रगति तो हुई है, लेकिन अभी भी चीन पूरी तरह पीछे नहीं हटा है. दोनों देशों के सीनियर कमांडर जल्दी ही मीटिंग करेंगे.

सीमा पर शांति और सौहार्द बनाए रखना ही दोनों देशों के संबंधों का आधार है. इसलिए हम ये उम्मीद कर रहे हैं कि चीन की तरफ़ से विवाद सुलझाने में पूरी मदद मिले और स्थिति ठीक वैसी ही हो, जैसे समझौते के समय थी. कम से कम अब तक की बैठकों में जो बातें तय हो गई हैं. उनका पालन तो चीन को करना ही चाहिए.

भारत और चीन के रिश्ते कभी बहुत अच्छे नहीं रहे. पिछले कुछ वक्त से दोनों के बीच लगातार दिक्कतें आ रही हैं. चीन लगातार भारत की अंतरराष्ट्रीय महत्वाकांक्षाओं में रोड़ा अटका रहा है.
भारत और चीन के रिश्ते कभी बहुत अच्छे नहीं रहे. पिछले कुछ वक्त से दोनों के बीच लगातार दिक्कतें आ रही हैं. चीन लगातार भारत की अंतरराष्ट्रीय महत्वाकांक्षाओं में रोड़ा अटका रहा है.

# चीन का दावा- हम एलएसी के हिसाब से ही हैं

चीन के राजदूत सन वेइदॉन्ग ने पैंगोंग लेक पर कमांडर लेवल की बातचीत से पहले ही अपनी दावेदारी पर जोर देकर कहा कि लेक के उत्तरी तट पर चीन की सीमा एलएसी के अनुसार ही है. उन्होंने उस दावे को खारिज किया, जिसमें ये कहा गया था कि चीनी सेना पैंगोंग लेक पर जमी हुई है.

पैंगोंग लेक पर जारी गतिरोध को लेकर चीनी राजदूत ने कहा, “ऐसा नहीं है कि चीन ने अपने क्षेत्रीय दावे का विस्तार किया हो. हमने तीन ऐसे फैसले लिए हैं, जो कभी नहीं बदल सकते हैं. पहला यह कि दो विकासशील पड़ोसी कभी नहीं बदल सकते. दूसरा- साझेदारी, मैत्रीपूर्ण सहयोग और सामान्य विकास जारी रहेगा. तीसरा, कि ये सोच कभी नहीं बदल सकती कि हम एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते हैं.”

# ‘चीन के आंतरिक मसलों में हस्तक्षेप न करें’

चीनी राजदूत ने चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने वालों को भी चेतावनी दी. उन्होंने कहा,

“चीन दूसरे देशों के आंतरिक मामलों से दूर रहने की नीति का पालन करता है और अपने आंतरिक मामलों में किसी बाहरी हस्तक्षेप को भी अनुमति नहीं देता है.”

ये भी कहा गया कि चीन भारत के लिए कभी भी रणनीतिक ख़तरा नहीं बनेगा.


ये वीडियो भी देखें:

अनलॉक-3 गाइडलाइंस: सरकार ने जिम, बार और रात में आने-जाने पर ये फैसला किया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ईरान ने समुद्री डाकुओं को रिहा किया और 11 भारतीय नाविकों को तस्कर बताकर जेल में डाल दिया!

ढाई महीने हो गए, कहीं कोई खोज ख़बर नहीं.

सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ FIR दर्ज़ करवाई

सुशांत ने 14 जून को सुसाइड कर लिया था.

अयोध्या में 5 अगस्त के भूमि पूजन को लेकर क्या-क्या तैयारियां चल रही हैं

रामलला की पोशाक से लेकर अयोध्या में रंग-रोगन तक की सारी बातें.

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को हड़काया, दिल्ली दंगे में पिंजरा तोड़ पर ऐसी बयानबाज़ी क्यों?

पुलिस ने क्या जवाब दिया, वो भी देखिए.

जिस मेट्रो स्टेशन के नीचे दंगे हुए, 5 महीने बाद भी दिल्ली पुलिस ने वहां से CCTV फ़ुटेज नहीं निकाली!

कोर्ट ने कहा, 'पुलिस में अजीब-सी सुस्ती है वीडियो फ़ुटेज को लेकर'

मास्क बांटने के बहाने बच्चे को किडनैप किया, चार करोड़ मांगे, पुलिस ने 24 घंटे में पकड़ लिया

यूपी के गोंडा का मामला, पांच आरोपी भी गिरफ्तार.

चुनाव आयोग ने बीजेपी IT सेल से जुड़ी कंपनी से चुनावी कामधाम करवाया!

ये कम्पनी पूर्व महाराष्ट्र सरकार और दूसरे सरकारी विभागों का भी काम देख रही थी.

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.