Submit your post

Follow Us

खाद की महंगाई से परेशान किसानों को सरकार ने क्या राहत दी है?

पिछले महीने खाद की कीमतें बढ़ने के बाद से ही लगातार आलोचना झेल रही केंद्र सरकार ने अहम फैसला लिया है. सरकार ने डी-अमोनियम फास्फेट यानी DAP उर्वरकों पर सब्सिडी बढ़ाने का ऐलान किया है. ये बढ़ोतरी 140 फीसदी की होगी. कोरोना महामारी के बीच महंगाई से जूझ रहे किसानों को इससे राहत मिलेगी.

पहले सरकार 50 किलो की खाद की बोरी पर 500 रुपये सब्सिडी देती थी. अब इसे बढ़ाकर 1200 रुपये कर दिया गया है. इसका मतलब ये कि अब ये खाद की बोरी किसानों को 1200 रुपये में ही मिल सकेगी. पीएम की अध्यक्षता में बुधवार को DAP उर्वरकों की बढ़ती कीमतों पर हाई लेवल मीटिंग हुई थी, जिसमें ये फैसला लिया गया.

सरकार की ओर से जारी स्टेटमेंट में बताया गया कि फॉस्फोरिक एसिड, अमोनिया आदि महंगे होने की वजह से उर्वरकों की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि देखी जा रही है. बैठक में पीएम ने जोर देकर कहा कि अंतरराष्ट्रीय कीमतों में बढ़ोतरी के बावजूद किसानों को पुरानी दरों पर ही खाद मिलनी चाहिए. इसके बाद DAP खाद के लिए सब्सिडी 140 फीसदी बढ़ाने का ऐतिहासिक निर्णय लिया गया.

सब्सिडी में इस बढ़ोतरी का बोझ केंद्र सरकार ही उठाएगी. केंद्र सरकार हर साल रसायनिक उर्वरकों की सब्सिडी पर पर लगभग 80,000 करोड़ रुपये खर्च करती है. DAP पर सब्सिडी बढ़ाने से सरकार को अब 14,775 करोड़ अधिक खर्च करने होंगे.

पिछले महीने 58 % बढ़े थे दाम

उर्वरक कंपनियों की ओर से खाद के दाम बढ़ाए जाने के लगभग एक महीने बाद सरकार ने किसानों के लिए ये फैसला लिया है. 8 अप्रैल को इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर को-आपरेटिव लिमिटेड यानी IFFCO ने 50 किलो वाली DAP की बोरी की कीमत में लगभग 58% प्रतिशत का इजाफा कर दिया था. इसकी वजह DAP में इस्तेमाल होने वाले फॉस्फोरिक एसिड, अमोनिया आदि की अंतरराष्ट्रीय कीमतें 60% से 70% तक बढ़ना बताया गया.

रेट बढ़ने के बाद ये बोरी करीब 2400 रुपये की हो गई थी. इसमें केंद्र सरकार 500 रुपये प्रति बोरी की सब्सिडी दे रही थी. ऐसे में किसानों को कंपनी से 1900 रुपये प्रति बोरी के हिसाब से खाद मिल रहा था. पिछले साल 50 किलो DAP की कीमत 1,700 रुपये थी. सरकार की 500 रुपये की सब्सिडी के बाद किसानों को ये 1200 रुपये बोरी पड़ती थी.

विरोध प्रदर्शन भी हुए

खाद की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर किसानों ने विरोध प्रदर्शन भी किए थे. राजनीतिक दल भी सरकार को निशाने पर ले रहे थे. कांग्रेस पार्टी ने कहा था कि केंद्र सरकार ने DAP खाद की 50 किलो की बोरी पर 700 रुपये बढ़ा दिए हैं. अन्य उर्वरक भी महंगे हुए हैं. इससे किसानों पर सालाना 20 हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा. यह अन्नदाताओं को गुलाम बनाने की साजिश है.

NCP के प्रमुख शरद पवार ने भी सरकार को चिट्ठी लिखी थी. कोरोना महामारी के बीच खाद की महंगाई से किसानों को इससे राहत देने की मांग की थी. NDA के सहयोगी अकाली दल ने भी खाद की कीमतों में वृद्धि का विरोध किया था. केंद्र सरकार से किसानों को सब्सिडी देने की मांग की थी. पार्टी का कहना था कि उर्वरकों की कीमतों में 50-60% की वृद्धि किसानों की कमर तोड़ देगी.

इन्हीं मांगों और विरोध के बीच केंद्र सरकार ने मॉनसून से पहले खाद पर सब्सिडी बढ़ाकर किसानों को राहत दी है.


कोरोना की दूसरी लहर में वेंटिलेटर्स की कमी के बीच ये खबर जान गुस्सा बढ़ जाएगा!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

किसी ने लोन लेकर परिवार को नया घर दिया था तो कोई दिवंगत पिता के शोक में जाने वाला था.

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

पुलिस ने संदिग्ध आतंकी के पास से एके-47, हैंड ग्रेनेड और कई कारतूस मिलने का दावा किया है.

Urban Company की महिला 'पार्टनर्स' ने इसके खिलाफ मोर्चा क्यों खोल दिया है?

Urban Company की महिला 'पार्टनर्स' ने इसके खिलाफ मोर्चा क्यों खोल दिया है?

ये महिलाएं अर्बन कंपनी के लिए ब्यूटिशियन या स्पा वर्कर का काम करती हैं.

लखीमपुर केस में आशीष मिश्रा 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार

लखीमपुर केस में आशीष मिश्रा 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार

जांच में सहयोग नहीं करने का आरोप.

नवाब मलिक ने कहा-NCB ने 11 को हिरासत में लिया था फिर 3 को छोड़ क्यों दिया?

नवाब मलिक ने कहा-NCB ने 11 को हिरासत में लिया था फिर 3 को छोड़ क्यों दिया?

NCB की रेड को फर्जी बताया, ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की कॉल डिटेल की जांच की मांग की

आशीष मिश्रा लखीमपुर में हैं या नहीं? पिता अजय मिश्रा और रिश्तेदारों के जवाबों ने सिर घुमा दिया

आशीष मिश्रा लखीमपुर में हैं या नहीं? पिता अजय मिश्रा और रिश्तेदारों के जवाबों ने सिर घुमा दिया

अजय मिश्रा कुछ और कह रहे, परिवारवाले कुछ और कह रहे.

RBI ने ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर करने वालों को बड़ी खुशखबरी दी है

RBI ने ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर करने वालों को बड़ी खुशखबरी दी है

RBI की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी (MPC) की बैठक आज खत्म हो गई.

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

विस्तृत रिपोर्ट दाखिल करने के लिए यूपी सरकार को एक दिन का वक्त दिया है.

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

रविवार 3 अक्टूबर की शाम से यहां कर्फ्यू लगा है.

पैंडोरा पेपर्स: लक्ष्मी निवास मित्तल के भाई प्रमोद मित्तल पर बड़ी टैक्स चोरी और धोखाधड़ी का आरोप

पैंडोरा पेपर्स: लक्ष्मी निवास मित्तल के भाई प्रमोद मित्तल पर बड़ी टैक्स चोरी और धोखाधड़ी का आरोप

ब्रिटेन की अदालतों में इन दोनों ने अपनी आय शून्य बताई थी.