Submit your post

Follow Us

जानिए, बढ़ी एक्साइज ड्यूटी का आपकी जेब पर क्या असर पड़ेगा?

बीते दिनों कच्चे तेल की गिरती कीमतों को लेकर खूब सारी खबरें आईं. खूब मीम बने. यहां तक कहा गया कि अब पेट्रोल पंप वाले बुला बुला कर तेल बांटेंगे. इसी बीच एक खबर और आई है. पेट्रोल डीजल के दामों पर लगने वाले एक्साइज ड्यूटी सरकार ने बढ़ा दी है. 5 मई की रात किए गए इस बदलाव में 8 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई गई है. इसके अलावा 2 रुपए प्रति लीटर पेट्रोल पर और 5 रुपए प्रति लीटर डीजल पर स्पेशल एडिशनल ड्यूटी भी बढ़ाई गई है. इस तरह से कुल मिलाकर पेट्रोल की कीमत में 10 रुपए और डीजल की कीमत में 13 रुपए की बढ़ोतरी हुई है. बढ़ी हुई नई कीमतें 6 मई से लागू होंगी. लेकिन ये कीमतें आम आदमी के लिए नहीं होंगी.

आम आदमी पर क्या असर पड़ेगा?

कोई असर नहीं पड़ेगा. क्योंकि असल में ये दाम बढ़े नहीं है. बल्कि अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की गिरती कीमतों की वजह से पेट्रोल-डीजल के दाम में जो 8 रुपए की कमी हो सकती थी वो नहीं हुई है. मतलब ये कि दाम जस के तस हैं. सरकार ने अपने मुनाफे में बढ़ोतरी का जुगाड़ कर लिया है. पेट्रोल-डीजल के दाम तभी बढ़ेंगे जब राज्य सरकारें वैट में बढ़ोतरी करेंगी. जैसे कि आज 5 मई को दिल्ली सरकार ने पेट्रोल पर 1.67 रुपए प्रति लीटर और डीजल पर 7.10 रुपए प्रति लीटर VAT बढ़ाया है. एक्साइज ड्यूटी बढ़ने का पेट्रोल-डीजल के दामों पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

कोरोना से निपटने में काम आएगा पैसा!

हाल के दिनों में अंतरराष्ट्रीय मार्केट में तेल की कीमतों में भारी गिरावट देखने को मिली है और सरकार इसका पूरा फायदा उठा लेना चाहती है. इससे पहले 14 मार्च को भी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर 3 रुपए एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई थी. ये भी कहा जा रहा है कि सरकार ने ये कदम कोरोना वायरस के प्रभाव से निपटने के लिए भविष्य को ध्यान में रखते हुए उठाया है. कच्चे तेल की कीमतों में आई कमी का लाभ उठाकर सरकार पर्याप्त मात्रा में पैसा इकट्ठा कर लेना चाहती है. ये पैसा कोरोना वायरस और उसके प्रभाव से निपटने के काम आ सकता है.

क्या होती है एक्साइज ड्यूटी?
एक्साइज ड्यूटी या एक्साइज टैक्स या उत्पाद शुल्क. ये एक तरह का अप्रत्यक्ष कर (indierct tax) है. इसे किसी प्रोडक्ट के उत्पादन या मैनुफैक्चरिंग पर लगाया जाता है. जिसके बाद प्रोडक्ट मार्केट में बिकने के लिए आता है. GST लागू होने से पहले लगभग हर तरह के प्रोडक्ट पर एक्साइज ड्यूटी लगता था. लेकिन GST के बाद अब यह केवल कुछ ही वस्तुओं पर लगता है. जैसे- शराब, पेट्रोलियम पदार्थ, पेट्रोल, डीजल, प्राकृतिक गैस, क्रूड ऑयल और एविएशन टर्बाइन फ्यूल आदि. जिन प्रोडक्ट्स पर एक्साइज ड्यूटी लगती है उन पर GST नहीं लगता.


अर्थात: केंद्र सरकार अगर राज्यों की नहीं सुनती है, तो लॉकडाउन 3.0 के बाद देश का क्या होगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

इज़रायल का दावा, कोरोना की दवा मिल गयी!

बस बड़े लेवल पर निर्माण का इंतज़ार.

कोरोनावायरस : आंकड़े की जांच हुई तो पश्चिम बंगाल का सच सामने आ गया!

पश्चिम बंगाल का कोरोना से जुड़ी मौतों का आंकड़ा छिपा रहा है?

दिल्ली में शराब पर सरकार की ‘स्पेशल फीस’

..ताकि ‘रहें सलामत पीने वाले’.

लद्दाख BJP अध्यक्ष ने छोड़ी पार्टी, कहा- लद्दाख के लोगों के बारे में न पार्टी सुन रही, न प्रशासन

चेरिंग दोरजे दो महीने पहले ही अध्यक्ष बनाए गए थे.

सूरत में प्रवासी मज़दूरों का सब्र फिर जवाब दे गया है

इस बार भी बीच में पुलिस ही पिस रही है.

यूपी : CM योगी के मृत पिता के बहाने लॉकडाउन में बद्रीनाथ-केदारनाथ जा रहे थे विधायक, पुलिस ने धर लिया

नौतनवा के विधायक अमनमणि त्रिपाठी का है मामला.

जानिए कौन हैं जम्मू कश्मीर के हंदवाड़ा में शहीद हुए पांच सुरक्षाकर्मी

सुरक्षाकर्मी आतंकियों के कब्जे से आम लोगों को निकालने के लिए गए थे.

दिल्ली में एक ही बिल्डिंग में मिले कोरोना के 58 पॉजिटिव मरीज

जिन्हें संक्रमण हुआ है वो लोग एक ही टॉयलेट इस्तेमाल करते थे.

कुलभूषण जाधव मामले में वकील हरीश साल्वे ने खोले पाकिस्तान के कई बड़े राज

भारतीय अधिवक्ता परिषद के ऑनलाइन लेक्चर में कई बातें बताईं.

लोकपाल मेंबर कोरोना पॉज़िटिव पाए गए थे, अब हार्ट अटैक से मौत हो गई

अप्रैल से एम्स में थे अजय कुमार त्रिपाठी.