Submit your post

Follow Us

सड़क पर घायल लोगों को अनदेखा करनेवाले इस BJP विधायक से सीखें

हम लोग हमेशा विधायकों की, जनप्रतिनिधियों की कमियों को ही हाईलाईट करते रहते हैं. उनकी हर नकारात्मक बात सुर्ख़ियों में रहती है. आलोचना के निशाने पर रहती है. रहनी भी चाहिए. लेकिन वो भी तो इंसान ही हैं. उतने ही अच्छे बुरे, जितने हम. कई बार उनकी कुछ अच्छी चीज़ें भी नज़र में आ जाती हैं. बात उन पर भी होनी चाहिए.

उत्तरप्रदेश का फर्रुखाबाद जिला. गांव नेकपुर. यहां दो मोटरसाइकलें और एक साइकल आपस में टकरा गईं. बुरी तरह से. साइकिल सवार को बचाने के चक्कर में एक मोटरसाइकल फिसल गई और उसी वक्त दूसरी बाइक इन सबसे आ टकरा गई. तीनों बेहोश हो गए. उसी वक़्त वहां से विधायक सुनील दत्त द्विवेदी की गाड़ी गुज़र रही थी. सड़क पर पड़े घायलों को देखकर उन्होंने अपनी गाड़ी रोकी. सारे घायलों को अपनी गाड़ी में लादा और तुरंत हॉस्पिटल ले गए.

सुनील दत्त द्विवेदी.
सुनील दत्त द्विवेदी.

हॉस्पिटल पहुंचने पर पता चला कि स्ट्रेचर उपलब्ध नहीं है. विधायक जी ने तुरंत एक मरीज़ को पीठ पर लाद लिया. इमरजेंसी वॉर्ड की तरफ चल दिए. खुद विधायक को एक्शन में देखकर हॉस्पिटल के स्टाफ ने भी तत्परता दिखाई. घायलों का तुरंत इलाज शुरू हुआ. तीनों की हालत अब स्थिर है.

sdtt

सुनील दत्त द्विवेदी भारतीय जनता पार्टी के विधायक हैं. उन्होंने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को बताया कि दो ही स्ट्रेचर उपलब्ध थे. इसलिए मैंने तीसरे आदमी को उठा लिया था. तीनों घायलों के नाम अरविंद सिंह, ऋषभ और रामेश्वर सिंह है. अरविंद सिंह ने बताया कि वो विधायक जी का एहसानमंद है. उन्होंने हम तीन लोगों की जान बचाई है.

जब तमाम राजनेताओं के बारे में नकारात्मक बातें ही सुनने मिलती हैं, तब ऐसी कुछ ख़बरें सुकून देती हैं. ये विश्वास दृढ होता है कि अंत-पंत मनुष्यता का जज़्बा ही सब चीज़ों पर भारी पड़ता है. ये किसी व्यक्ति या पार्टी का महिमामंडन नहीं है. बस एक अच्छे व्यक्ति के अच्छे काम को बता रहे हैं.

किसी ने इस घटना का वीडियो भी बना लिया जिसे विधायक जी ने बाद में अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर भी किया.


ये भी पढ़ें:

दुनिया की सबसे बदनाम बंदूक और उसे बनाने वाले की कहानी

पाकिस्तान में लड़के ने लड़की के साथ वो किया जो कोई दुश्मन के साथ भी न करता

मुल्लाशाही से छुटकारा मिलते ही जला डाला बुर्का, नोच डाली दाढ़ी

ये ख़बर पढ़िए और तय कीजिए, हिंदू-मुस्लिम-ईसाई में कौन सबसे ज़्यादा ख़राब है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, कभी खत्म न होने वाली कहानी न बन जाए ये जांच.

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

राकेश टिकैत ने भी मीडिया से बात की है.

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

कुरान को लेकर अफवाह उड़ी और बांग्लादेश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव फैल गया.

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

जज ने दोनों पक्षों की दलीलें तो सुनी लेकिन अपना फैसला रिज़र्व रख दिया.

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

किसी ने लोन लेकर परिवार को नया घर दिया था तो कोई दिवंगत पिता के शोक में जाने वाला था.