Submit your post

Follow Us

बिहार में कोरोना से मरने वालों की संख्या एक ही दिन में 4 हजार कैसे बढ़ गई?

बिहार में कोरोना की दूसरी लहर में कितने लोगों की जानें गईं, इसे लेकर लगातार सवाल उठते रहे हैं. अब बिहार के स्वास्थ्य विभाग ने खुद ही असलियत बताई है. माना कि मौतों के आंकड़े बताने में गलती हुई. विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि अब तक मौतों की जो संख्या 5,458 बताई गई थी, वो सही नहीं है. असली आंकड़ा 9375 है. इस बदलाव के बाद कोरोना के मरने वालों की आधिकारिक संख्या में करीब 58 फीसदी की बढ़ोतरी हो गई है.

हाईकोर्ट की फटकार के बाद जागी सरकार

राज्य की नीतीश कुमार सरकार ने कोरोना से मौतों की सही संख्या का पता लगाने के लिए 18 मई को जांच कराने का ऐलान किया था. इसके लिए दो तरह की टीमें बनाई गई थीं. जिलेवार जांच हुई. ये कवायद पटना हाईकोर्ट की कड़ी फटकार के बाद शुरू की गई. चीफ जस्टिस की बेंच ने सरकार को सभी सोर्स से कोरोना मौतों की संख्या वेरिफाई करके रिपोर्ट पेश करने को कहा था. गंगा में लाशें बहने के मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट का ये कड़ा रुख उस समय सामने आया, जब मौतों को लेकर दो एफिडेविट में अलग-अलग आंकड़े बताए गए. बिहार के चीफ सेक्रेटरी ने कोर्ट में दावा किया कि बक्सर में 1 मार्च 2021 से अब तक सिर्फ 6 लोगों की मौत कोरोना से हुई है. वहीं पटना के डिवीजनल कमिश्नर का कहना था कि बक्सर के मुक्तिधाम में ही 5 मई से 14 मई के बीच 789 लोगों का अंतिम संस्कार हो चुका है. हाईकोर्ट के निर्देश पर हुई जांच के बाद अब बड़े पैमाने पर अनियमितताएं सामने आई हैं.

मौतें बढ़ने के पीछे ये वजहें बताई गईं

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव ने बुधवार 9 जून को इस बारे में प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इंडिया टुडे के उत्कर्ष सिंह की रिपोर्ट के अनुसार, इस दौरान प्रत्यय अमृत ने कोरोना से मौतों का नया आंकड़ा देते हुए इसकी कई वजहें भी गिनाईं. उन्होंने कहा कि कई लोगों की मौत होम आइसोलेशन में हो गई थी. काफी लोग संक्रमित होने के बाद दूसरे जिलों में चले गए, जहां उनकी मौत हुई. कुछ लोगों ने अस्पताल जाने के क्रम में दम तोड़ दिया. वहीं, कुछ लोगों की मौतें कोरोना से ठीक होने के बाद भी हुई. यही वजह रही कि मौतों का सही आंकड़ा नहीं मिल पाया.

Bihardeath2
बिहार के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना से मौतों की संख्या बढ़ने के पीछे कई वजहें गिनाई हैं. (सांकेतिक फोटो PTI)

4 जिलों में एक ही दिन में दोगुनी हो गईं मौतें

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक, नए आंकड़ों की वजह से बिहार के 38 में से 4 जिलों में मौतों की संख्या दोगुनी से भी ज्यादा हो गई है. कैमूर में जहां 7 जून को 44 मौतें बताई गई थीं, 8 जून को वहां आंकड़ा 146 हो गया. सहरसा में ये संख्या 40 से 130 हो गई. बेगूसराय में 138 से बढ़कर 454 मौतें हो गईं. इसी तरह ईस्ट चंपारण में 7 जून को 131 मौतें दिखाई गईं, जो एक ही दिन बाद 422 बताई गईं. मुंगेर इकलौता जिला रहा, जहां कोरोना से मरने वालों की संख्या में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई. किसी भी जिले में मौतों की संख्या में कमी नहीं बताई गई. राजधानी पटना की बात करें तो वहां मरने वालों की आधिकारिक संख्या एक ही दिन में 1223 से बढ़कर 2293 तक पहुंच गई.

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव ने माना कि कोरोना से मौतों के आंकड़े जुटाने में काफी असंवेदनशीलता बरती गई. उन्होंने लापरवाही बरतने वालों पर कार्रवाई की बात भी कही, लेकिन अब तक कितने लोगों पर कार्रवाई हुई, इस सवाल पर चुप्पी साध ली.

स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना से मरने वालों के आधिकारिक आंकड़े बढ़ा तो दिए हैं, लेकिन अनुमान है कि असल संख्या इससे भी कहीं ज्यादा हो सकती है. दावे किए जा रहे हैं कि ग्रामीण इलाकों में ऐसे अनगिनत लोगों की मौत हुई है, जिनमें कोरोना के लक्षण तो थे लेकिन उनकी कोविड जांच नहीं हो पाई. इस वजह से वो लोग सरकारी आंकड़ों में जगह नहीं बना पाए. अब देखना ये है कि क्या कभी बिहार में कोरोना से मौतों का सही आंकड़ा सामने आ पाएगा या नहीं.

देश के आंकड़ों पर भी दिखा असर

बिहार में कोरोना से मौतों की संख्या बढ़ने का असर देश के आंकड़ों पर भी दिखाई दिया. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से गुरुवार 10 जून को बताया गया कि पिछले 24 घंटे में देश भर में 6148 मौतें दर्ज की गईं. ये एक दिन में अब तक सबसे ज्यादा मौतें हैं. बताया गया कि देश में कोरोना के 94,052 नए मरीज सामने आए हैं. हालांकि एक्टिव केसों में गिरावट आई है. अब ये घटकर 11,67,952 रह गए हैं. पिछले 60 दिनों में पहली बार कोरोना के सक्रिय मामले 12 लाख से कम हुए हैं.


दस्तावेज़: कोरोना वायरस की तीसरी लहर से क्या बच्चों को ज़्यादा नुक़सान होगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पैसा शेल कंपनियों में लगाते, फिर क्रिप्टोकरंसी बनाकर विदेश भेज देते थे.

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

नेपाल के अधिकारियों ने IMA के उस लेटर का भी हवाला दिया है, जिसमें कोरोनिल को लेकर रामदेव को चुनौती दी गई थी.

दक्षिण में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, कर्नाटक और केरल में टॉप नेता सवालों में क्यों हैं?

दक्षिण में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, कर्नाटक और केरल में टॉप नेता सवालों में क्यों हैं?

मामला इतना बढ़ गया कि बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व को दखल देना पड़ा है.

आसिफ को भीड़ ने पीटकर मार डाला तो आरोपियों की रिहाई के लिए महापंचायतें क्यों हो रही हैं?

आसिफ को भीड़ ने पीटकर मार डाला तो आरोपियों की रिहाई के लिए महापंचायतें क्यों हो रही हैं?

करणी सेना के नेता धमकी दे रहे- जो भी हमें रोकेंगे, उन्हें ठोक देंगे.

तमिल नेता ने अमेज़न से कहा 'फैमिली मैन 2' को बंद करो, वरना...

तमिल नेता ने अमेज़न से कहा 'फैमिली मैन 2' को बंद करो, वरना...

अमेज़न प्राइम वीडियो की हेड को लेटर लिख दी है खुली चेतावनी.

सुवेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ राहत सामग्री चोरी करने के आरोप में FIR

सुवेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ राहत सामग्री चोरी करने के आरोप में FIR

वेस्ट बंगाल पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है.

अलीगढ़ शराबकांड का मुख्य आरोपी और एक लाख का इनामी ऋषि शर्मा गिरफ्तार

अलीगढ़ शराबकांड का मुख्य आरोपी और एक लाख का इनामी ऋषि शर्मा गिरफ्तार

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जहरीली शराब से अब तक 108 लोगों की मौत हो चुकी है.

ट्विटर ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के अकाउंट से ब्लू टिक हटाया, कुछ ही घंटे में रिस्टोर किया

ट्विटर ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के अकाउंट से ब्लू टिक हटाया, कुछ ही घंटे में रिस्टोर किया

पर्सनल अकाउंट से हटा था ब्लू टिक, ट्विटर ने वजह बताई.

यूपीः भाजपा नेताओं ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाकर भगा दिया, पुलिस अब तक तलाश रही है

यूपीः भाजपा नेताओं ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाकर भगा दिया, पुलिस अब तक तलाश रही है

कानपुर की घटना, पुलिस ने शुरुआती FIR में बीजेपी नेताओं का नाम ही नहीं लिखा.

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

अशोक गहलोत सरकार का इनकार, लेकिन आंकड़े कुछ और ही बता रहे.