Submit your post

Follow Us

क्या BJP कार्यकर्ताओं को वैक्सीन लगवाने के लिए विधायक ने सेंटर ही शिफ्ट करा दिया?

वैक्सीन को लेकर आप तरह-तरह की ख़बर सुनते पढ़ते होंगे. वैक्सीन की क़िल्लत, बर्बादी, लोगों का टिका लेने से डरना, स्लॉट बुक करने में परेशानी. वैग़ैरह वग़ैरह. लेकिन कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु (Bengaluru) में हैरान करने वाली बात सामने आई है. शहर का एक वैक्सीनेशन सेंटर, भुवनेश्वरी नगर शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (PHC) को नई जगह शिफ़्ट कर दिया गया. आरोप है कि कथित तौर पर शहर के सीवी रमन नगर इलाक़े के बीजेपी विधायक एस रघु के आदेश पर ऐसा किया गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स में ये भी दावा किया गया है कि वैक्सीनेशन सेंटर को कल्याण मंडप में शिफ़्ट किया गया है जो कि विधायक रघु की निजी संपत्ति है. दावा ये भी है कि विधायक जी ने अपना बैनर लगा दिया और उसमें लिखा था कि यह सेंटर निजी तौर पर चला रहे हैं और फ़्री में टीके लगवा रहे हैं.

क्या है मामला?

अंग्रेज़ी अख़बार द न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़ सीवी रमन नगर विधानसभा क्षेत्र की रहने वाली मंजू  31 मई की सुबह 5.45 बजे भुवनेश्वरी नगर शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (PHC) पहुंचीं. अपने माता-पिता को वैक्सीन लगवाने के लिए उन्होंने दो टोकन लिए.

कर्मचारियों ने उन्हें टोकन दिया और 9.45 बजे लौटने के लिए कहा. जब वो दोबारा अपने माता-पिता के साथ सेंटर पहुंची तो उन्हें बताया गया कि वहां टीके नहीं लग रहे हैं क्योंकि सेंटर को श्री शक्ति गणपति कल्याण मंडप में शिफ़्ट कर दिया गया है. जब मंजु कल्याण मंडप पहुंची, तो कर्मचारियों ने उन्हें बताया कि उनके टोकन अब मान्य नहीं हैं. उनका कहना है,

“एक स्टाफ ने कहा कि हमें वहां टीका लगवाने के लिए विधायक रघु की परमिशन चाहिए. अंत में हम अपने माता-पिता का टीकाकरण किए बिना ही घर लौट आए. एक नेता द्वारा चलाए जा रहे निजी जगह पर सरकारी डॉक्टर कैसे टीकाकरण कर सकते हैं. पुराने वैक्सीनेशन सेंटर को कैसे शिफ़्ट कर सकते हैं?”

मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी दावा किया गया है कि जब और लोगों को वैक्सीन सेंटर के शिफ़्ट होने की ख़बर मिली तो वो नई जगह पहुंचे, जहां सेंटर शिफ्ट किया गया था. लोग वहां पहुंचे तो वैक्सीन की खुराक खत्म हो चुकी थी. डेक्कन हेराल्ड की रिपोर्ट में कहा गया है कि गुस्साए लोगों ने आरोप लगाया कि वैक्सीनेशन सेंटर पर सिर्फ़ बीजेपी कार्यकर्ताओं को टीका लगाया गया.

विपक्ष ने घेरा

कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने बीजेपी विधायक रघु पर आम जनता के वैक्सीनेशन प्रोग्राम को हाइजैक करने का आरोप लगाया है. कांग्रेस पार्टी ने कहा है कि विधायक सिर्फ़ अपने क्षेत्र के बीजेपी कार्यकर्ताओं को फ़ायदा पहुंचने के लिए ऐसा कर रहे हैं. अंग्रेज़ी अखबार डेक्कन हेराल्ड में छपी एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इसी टीकाकरण केंद्र में फ़र्स्ट कम फ़र्स्ट सर्व बेसिस पर 300 टोकन जारी किए गए.

नगर पालिका उतरा बचाव में

बृहत बेंगलुरु महानगर पालिका (BBMP) के मुख्य आयुक्त गौरव गुप्ता ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशों के अनुसार टीकाकरण कार्यक्रम आयोजित किया गया था. उन्होंने बताया कि किसी भी राजनीतिक दल के कार्यकर्ता को किसी भी टीकाकरण केंद्र पर बैठने की अनुमति नहीं है. वहीं कर्नाटक के बीजेपी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर ने द न्यू इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि मैरिज हॉल जैसे सार्वजनिक स्थानों पर टीकाकरण की अनुमति है और यह अवैध नहीं है. हालांकि अगर पहले से ही किसी PHC में वैक्सीनेशन हो रहा था, तो ऐसे लोगों को प्राथमिकता के आधार पर टीके दिए जाने चाहिए. उन्होंने आगे कहा,

“मैं PHC के डॉक्टर से बात करूंगा. अगर किसी ने ऐसा किया है तो मैं कार्रवाई करूंगा.”

विधायक ने आरोपों को किया ख़ारिज

विधायक एस रघु ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है. उन्होंने डेक्कन हेराल्ड से कहा,

“PHC काफ़ी छोटी थी. सरकार के निर्देश के अनुसार ही टीकाकरण केंद्रों को बड़े जगहों में शिफ़्ट किया जा सकता है. मैंने अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जगह का बंदोबस्त किया. इस केंद्र पर किसी को भी कोई विशेष प्राथमिकता नहीं दी गई और सभी को टीके दिए गए हैं.


वीडियो- MP सरकार ने सेक्स वर्कर्स को वैक्सीनेशन में वरीयता दी, फिर कहा- टाइपो था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

रिटायर्ड जस्टिस अरुण मिश्रा को मोदी सरकार ने NHRC चेयरमैन बनाया तो बवाल क्यों हो रहा है?

लोग जस्टिस अरुण मिश्रा को इस पद के लिए चुने जाने का बस एक ही कारण गिना रहे हैं.

क्या कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर मोदी सरकार झूठ बोल रही है?

अलग-अलग आंकड़े क्या कहानी बताते हैं?

लक्षद्वीप में दारू और बीफ़ वाले नियमों पर बवाल बढ़ा तो अमित शाह ने क्या कहा?

लक्षद्वीप के सांसद मोहम्मद फैज़ल ख़ुद मिलने गए थे अमित शाह से

पत्रकार से IAS बने अलपन बंदोपाध्याय, जो ममता और मोदी सरकार में रस्साकशी की नई वजह बन गए हैं

ममता बनर्जी ने केंद्र के आदेश की क्या काट ढूंढ निकाली है?

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीन की कमी, राज्यों के टेंडर जैसे मुद्दों पर भी सरकार से तीखे सवाल किए.

यूपी के महोबा में कूड़ा ढोने वाली गाड़ी से शव मोर्चरी में पहुंचाया

विवाद बढ़ता देख अब जांच के आदेश दिए गए.

इस जिले के DM का आदेश- वैक्सीनेशन के बिना नहीं मिलेगी सरकारी कर्मचारियों को सैलरी

कुछ सरकारी कर्मचारियों ने इस फैसले पर नाराजगी जताई.

छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब करने की बात पर सरकार ने कहा-कोविन प्लेटफॉर्म हैक नहीं हो सकता

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों का कहना है कि ऐप के साथ छेड़छाड़ कर स्लॉट गायब किए जा रहे हैं.

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की PM केयर्स फंड से इस तरह मदद करेगी सरकार

कमाऊ सदस्यों को खोने वाले परिवारों के लिए भी योजना का ऐलान.

PM मोदी के साथ मीटिंग को लेकर विवाद पर ममता बनर्जी बोलीं- इस तरह मेरा अपमान न करें

कहा-मुझे खुद इंतजार करना पड़ा.