Submit your post

Follow Us

अस्पताल के दौरे पर गए थे विधायक, डॉक्टर न मिले तो घुटने टेककर मरीजों से मांगी माफी

विधायक अपने वोटरों के सामने हाथ जोड़के घुटने टेककर बैठ जाए. फिर अपने वोटरों से किए हुए वादे पूरा ना कर पाने के लिए माफ़ी मांगे. ऐसा कहां ही होता है. मगर असम में यही हुआ है. असम में कांग्रेस के एक जनजातीय विधायक हैं रूपज्योति कुर्मी. कुर्मी ऊपरी असम के जोरहाट जिले के मरिअनी विधानसभा से विधायक हैं. वो हाल ही में जनता-जनार्दन के आगे नतमस्तक दिखे. घटना एक अस्पताल की है और काफी चर्चा में है.

क्या है मामला?

असम-नागालैंड सीमा के साथ मरिअनी विधानसभा क्षेत्र में एक जगह है नाकाचारी. नाकाचारी में महात्मा गांधी मॉडल अस्पताल में सूबे के कांग्रेसी विधायक का जाना हुआ. जब वो अस्पताल पहुंचे तो वहां कोई भी डॉक्टर मौजूद नहीं था. वहां मौजूद थे बस मरीज. अस्पताल में एक भी डॉक्टर न होने कि वजह से विधायक को शर्मिंदगी महसूस हुई और उसी समय मरीजों के सामने उसने घुटने टेककर हाथ जोड़ लिए. मरीजों को ज़रूरी स्वास्थ्य सेवा ना दे पाने के लिए माफ़ी मांगी. विधायक कुर्मी अस्पताल की मैनेजिंग कमिटी के प्रधान भी हैं.

लोगों के साथ रूपज्योति.
लोगों के साथ रूपज्योति.

स्वास्थ्य मंत्री को पहले भी कर चुके हैं शिकायत

जब कांग्रेस विधायक से इस घटना के बारे में पूछा गया तो उनका कहना था,

“सरकार ने मॉडल अस्पताल में आठ डॉक्टर नियुक्त किए थे, लेकिन जब मैं वहां गया तो उनमें से कोई भी अस्पताल में मौजूद नहीं था. मरीजों को बड़े लंबे समय से दिक्कतें आ रही हैं. इससे पहले भी मैंने डॉक्टरों की गैरमौजूदगी के मामले को लेकर स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हिमंता बिस्वा शर्मा से शिकायत दर्ज कराई थी. मंत्री ने मुझे कहा था कि विभाग ने अनुपस्थिति के लिए एक दिन का वेतन काटने का फैसला लिया था. लेकिन स्थिति अभी तक नहीं बदली है.”

इस मुद्दे पर अखिल भारतीय यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के असम के हेलकांडी विधानसभा के विपक्षी विधायक अनवर हुसैन लास्कर ने भी बीजेपी सरकार पर आरोप लगाए हैं. उनका कहना है,

“वर्तमान में बीजेपी सरकार पूरी तरह से सूबे के गांव-देहात के लोगों को स्वास्थ्य सेवा देने में असफल रही है. सूबे के गांव-देहात के अस्पतालों में डॉक्टर नहीं हैं. आज रुपज्योति कुर्मी ने माफ़ी मांगी, कल मैं मांगूंगा. बीजेपी जनता से दुर्व्यवहार कर रही है.”

भाजपा विधायक किशोर नाथ
भाजपा विधायक किशोर नाथ

बीजेपी बोली – सब नाटक है

असम के बोरखाला विधानसभा के बीजेपी विधायक किशोर नाथ ने कांग्रेस विधायक के राज्य सरकार के खिलाफ लगाए सभी आरोपों को खारिज कर दिया है. उनका कहना है कि कांग्रेस विधायक राजनीतिक लाभ लेने के लिए ये सब कर रहे हैं. यह सिर्फ बस एक नाटक है. पिछली कांग्रेस सरकार ने असम में स्वास्थ्य क्षेत्र को नुकसान पहुंचाया था. बीजेपी सरकार तो अब इसे बहाल करने की कोशिश कर रही है. राज्य में कई मॉडल अस्पताल ऐसे थे जो पिछली सरकार में ठप पड़े थे. हमारी सरकार ने तो सत्ता में आने के बाद इन अस्पतालों को चालू किया है.”

पिछले लंबे समय से असम-नागालैंड सीमा का ये इलाका जापानी बुखार की चपेट में रहा है. जिसकी वजह से हर साल इलाके के कई लोग मर जाते हैं. इसके लिए यहां पहले रही कांग्रेस सरकारों ने न कुछ खास किया. अब बीजेपी की सरकार है मगर वो भी इससे निपटने में नाकाम ही दिखती है.


लोकसभा में पीएम मोदी ने बशीर बद्र को गलत साबित कर दिया!

कांग्रेस का वो दलित नेता, जो पांच बार सीएम बनते-बनते रह गया

भारत के आर्मी चीफ ने गलत जानकारी न दी होती, तो उस साल भारत लाहौर जीत जाता!

पाकिस्तान की प्लानिंग: 28 जुलाई को भारत में घुसेंगे, 9 अगस्त को कश्मीर हमारा होगा

वीडियो: ये पाकिस्तानी नेता जैसे प्रचार कर रहा है, वैसे भारत में कभी न हुआ होगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दोस्त के अंतिम संस्कार में जा रहे थे, भीड़ ने पुलिस के सामने तीन लोगों को पीट-पीटकर मार डाला

पालघर का वीडियो रोंगटे खड़े करने वाला है.

ऑनलाइन शॉपिंग: 20 अप्रैल की बाद वाली छूट से बाहर हो गईं ये चीजें

ई-कॉमर्स साइट्स ने तो तैयारी भी कर ली थी.

जो रैपिड टेस्ट किट छत्तीसगढ़ ने सस्ते में मंगाई, उसी किट के लिए अन्य राज्य दोगुनी कीमत क्यों दे रहे हैं?

रैपिड टेस्ट किट की कीमत पर सवाल उठ रहे हैं.

3 मई के बाद से ट्रेन और फ्लाइट शुरू होने की कितनी उम्मीद है?

जनता कर्फ्यू से ही धीरे-धीरे पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद होने लगे थे.

गुजरात को मिली पहली प्लाज्मा डोनर, कोरोना से ठीक हुई स्मृति ठक्कर ने डोनेट किया प्लाज्मा

एक व्यक्ति के प्लाज़्मा से कम से कम दो और अधिकतम पांच लोगों का इलाज किया जा सकता है.

इंदौर में फिर मेडिकल टीम पर हमला, पुलिस बोली गलतफहमी में हुआ अटैक

बीच-बचाव करने आए व्यक्ति को लगा चाकू.

लॉकडाउन के बीच मज़दूरों का क्या होगा, सीएम उद्धव ठाकरे ने फैसला कर दिया है

एक लाख तीस हज़ार गन्ना मज़दूरों का सवाल है.

पाकिस्तान में तबलीग़ी जमात के फैसलाबाद चीफ की कोरोना से मौत

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के सात हज़ार से ज़्यादा केस आ चुके हैं.

लॉकडाउन के बीच इस कंपनी ने 600 लोगों को नौकरी से निकाल दिया?

स्थानीय विधायक ने मामले की शिकायत कर्नाटक सरकार और केंद्र सरकार से की है.

आयुष्मान कार्ड वालों की फ़्री कोरोना जांच होगी, लेकिन 2 करोड़ परिवार इस लिस्ट से ही ग़ायब!

क्या गड़बड़ी हुई गिनती में?