Submit your post

Follow Us

'कैटरीना कैफ के गालों जैसी हों सड़कें' कहने वाले मंत्री के लिए क्या बोले CM अशोक गहलोत?

राजस्थान सरकार के राज्यमंत्री राजेंद्र गुढ़ा. हाल में उन्होंने एक विवादित बयान दिया था. कहा था कि वो उनके इलाके की सड़क कैटरीना कैफ के गाल की तरह बनाएंगे. बयान पर खूब बवाल हुआ. जमकर राजेंद्र गुढ़ा की आलोचना भी हुई. अब खबर है कि राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत को भी अपने मंत्री का बयान कतई पसंद नहीं आया है. उन्होंने कहा है कि लोगों को अपनी मर्यादा का ख्याल रखना चाहिए. मंत्री राजेंद्र गुढ़ा के बयान को खारिज करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सभी मंत्रियों को सलाह दी है कि वे अपने भाषणों में शालीनता रखें.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के अनुसार अशोक गहलोत ने सूरत में कहा कि इस तरह की टिप्पणियां करना अनुचित है. उन्होंने कहा,

कई बार ऐसी टिप्पणियां राजस्थान से आती हैं तो कभी दूसरे राज्यों से आती हैं. ऐसी टिप्पणियां राजस्थान से दी जाएं या बाहर से, उन्हें शालीनता की सीमा के अंदर होना चाहिए. अगर आप हद से बाहर राजनीति करते हैं तो कोई इसे पसंद नहीं करेगा. मुझे नहीं पता कि मंत्री ने किस संदर्भ में ये टिप्पणी की. हम इसका पता लगा लेंगे. मैं केवल इतना कह सकता हूं कि हर व्यक्ति की गरिमा होनी चाहिए. मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों को अपने बयानों और व्यवहार में अधिक गरिमा रखनी चाहिए.

वृंदा करात ने कानून बनाने की मांग की

अशोक गहलोत के अलावा दूसरी पार्टियों के बड़े नेताओं ने भी राजेंद्र गुढ़ा के बयान की कड़ी आलोचना की थी. सीपीआई नेता वृंदा करात ने मंत्री की टिप्पणी के लिए उन्हें फटकार लगाते हुए कहा,

“ये आदमी मंत्री बनने के लायक नहीं है. जब वो खुद इस तरह की सेक्सिस्ट टिप्पणी कर रहे हैं तो वो जनता के बीच किस तरह का मानक स्थापित कर रहे हैं?”

करात ने कहा कि ये बेहद आपत्तिजनक है और वो विधानसभा और संसद में निर्वाचित प्रतिनिधियों के लिए सख्त आचार संहिता की मांग कर रही हैं.

भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत कार्रवाई तो होनी ही चाहिए. लेकिन उसके साथ महिलाओं पर इस तरह की टिप्पणियां करने वालों के खिलाफ संसद और विधानसभाओं में एक कानून भी बनाया जाना चाहिए.

क्या है पूरा मामला?

राजस्थान सरकार की कैबिनेट में फेरबदल हुआ. ग्रामीण विकास राज्य मंत्री बने राजेंद्र सिंह गुढ़ा. मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद जब वो पहली बार अपने विधानसभा क्षेत्र पहुंचे तो उनके लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया. उसी दौरान लोगों ने खराब सड़कों की शिकायत की. राजेंद्र सिंह गुढ़ा ने वहीं कहा कि उनके गांव में सड़कें अब कैटरीना कैफ के गाल जैसी होनी चाहिए. इसका वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ. और फिर बवाल खड़ा हो गया.


पंचायत चुनाव में प्रचार करने उतरे खान सर ने अचानक बकरे का जिक्र क्यों किया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

कोरोना के केस बढ़ने के बीच DDMA की नई गाइडलाइंस जारी.

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP की तारीफ़ का सच.