Submit your post

Follow Us

कर्नाटक: हिंदू लड़की से प्यार के चलते अरबाज की हत्या, कथित राम सेना के मेंबर्स के खिलाफ केस

कर्नाटक का बेलगावी जिला. 28 सितंबर को खानपुर रेलवे स्टेशन के पास ट्रैक पर एक छत-विक्षत शव मिला. शव के हाथ बंधे हुए थे. उसकी गर्दन धड़ से अलग थी. एक पैर भी शरीर से अलग था. मृतक की पहचान 24 साल के अरबाज आफताब मुल्ला (Arbaz Aftab Mulla) के तौर पर हुई. आरोप है कि राम सेना नाम के संगठन के लोगों ने अरबाज की हत्या कर दी. इसलिए क्योंकि अरबाज और हिंदू समुदाय से आने वाली एक लड़की पिछले दो सालों से एक साथ थे. बेलगावी पुलिस इस पूरे मामले की जांच कर रही है.

क्या है मामला?

अरबाज के चचेरे भाई समीर ने कई मीडिया संस्थानों से इस पूरे मामले के बारे में बात की है. वेब पोर्टल क्लेरियन से की गई बातचीत में समीर ने बताया कि अरबाज एक हिंदू लड़की के साथ रिलेशनशिप में था. ये बात राम सेना के लोगों को बिल्कुल पसंद नहीं थी. राम सेना के लोग उसे पिछले दो महीनों से धमकियां दे रहे थे. वो कह रहे थे कि अरबाज लड़की को छोड़ दे, नहीं तो उसे जान से हाथ धोना पड़ेगा.

समीर ने आगे बताया कि 26 सितंबर को राम सेना के लोगों ने अरबाज और उसकी मां को खानपुर बुलाया. उस दिन भी दोनों को धमकी दी गई. इस दिन की कथित मुलाकात के बारे में अरबाज की मां नजीमा शेख ने अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बात की. उन्होंने बताया,

“हिंदू कार्यकर्ताओं ने हमें खानपुर बुलाया था. मामले को पूरी तरह से निपटाने के लिए. वहां हमें धमकियां दी गईं. अरबाज ने उनके सामने अपने फोन से उस लड़की की सारी फोटो डिलीट कर दीं. उन कार्यकर्ताओं ने हमसे पैसे भी लिए. उन्होंने हमें धमकी देते हुए कहा कि कम से कम हजार लोग अरबाज और मेरी लिंचिंग करने को तैयार हैं. अरबाज ने तो अपना पुरान सिम भी बदल दिया.”

अरबाज ने सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी. हालांकि, बेलगावी में वो कार डीलिंग का काम करता था. उसकी मां को हिंदू समुदाय की लड़की से उसकी रिलेशनशिप के बारे में पता था. उन्होंने लड़की की मां से भी बात की थी. नजीमा ने अरबाज से कहा था कि वो उस लड़की से दूर रहे. नजीमा का आरोप है कि इतना सब करने के बाद भी लड़की के परिवार की तरफ से उन्हें धमकियां मिलती रहीं. जिसकी वजह से उन्हें अपना घर बदलना पड़ा.

अरबाज की मां पेशे से सरकारी स्कूल टीचर हैं. 28 सितंबर को अपने पासपोर्ट के काम से गोवा गई थीं. इसी शाम को उन्हें अरबाज का फोन आया. नजीमा के मुताबिक, अरबाज ने बताया कि वो एक आखिरी बार राम सेना के लोगों से मिलने जा रहा है. नजीमा ने उसे अकेले जाने से मना किया. हालांकि, अरबाज नहीं माना.

समीर ने बताया कि 28 सितंबर की शाम को उसके पास पुलिस का फोन आया. पुलिस ने कहा कि खानपुर रेलवे स्टेशन के पास ट्रैक पर अरबाज का शव मिला है. समीर के मुताबिक, शुरुआत में पुलिस ने इसे आत्महत्या का मामला माना. लेकिन वो लोग समीर के हाथ में बंधी रस्सी देखकर हत्या की बात कहते रहे.

पुलिस ने क्या किया?

इस पूरे मामले में अरबाज की मां नजीमा की शिकायत पर तीन लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की गई है. इनमें से दो महाराज और बिरजे को नजीमा की मां ने राम सेना का सदस्य बताया है. नजीमा का कहना है कि वो जब अरबाज के साथ राम सेना के लोगों से मिलने गई थीं, तो इन दोनों ने उन्हें लिंच करने की धमकी दी थी. इसके अलावा FIR में तीसरा नाम लड़की के पिता का है.

शुरुआत में इस पूरे मामले की जांच रेलवे पुलिस कर रही थी. लेकिन जैसे ही अरबाज की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पता चला कि उसे रेलवे ट्रैक पर रखने से पहले उसके सिर पर वार किए गए, रेलवे पुलिस ने मामला बेलगावी जिला पुलिस को ट्रांसफर करने की तैयारी शुरू कर दी.

दूसरी तरफ, बेलगावी पुलिस की तरफ से कहा गया कि उनके सामने अब तो जानकारी सामने आई है, उसके मुताबिक हत्या का कारण लड़की से रिलेशनशिप है. पुलिस को यह भी शक है कि अरबाज की हत्या दक्षिणपंथी हिंदूवादी संगठन के लोगों ने की है. पुलिस के मुताबिक, आरोपियों की पहचान कर ली गई है. हालांकि, अभी तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं की गई है. दूसरी तरफ, इस वीभत्स हत्या को लेकर सोशल मीडिया पर कैंपन चलाया जा रहा है. लोग अरबाज के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं.

अरबाज का फेक अकाउंट

इस पूरे मामले में अरबाज को जिंदा बताने की कोशिश भी की जा रही है. ट्विटर पर उससे जुड़ा एक फेक अकाउंट बनाया है. जिसके बायो में लिखा है- मैं जिंदा हूं. इस अकाउंट की ज्यादातर पोस्ट पर ट्विटर ने गलत होने का लेबल भी लगा दिया है.

Arbaz के नाम पर बनाया गया फेक ट्विटर अकाउंट.
Arbaz के नाम पर बनाया गया फेक ट्विटर अकाउंट.

अरबाज की हत्या के बाद उसके चचेरे भाई ने उसकी कई फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट की हैं. अरबाज का फेक अकाउंट बनाने वाले ने यहीं से कई सारी फोटो उठा लीं और अब उन्हें एक के बाद एक पोस्ट कर रहा है. यह जताने की कोशिश की जा रही है कि अरबाज जिंदा है.


पत्रकार अलीशान जाफरी ने अरबाज के चचेरे भाई से बात की और उन्हें अरबाज की कई दूसरी फोटो मिली हैं. जिनका इस्तेमाल फेक अकाउंट बनाने वाला कर रहा है. दूसरी तरफ, पुलिस पहले ही अरबाज की मौत की पुष्टि कर चुकी है.

क्या है राम सेना?

राम सेना को संरक्षण बाल ठाकरे ने दिया था. इस संगठन के लोग हिंसक गतिविधियों में शामिल रहे हैं. साल 2008 में इस संगठन के लोगों ने एमएफ हुसैन की कला प्रदर्शनी में उत्पात मचाया था. इस संगठन के लोग मोरल पुलिसिंग में भी शामिल रहे हैं. 2006 के मालेगांव बम धमाके में भी इस संगठन का नाम आ चुका है.

साल 2012 में राम सेना के सात लोगों को कर्नाटक के बीजापुर से गिरफ्तार किया गया था. इन लोगों ने एक सरकारी बिल्डिंग के ऊपर पाकिस्तान का झंडा फहराया था. यह बिल्डिंग मुस्लिम बहुल इलाके में थी. ऐसे में उनके ऊपर माहौल बिगाड़ने की कोशिश के आरोप लगे थे.


वीडियो- अवैध धार्मिक स्थलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ कर्नाटक में बिल क्यों?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

कोरोना के केस बढ़ने के बीच DDMA की नई गाइडलाइंस जारी.

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP की तारीफ़ का सच.

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

BharatPe के लीगल नोटिस और अशनीर ग्रोवर के 'गाली' वाले ऑडियो पर क्या बोला Kotak?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi भारत में सबसे ज्यादा मोबाइल बेचने वाली चीनी कंपनी है.

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद ने कहा, "मुसलमानों से हिंदुओं को मरवाओगे क्या?"