Submit your post

Follow Us

महात्मा गांधी को क्वोट करते हुए हाईकोर्ट ने हाथरस केस पर बड़ी बात कह दी है

“तुम्हें एक जंतर देता हूं. जब भी तुम्हें संदेह हो या तुम्हारा अहम् तुम पर हावी होने लगे तो यह कसौटी आजमाओ. जो सबसे गरीब और कमज़ोर आदमी तुमने देखा हो उसकी शक्ल याद करो और अपने दिल से पूछो कि जो कदम उठाने का तुम विचार कर रहे हो, वह उस आदमी के लिए कितना उपयोगी होगा? क्या उससे उसे कुछ लाभ पहुंचेगा? क्या उससे वह अपने जीवन और भाग्य पर कुछ काबू रख सकेगा? यानी क्या उससे उन करोड़ों लोगों को स्वराज्य मिल सकेगा, जिनके पेट भूखे हैं और आत्मा अतृप्त है? तब तुम देखोगे कि तुम्हारा संदेह मिट रहा है और अहम् समाप्त होता जा रहा है.”

महात्मा गांधी की जयंती से ठीक एक दिन पहले यानी कि एक अक्टूबर को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उनकी कही इस बात को क्वोट किया. साथ ही एक बेहद अहम कदम उठाया. हाथरस केस में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान ले लिया है. जस्टिस राजन रॉय और जसप्रीत सिंह की बेंच ने उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव, डीजी, एडीजी-लॉ एंड ऑर्डर, डीएम हाथरस, एसपी हाथरस को नोटिस जारी किया है. साथ ही 12 अक्टूबर को होने वाली अगली सुनवाई में जांच की स्थिति के बारे में अवगत कराने को कहा है.

11 पेज के ऑर्डर में हाईकोर्ट ने तमाम अख़बारों की उन कतरनों का संज्ञान लिया, जिसमें कहा गया है कि पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया गया, रीढ़ की हड्डी टूटी, जीभ काटी गई. साथ ही रात में कथित तौर पर परिवार वालों की अनुमति के बिना पीड़िता का दाह संस्कार कराए जाने पर भी कोर्ट ने संज्ञान लिया है. कहा –

“हमें पता चला है कि रात में दो-ढाई बजे पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया. वो भी परिवारवालों की ग़ैर-मौजूदगी में. पीड़िता का परिवार हिंदू धर्म का पालन करते हैं, जिसके तहत सूर्यास्त के बाद अंतिम संस्कार नहीं किया जाता.”

कोर्ट ने आयरिश कवि ऑस्कर वाइल्ड को भी क्वोट करते हुए लिखा –

“मृत्यु बेहद ख़ूबसूरत होनी चाहिए. कोमल सी भूरी चादर में लिपटे हुए, सिर से ऊपर तक उठी घास के बीच शांति को सुनते हुई. कोई बीता हुआ कल नहीं, कोई आने वाला कल नहीं. समय को भूलकर, ज़िंदगी को भूलकर, शांति में ले जाने वाली.”

कोर्ट ने यह भी कहा है कि पीड़िता के परिवार पर किसी तरह का कोई दबाव नहीं डाला जाए. साथ ही कोर्ट ने तमाम मीडिया हाउसेज़ से भी कहा है कि उन्होंने इस मामले में जो भी ख़बरें की हैं, उनके साक्ष्य कोर्ट के सामने रखें, ताकि कार्यवाही में मदद हो सके.


हाथरस: क्या योगी सरकार के पास इन सवालों के जवाब हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

खबर है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पीड़ित परिवार से मिलने जाने वाले हैं.

सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा - इन्होंने बाबरी मस्जिद को बचाने की कोशिश की थी

आ गया है 28 साल पुराने मामले में फ़ैसला

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

अक्षय कुमार ने भी ट्वीट किया है.

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.