Submit your post

Follow Us

अलग धर्म में शादी करने वालों के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट से अच्छा फैसला आया है

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक ऐसा फैसला दिया है जिससे अलग धर्म में शादी करने जा रहे जोड़ों को राहत मिलेगी. हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने स्पेशल मैरिज ऐक्ट को लेकर 13 जनवरी को एक फैसला सुनाया. कोर्ट ने कहा कि इस ऐक्ट के तहत शादी करने वाले जोड़े को 30 दिन पहले नोटिस देने की ज़रूरत नहीं होगी.

हाईकोर्ट ने क्या कहा?

स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत जोड़े को 30 दिन पहले नोटिस देकर आपत्तियां आमंत्रित करनी होती थी. ज‌स्ट‌िस विवेक चौधरी ने कहा कि इस प्रकार से नोटिस को अनिवार्य बनाना स्वतंत्रता और निजता के मौलिक अधिकारों पर हमला करेगा. कोर्ट ने कहा, 1954 के अधिनियम की धारा 5 के तहत नोटिस देते समय, शादी करने वालों के लिए यह ऑप्शन होगा कि चाहें तो वे विवाह अधिकारी को लिखित रूप में अनुरोध करें कि वह धारा 6 के तहत नोटिस प्रकाशित करे या प्रकाशित न करें.

अदालत ने कहा कि, यदि वे लिखित रूप से नोटिस के प्रकाशन के लिए ऐसा कोई अनुरोध नहीं करते हैं, तो अधिनियम की धारा 5 के तहत नोटिस देते हुए, विवाह अधिकारी ऐसी कोई सूचना प्रकाशित नहीं करेगा या शादी करने वालों पर आपत्तियों को दर्ज नहीं करेगा और विवाह को कराने के लिए आगे बढ़ेगा.

अदालत ने कहा,

हालांकि, 1954 के अधिनियम के तहत विवाह अधिकारी किसी भी विवाह को कराते हुए, पक्षों की पहचान, उम्र और वैध सहमति को सत्यापित करें या उक्त अधिनियम के तहत ‌विवाह करने की उनकी क्षमता को सत्यापित करें. यदि उसे संदेह है तो उसके पास ऑप्शन होगा कि वह उपयुक्त विवरण या प्रमाण मांगे.

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 2010 में फैसला सुनाया था.
इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने फैसला सुनाते हुए कहा है कि स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी करने वालों को 30 दिन पहले नोटिस देने की कोई जरूरत नहीं है.

किस मामले में दिया फैसला

साफिया सुल्ताना नाम की लड़की ने धर्मांतरण कर एक हिंदू लड़के से शादी की है. लड़की के परिवार वाले इस शादी के खिलाफ हैं, इसलिए उन्होंने लड़की को अपने घर पर अवैध तरीके से बंदी बनाकर रखा है. लड़के के पिता ने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल कर न्याय की गुहार लगाई. इसके बाद कोर्ट ने लड़की और उसके पिता को कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया.

कोर्ट में पेश होने के बाद लड़की के पिता ने कहा कि वह पहले इस शादी के खिलाफ थे, लेकिन अब उन्हें इस पर कोई आपत्ति नहीं है. सुनवाई को दौरान लड़की ने अदालत के सामने अपनी समस्या रखते हुए कहा कि उसने स्पेशल मैरेज एक्ट के तहत शादी इसलिए नहीं कि क्योंकि इस कानून में एक प्रावधान है कि शादी से पहले 30 दिन का एक नोटिस जारी किया जाएगा. इसके तहत अगर किसी को विवाह से आपत्ति है तो वह ऑब्जेक्शन कर सकता है. लड़की ने बताया कि इस प्रावधान के कारण लोग अक्सर मंदिर या मस्जिद में शादी कर लेते हैं. कोर्ट ने लड़की की बात को संज्ञान लिया और स्पेशल मैरेज ऐक्ट की धारा 6 और 7 में संशोधन करते हुए फैसला सुनाया कि अब इस तरह के नियम की जरूरत नहीं है.

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने हाल ही में धर्मांतरण कानून बनाया है. इसमें शादी के लिए धर्म बदलने को जबरन धर्मांतरण कहा गया है. इस कानून के बनते ही पुलिस ने कई लोगों को इस कानून के तहत हिरासत में ले लिया. हालांकि, कुछ मामलों में गलत तरीके से लोगों को फंसाने का मामला भी सामने आया है.


 

वीडियो – क्या हमारे यहां एक साथ तीन लोगों की शादी हो सकती है?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कृषि कानून पर फैसले के बाद वो सवाल जिनके जवाब सुप्रीम कोर्ट को देने चाहिए

SC ने फैसले में ऐसा क्या कह दिया जिस पर सवाल उठ रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने जिन चार लोगों की कमिटी बनाई है, क्या उनमें ज्यादातर कृषि कानूनों के समर्थक हैं?

किसान आंदोलन को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले से किसे ख़ुश होना चाहिए?

क्या सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों को ग़लत माना?

क्या सुप्रीम कोर्ट कृषि कानूनों को होल्ड पर रखने जा रही है?

डॉनल्ड ट्रम्प के समर्थकों ने अमेरिका की राजधानी में मचाया दंगा, 4 लोगों की मौत, वॉशिंगटन में कर्फ़्यू

फ़ेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम ने ट्रम्प पर बैन लगा दिया है.

चांदनी चौक: हनुमान मंदिर तोड़ने के पीछे की असल वजह क्या है, जान लीजिए

BJP, AAP और कांग्रेस मंदिर ढहाने का ठीकरा एक दूसरे पर फोड़ रही हैं.

शाहजहांपुर बॉर्डर से हरियाणा में घुस रहे किसानों पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज

किसान नेताओं ने क्या ऐलान किया है?

कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी को किस मामले में जेल भेज दिया गया है?

मध्य प्रदेश में बीजेपी विधायक के बेटे ने दर्ज करवाया था केस.

तीसरे टेस्ट से पहले टीम इंडिया के पांच खिलाड़ियों को आइसोलेट क्यों कर दिया गया?

इसमें रोहित शर्मा का नाम भी शामिल है.

देश के स्वास्थ्य मंत्री बोले सबको फ्री देंगे वैक्सीन, फिर ट्वीट करके कुछ और बात कह दी

जानिए देश में कहां-कहां वैक्सीन का ड्राई रन चल रहा है.

BCCI अध्यक्ष और पूर्व क्रिकेटर सौरव गांगुली अस्पताल में भर्ती

ममता बनर्जी का ट्वीट-गांगुली को हल्का कार्डियक अरेस्ट आया है.