Submit your post

Follow Us

भतीजे ने पहले ही बता दिया था कि पार्टी टूटेगी, लेकिन चाचा समझ नहीं पाए!

496
शेयर्स

देवेंद्र फडणवीस एक बार फिर महाराष्ट्र के सीएम बन गए हैं. शनिवार 23 नवंबर को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने उन्हें सीएम पद की शपथ दिलाई. एनसीपी के अजित पवार डिप्टी सीएम बने हैं. उन्होंने बीजेपी को समर्थन देने की बात कही है. वहीं एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि ये फैसला पार्टी का नहीं है. बीजेपी को समर्थन देना का फैसला एनसीपी का नहीं है. एनसीपी इस फैसले के साथ नहीं है. शरद पवार ने कहा कि अजित पवार ने पार्टी तोड़ दी. वहीं सरकार बनाने के बाद अजित पवार का बयान आया है. उन्होंने कहा कि मैंने स्थाई सरकार देने के लिए फैसला लिया है. मैंने शरद पवार को सबकुछ पहले बता दिया था. तीन दल मिलकर स्थिर सरकार नहीं बन सकते हैं. महीने से चर्चा चली, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अजित पवार सीएम देवेंद्र फडणवीस के घर पर हैं.

अजीत पवार शरद पवार के भतीजे हैं. शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले उन्होंने अपने वॉट्सऐप नंबर पर स्टेटस लगाया है जिसमें उन्होंने लिखा कि पार्टी और परिवार टूट गया. मीडिया से बात करते हुए सुप्रिया सुले की आंखों में आंसू थे. उन्होंना कहा, ‘मैं जल्द ही सबकुछ बताऊंगी.

एनसीपी चीफ शरद पवार और उनके भतीजे अजित पवार पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज़ है. मामला महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव बैंक स्कैम का है. अजित पवार और बाकी कई बड़े नाम इस कोऑपरेटिव बैंक के डायरेक्टर हुआ करते थे. अजित पवार पर आरोप लगते हैं कि जब गलत चीजें हो रही थीं. उस दौरान वो महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री रहे. और उस पद का फायदा भी उन्होंने उठाया. बीजेपी को समर्थन देने के मामले को मनी लॉन्ड्रिंग का केस भी जोड़कर देखा जा रहा है. अजित पवार बारामती से विधायक हैं. पिछले 52 सालों में यहां से विधायक की कुर्सी पर सिर्फ दो ही लोग बैठे हैं. और वो दोनों ही पवार परिवार से हैं. शरद पवार और अजित पवार. अब तक दोनों ही छह-छह बार विधायक रहे हैं. दोनों ने मिलाकर आठ बार कांग्रेस और चार बार एनसीपी के झंडे पर जीत हासिल की. शरद पवार 1967 से 1990 तक लगातार कांग्रेस से लड़ें और जीते. बाद में उनके उत्तराधिकारी के रूप में अजित पवार ने भी 2 बार कांग्रेस से चुनाव लड़कर जीत हासिल की. फिर शरद पवार कांग्रेस से अलग हो गए और एनसीपी बना ली. तबसे अब तक चार बार अजित पवार एनसीपी से यहां जीतते रहे थे. सेना या भाजपा में से कोई भी, कभी भी यहां जीत नहीं पाया था. अजित पवार लगातार सातवीं बार यहां से जीते हैं.

7 अप्रैल 2013 को आया अजित पवार का एक बयान बेहद चर्चा में रहा. पुणे के पास इंदापुर में एक फंक्शन में उन्होंने कहा था, “अगर बांध में पानी नहीं है तो क्या पेशाब करके भरें?” उनके इस बयान की काफी लानत-मलामत हुई. बाद में खुद अजित पवार ने इसके लिए माफ़ी मांगी थी. कहा था कि ये उनके जीवन की सबसे बड़ी ग़लती थी. 2014 लोकसभा इलेक्शंस के दौरान उन पर वोटर्स को धमकाने के आरोप भी लगे थे. कहा गया कि उन्होंने गांववालों को धमकी भी दी थी. बोला था कि अगर सुप्रिया सुले को वोट नहीं दिया तो वो गांववालों का पानी बंद कर देंगे.


जब भारत की संसद में लोकसभा है तो राज्यसभा की जरूरत क्यों पड़ी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

एक तरफ अमित शाह रैली में बोले नक्सलवाद ख़त्म किया, उधर नक्सलियों ने हमला कर दिया

नक्सलियों ने अमित शाह को गलत साबित कर दिया. चार जवान शहीद हो गए.

कांग्रेस ने अलग से प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों की?

और क्या बोले अहमद पटेल?

महाराष्ट्र में रातों रात बदला गेम, देवेंद्र फडणवीस सीएम और एनसीपी के अजित पवार डिप्टी सीएम बने

शिवसेना ने इसे अंधेरे में डाका डालना बताया.

किसका डर है कि अयोध्या मसले में सुन्नी वक्फ बोर्ड रिव्यू पिटीशन नहीं फ़ाइल कर रहा?

चेयरमैन के ऊपर दो-दो केस!

डूबते टेलीकॉम को बचाने के लिए सरकार 42 हज़ार करोड़ की लाइफलाइन लेकर आई है

तो क्या वोडाफोन आईडिया और एयरटेल बंद नहीं होने वाले हैं?

मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर देश की रक्षा करने जा रही हैं

रक्षा मंत्रालय की कमेटी में शामिल होंगी.

IIT गुवाहाटी के छात्र एक प्रोफेसर के लिए क्यों लड़ रहे हैं?

प्रोफेसर बीके राय लंबे समय से करप्शन के खिलाफ जंग छेड़े हुए हैं.

आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में पत्थरबाजी कम हुई या बढ़ी?

राज्यसभा में सरकार ने आंकड़े बताए हैं.

फोन कंपनियां ये किस बात के लिए हम लोगों से पैसा लेने जा रही हैं?

कॉल और डाटा का पैसा बढ़ने वाला है, पढ़ लो!

BHU के मुस्लिम टीचर के पिता ने कहा, 'बेटे को संस्कृत पढ़ाने से अच्छा था, मुर्गे बेचने की दुकान खुलवा देता'

बीएचयू में मुस्लिम टीचर की नियुक्ति पर बवाल!