Submit your post

Follow Us

अभिषेक बच्चन ने बताया, काम करने के लिए फिल्म इंडस्ट्री इतनी मुश्किल जगह क्यों है!

जब से सुशांत सिंह राजपूत की डेथ हुई है, तब से फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ी कोई भी बहस नेपोटिज़म पर आकर ठहर जाती है. क्योंकि हमारे लिए मेंटल हेल्थ से ज़्यादा बड़ा मसला नेपोटिज़म है. खैर, अभिषेक बच्चन अगले कुछ दिनों में अपना डिजिटल डेब्यू करने जा रहे हैं. वेब सीरीज़ ‘ब्रीद- इन द शैडोज़’ से. ‘ब्रीद’ के इस दूसरे सीज़न में अभिषेक के साथ अमित साध, नित्या मेनन और प्लाबिता बोरठाकुर नज़र आएंगी. इस शो के प्रमोशन के सिलसिले में इंटरव्यूज चल रहे हैं. ऐसे ही एक इंटरव्यू में बात करते हुए अभिषेक ने बताया कि नेपोटिज़म की बहस करने वालों को बिल्कुल ये आइडिया नहीं है कि फिल्म इंडस्ट्री कैसे काम करती है. लोगों को सिर्फ ग्लैमर दिखाई पड़ता है, उसके पीछे की चीज़ें नहीं, जिससे होकर वहां काम कर रहे लोगों को गुज़रना पड़ता है.

अभिषेक की आगामी वेब सीरीज़ ‘ब्रीद 2’ का ट्रेलर आप यहां देख सकते हैं:

भाई-भतीजावाद और फिल्म इंडस्ट्री के बारे में हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए अभिषेक कहते हैं

”ये जगह (इंडस्ट्री) सिर्फ फिल्म प्रीमियर और पार्टियों के बारे में नहीं है. यहां बहुत मेहनत होती है. दुर्भाग्य से हमारी जनता को सिर्फ इसकी ग्लैमरस साइड ही देखने को मिलती है. उन्हें ग्लैमर के पीछे लगी हमारी अंधी मेहनत, खून, पसीना और आंसू बामुश्किल ही कभी दिखाई देता है. जहां तक मेरा सवाल है, तो मैं आज जो कुछ भी हूं, इस इंडस्ट्री और लोगों की बदौलत हूं. इस इंडस्ट्री ने हमारी फैमिली को बनाया और वो सब कुछ दिया है, जो आज हमारे पास है. जो कि मेरे लिए बड़ी पूजनीय है. अगर आपको जानना है कि फिल्मी पार्टियों और प्रीमियर्स के पीछे क्या होता है, आपको सेट पर आकर हमारे साथ समय बिताना चाहिए. फिर आपको नज़र आएगा कि एक फिल्म को बनाने के लिए हर कोई कितनी मेहनत करता है. हमारी एक बड़ी चकाचौंध करने वाली इमेज है, जो कि ठीक भी है. लेकिन इंडस्ट्री में इस इमेज के अलावा भी बहुत कुछ है.”

इस इंडस्ट्री में काम करना इतना मुश्किल क्यों है? ये इंडस्ट्री इतनी डिमांडिंग क्यों है? इन सवाल के जवाब में अभिषेक बताते हैं-

”क्योंकि यहां काम करने की क्राइटीरिया और तरीका दोनों काफी मुश्किल हैं. लेकिन मैं इसे ऐसे नहीं दिखाना चाहता कि ये कोई बहुत बड़ी बात है. जीवन मुश्किल है. किसी का जीवन आसान नहीं है. सबकी अपनी-अपनी जर्नी है, अपनी लड़ाई है. फिल्म इंडस्ट्री भी किन्हीं मायनों में इससे अलग नहीं है. ये बड़ी प्रतिस्पर्धा वाली जगह है. आपको जनता का प्यार और सम्मान पाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है. और उस प्यार और सम्मान को बनाए रखना इससे भी मुश्किल होता है.”

'द बिग बुल' के पोस्टर पर अभिषेक बच्चन. इस फिल्म को अजय देवगन प्रोड्यूस कर रहे हैं.
‘द बिग बुल’ के पोस्टर पर अभिषेक बच्चन. इस फिल्म को अजय देवगन प्रोड्यूस कर रहे हैं.

अभिषेक बेबाक शख्सियत माने जाते हैं. उन्हें जो लगता है, वो खुलकर कहते हैं. यहां भी वो फिल्म इंडस्ट्री को डिफेंड नहीं कर रहे. उसकी असलियत बता रहे हैं, जो ग्लैमर की आड़ में जनता की नज़र से बची रह जाती है. बहरहाल, अभिषेक बच्चन आखिरी बार अनुराग कश्यप की फिल्म ‘मनमर्ज़ियां’ में दिखाई दिए थे. आने वाले दिनों में वो ‘ब्रीद’ के अलावा ‘लुडो’, ‘द बिग बुल’ और ‘बॉब विश्वास’ जैसी फिल्मों में नज़र आने वाले हैं.


वीडियो देखें: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर इमोशनल कर देगा!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

PM Cares के पैसों से बने वेंटिलेटर पर सवाल उठे तो बनाने वाले ने राहुल गांधी को घेर लिया

कहा कि राहुल गांधी के सामने डेमो दिखा सकता हूं.

क्या गलवान में पीछे हटकर चीन 1962 वाली चाल दोहरा रहा है?

58 साल पहले भी ऐसा ही हुआ था. पहले चीन गलवान में पीछे हटा और कुछ दिन बाद भारत पर हमला कर दिया.

सरकार ने वो आदेश दिया है कि कंपनियां मास्क और सैनिटाइज़र के दाम में मनचाहा बदलाव कर सकती हैं

राज्यों ने शिकायत नहीं की, तो सरकार ने आदेश निकाल दिया

बुरी खबर! 'मेरे जीवनसाथी', 'काला सोना' जैसी फ़िल्में बनाने वाले प्रड्यूसर हरीश शाह नहीं रहे

कैंसर से जारी जंग आखिरकार हार गए.

दिल्ली की जेल में सजा काट रहे सिख दंगे के दोषी नेता की कोरोना से मौत हो गई

विधायक रह चुके इस नेता की कोरोना रिपोर्ट 26 जून को पॉज़िटिव आई थी.

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!