Submit your post

Follow Us

मासूमों को पीटते, 'सेवा' के नाम पर जबरन बनाते थे इसाई

17
शेयर्स

“वो मुझे पीटते, कलाइयां पंखे से बांध मुझे लटका देते, कई दिनों तक भूखा रखते.” कहने वाला बच्चा है वो जिसे इस ‘सेवा’ ग्रुप ने जबरन इसाई धर्म में कन्वर्ट कर दिया है.

ग्रेटर नोएडा और मेरठ में चलने वाला ‘इमैनुएल सेवा ग्रुप’ जाने कितने बच्चों के साथ ऐसा कर चुका था. तकरीबन हफ्ते भर पहले जब दो सताए हुए बच्चों की मां ने पुलिस में कंप्लेंट की, तब पता चला कि ये किसी एक बच्चे का केस नहीं, बल्कि असल में पूरा का पूरा रैकेट है. जो जबरन बच्चों का धर्म बदल कर उन्हें इसाई बना देता है. औरत की शिकायत के बाद पड़े छापे से 30 बच्चों को उनके लिए जेल बन चुके शेल्टर होम से निकाला.

shelter house
किचन से निकले कॉकरोच और चूहे की पॉटी

एक बच्चे ने हिंदुस्तान टाइम्स अखबार को बताया, “मुझे मेरे घरवालों से 15 महीनों तक मिलने नहीं दिया. सिर्फ बाइबल पढ़ने को मिलती. मुझसे जबरदस्ती बाइबल के पैसेज रटवाए जाते थे. भैंस का गोश्त खिलाते थे और अगर कोई डोनर आ जाए तो उसके सामने मुझसे परेड करवाते थे.” बच्चों की मानें तो उनके दो नाम होते थे. एक वो जो उनके घर वालों ने दिया था. और एक वो जो उन्हें ग्रुप वाले तब देते थे जब वो बाइबल पढ़ना सीख जाते थे.

“अगर बाइबल पढ़ते समय कोई गलती हो जाए तो बेंत और बेल्ट से मारते थे. अगर कोई बाहरी कभी आता तो अच्छे कपड़े पहनाकर तैयार करते. और उनके जाते ही कपड़ों के साथ साथ उनके लाए हुए मिठाइयां और गिफ्ट भी छीन लेते.” ग्रुप के लोग बच्चों को जमीन पर सुलाते. घर से बाहर नहीं जाने देते. और अगर बाइबल का कोई पैसेज भूल जाए तो तीन दिन खाना नहीं देते थे.

बच्चे की मां के मुताबिक तीन साल पहले ग्रुप का एक आदमी उससे दिल्ली के एक अस्पताल में मिला था. ये वादा करते हुए कि उसके बच्चों को अफसर बना देगा, उसने उसके बच्चों को भर्ती किया. बच्चों ही नहीं, उसके मां-बाप से भी बाइबल की प्रतियां लोगों में बंटवाते थे.

छापे के समय शेल्टर में मौजूद लोगों के पास उनसे जुड़े किसी भी तरह के ऑफीशियल कागज नहीं मिले. न ही बच्चों के कोई ऑफीशियल डिटेल्स मिले.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

लड़की के साथ बदतमीजी करने पर टीचर ने डांटा, लड़के ने भीड़ बुलाकर मास्टर को खूब पिटवाया

ये वारदात है UP की. टीचर को बहुत चोट आई. फ्रैक्चर हो गया है. इस वारदात का एक विडियो भी वायरल है.

ऋषभ ने कभी न सोचा होगा कि विराट कोहली को बड्डे विश करना इतना महंगा पड़ेगा

फैन्स ने न सिर्फ पंत को मधुमक्खी की तरह घेरा बल्कि ट्रोलिंग के डंक मार-मार के उन्हें पस्त भी कर दिया.

उजड़ा चमन से विवाद खत्म हुआ तो फिल्म बाला पर एक और बड़ी मुसीबत आ गई

फिल्म की रिलीज़ में सिर्फ दो दिन बचे हैं और फिल्म बनाने वालों को कोर्ट ने नोटिस भेज दिया

'राधे' फिल्म की शूटिंग से सलमान ने वीडियो शेयर किया, लोग टूट-टाटकर देख रहे हैं

इंटरनेट न बैठ जाए कसम से.

बांदा: सरकारी दफ्तर में कर्मचारी हेलमेट लगाकर काम करते हैं, वजह काफ़ी दुखी करने वाली है

यहां सड़क से ज्यादा कमरे के अंदर हेलमेट लगाना जरूरी है.

ज़िंदा जलाई गई तहसीलदार को बचाने की कोशिश करने वाले ड्राइवर की भी मौत

ड्राइवर के परिवार में आठ महीने की प्रेगनेंट पत्नी और दो साल का एक बेटा है.

एक परिवार ने अनुष्का-विराट को घर बुलाया, चाय पिलाई, बिना ये जाने कि दोनों स्टार हैं

इस ग्रामीण परिवार और उनकी सादगी ने अनुष्का को भावुक कर दिया.

अधिकारी को बल्ले से पीटने वाले आकाश विजयवर्गीय ने ऐसा काम किया कि मोदी माफ़ नहीं कर पाएंगे

आकाश विधायक हैं, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं.

छोटे भाई की हत्या की, डेड बॉडी के साथ जो किया वो और भी डरावना है

मकान मालिक को शक हुआ, तो पता चला 18 घंटे पहले ही हो चुका था सबकुछ.

गंभीर रूप से बीमार थीं, फिर भी देश के डॉक्टर्स पर ऐसा भरोसा था कि विदेशी इलाज से मना कर दिया

किडनी ट्रांसप्लांट के दौरान सुषमा स्वराज ने दिल छू लेने वाली बात कही थी.