Submit your post

Follow Us

खो-खो ने युवराज सिंह को तबाह कर दिया

289
शेयर्स

युवराज सिंह ने 10 जून को इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से रिटायरमेंट ले लिया. युवराज को लेकर इंडियन एक्सप्रेस के नितिन शर्मा ने उनके पापा योगराज सिंह से बातचीत की है. बातचीत में उन्होंने बताया-

ग्रेग चैपल जब इंडियन क्रिकेट टीम के कोच थे उस वक्त अगर युवराज को खो-खो खेलते वक्त घुटने में चोट न लगी होती तो वह शायद वन-डे और टी-20 के सभी रिकॉर्ड्स तोड़ देते. (चैपल का मानना था कि क्रिकेट, इंडियन टीम का नेटिव गेम नहीं है इसलिए प्रैक्टिस सेशन में वह खिलाड़ियों से खो-खो, कबड्डी जैसे खेल खिलाते थे.) मैं चैपल को इसके लिए कभी माफ नहीं कर सकूंगा.

योगराज सिंह
योगराज सिंह (इंडियन एक्सप्रेस)

योगराज ने बताया-

मुझे याद है जब युवराज ने हैदराबाद में नेशनल टूर्नामेंट के एक अंडर-19 मैच में रेस्ट ऑफ इंडिया की ओर से खेलते हुए पंजाब के खिलाफ 180 रन बनाए थे. वह मैच राज सिंह डूंगरपुर देख रहे थे. युवराज उस वक्त 16 साल के थे और डूंगरपुर ने कहा था कि इसे इंडियन टीम में होना चाहिए. मैंने उनसे कहा, मुझे दो साल और दीजिए. इसके बाद युवराज ने साल 2000 में केन्या के खिलाफ डेब्यू मैच खेला.

योगराज ने आगे बताया-

जब उसे कैंसर हुआ तो मैं रोता रहता था. मैं भगवान से कह रहा था कि उसकी जर्नी ऐसे नहीं खत्म हो सकती. मैं कमरे में अकेला रोता रहता था. उसके सामने नहीं रोता था.

पिछले हफ्ते चंडीगढ़ में उसके साथ दो दिन बिताए. जब से युवराज से खेलना शुरू किया उस वक्त से हमने पहली बार कई चीजों पर बात की, जिस पर हमने कभी नहीं बात की थी. वह मुझे समझने की कोशिश कर रहा था. आज जब वह जो है उसे वैसा बनाने के लिए उसने मुझे शुक्रिया कहा. मुझे बहुत ज्यादा गर्व महसूस हुआ है.


वीडियो- वर्ल्ड कप जिताने वाले युवराज को रिटायरमेंट के बाद इस चीज का अफसोस है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कांग्रेस और सपा छोड़कर भाजपा में आए नेताओं ने मोदी के बारे में क्या कहा?

वो भी कल लखनऊ में...

कश्मीर में बैन के बाद भी किसकी मेहरबानी से गिलानी इस्तेमाल कर रहे थे फोन-इंटरनेट?

बैन के चार दिन बाद तक गिलानी के पास इंटरनेट और फोन था. प्रशासन को इसकी भनक भी नहीं थी.

पीएम मोदी ने छठवीं बार लाल किले पर फहराया तिरंगा, 92 मिनट के भाषण में नया क्या था?

पीएम मोदी ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाई.

बीफ़-पोर्क के नाम पर ज़ोमैटो कर्मचारियों को भड़काने वाले लोकल भाजपा नेता निकले!

और एक नहीं, कई हैं ऐसे. देखिए तो...

यूपी के एक और अस्पताल में 32 बच्चों की मौत, डॉक्टरों को कारण का पता नहीं

किसी ने कहा था, "अगस्त में तो बच्चे मरते ही हैं"

भगवान राम के इतने वंशज निकल आए हैं कि आप भी माथा पकड़ लेंगे

अभी राम पर खानदानी बहस हो रही है. खुद ही देखिए...

उन्नाव मामले में भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर अब लंबा फंस गए हैं

सीबीआई ने केस में रोचक खुलासे किए हैं

राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम मोदी ने बताया क्या है उनका 'मिशन कश्मीर'

पीएम मोदी ने लगभग 40 मिनट तक अपनी बात रखी.

जम्मू-कश्मीर के मामले में आत्माओं का भी प्रवेश हो गया है

और एक समय एक "आत्मा" बहुत दुखी हुई थी

मायावती का ऐसा हृदय परिवर्तन कैसे हुआ कि कश्मीर पर सरकार के साथ हो गयीं?

धारा 370 हटवाना चाहती थीं या वजह कुछ और है?