Submit your post

Follow Us

60 दिनों में चार्जशीट दाखिल नहीं हुई, तो यस बैंक घोटाले के आरोपी वधावन ब्रदर्स को जमानत मिल गई

यस बैंक घोटाले में आरोपी वधावन बंधुओं को बॉम्बे हाई कोर्ट से राहत मिल गई है. कोर्ट ने यस बैंक घोटाले में आरोपी दोनों वधावन बंधुओं- कपिल वधावन और धीरज वधावन को जमानत दे दी है. 60 दिनों का वक्त बीतने के बाद भी प्रवर्तन निदेशालय इन दोनों पर कोई चार्जशीट दायर नहीं कर पाया. बॉम्बे हाई कोर्ट ने इन दोनों को एक लाख रुपये नकद और पासपोर्ट जमा करने की शर्त पर जमानत दी है.

बीते 1 अगस्‍त को विशेष सीबीआई अदालत ने यस बैंक घोटाला मामले में आरोपी दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉर्पोरेशन (DHFL) के प्रवर्तक कपिल वधावन और उनके भाई धीरज की जमानत याचिकाओं को खारिज कर दिया था.

# कब गिरफ़्तार हुए थे?

सीबीआई ने कपिल वधावन और धीरज वधावन को 26 अप्रैल, 2020 को सतारा से अरेस्ट किया गया. तब सीबीआई ने वधावन बंधुओं को सतारा पुलिस की मदद से अरेस्ट किया था.

# सीबीआई कर रही थी तलाश

इससे पहले 7 मार्च, 2020 को सीबीआई ने यस बैंक से जुड़े मामले में केस दर्ज किया था. इसमें कपिल और धीरज वधावन के साथ ही राणा कपूर को आरोपी बनाया गया. सीबीआई ने 9 मार्च को वधावन परिवार के घर पर छापा भी मारा था. लेकिन वहां कपिल और धीरज वधावन नहीं मिले. 17 मार्च को दोनों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया.

# लॉकडाउन तोड़कर चले गए थे महाबलेश्वर

9 अप्रैल, 2020 को सतारा पुलिस ने कपिल और धीरज सहित 23 लोगों को लॉकडाउन तोड़ने के आरोप में पकड़ा था. ये लोग अपनी पांच कारों में महाबलेश्वर चले गए थे. स्थानीय लोगों ने इस बारे में प्रशासन को जानकारी दी थी. पूछताछ के बाद पुलिस ने सभी को हिरासत में ले लिया था. वधावन परिवार एक सीनियर अधिकारी अमिताभ गुप्ता के लेटर के जरिए महाबलेश्वर गए थे.

लोकल पुलिस अधिकारियों ने कहा कि लेटर में किसी फैमिली इमरजेंसी का जिक्र हुआ है, लेकिन जब वधावन से पूछताछ की गई, तो इस तरह की कोई इमरजेंसी नज़र नहीं आई. इसके बाद सीबीआई ने सतारा के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट (DM) को एक लेटर लिखा. इसमें कहा गया कि कपिल और धीरज वधावन को CBI परमिशन के बिना कहीं जाने नहीं दिया जाए.


ये वीडियो भी देखें:

लॉकडाउन तोड़कर महाबलेश्वर जा रहे DHFL के प्रमोटर वधावन ब्रदर्स को पुलिस ने किया गिरफ्तार

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?