Submit your post

Follow Us

जूनियर नैशनल चैंपियन रहे पहलवान की हत्या में पुलिस ओलंपियन सुशील कुमार को क्यों ढूंढ रही है?

दंगल में भिड़ने वाले पहलवान दिल्ली में बिना दंगल ही भिड़ गए. पहलवानों के बीच करीब 4 घंटे तक जमकर मारपीट हुई. 5 पहलवान गंभीर रूप से घायल हो गए. एक पहलवान ने बाद में दम तोड़ दिया. बाकी चार की हालत गंभीर बनी हुई है. 23 साल के जिस पहलवान की मौत हुई, वह जूनियर नेशनल चैंपियन रह चुका था. ये झगड़ा मंगलवार देर रात दिल्ली के मॉडल टाउन इलाके में हुआ. मामले ने तूल तब पकड़ा जब पुलिस की FIR में ओलंपियन पहलवान सुशील कुमार का नाम आया. पुलिस सुशील कुमार की तलाश में छापेमारी कर रही है.

प्रॉपर्टी को लेकर हुआ झगड़ा

दिल्ली के मॉडल टाउन इलाके में छत्रसाल स्टेडियम है. यहां के पहलवानों के दो गुट आमने-सामने आ गए. कहासुनी के बाद खूब मारपीट हुई. गोलियां भी चलीं. आजतक की खबर के मुताबिक, इस भिड़ंत में 5 पहलवान गंभीर रूप से घायल हो गए. सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची. घायलों को एक प्राइवेट हॉस्पिटल मे भर्ती कराया गया. अस्पताल में इलाज के दौरान सागर नाम के एक पहलवान की मौत हो गई. सागर जूनियर नेशनल चैंपियन रह चुका था. वह सीनियर नेशनल कैंप का भी हिस्सा था. मूलरूप से सोनीपत का रहने वाला था.

पुलिस की शुरुआती जांच से पता चला कि सागर अपने दोस्तों के साथ छत्रसाल स्टेडियम के पास मॉडल टाउन में एक मकान में रहता था. झगड़ा इस प्रॉपर्टी को खाली करने को लेकर शुरू हुआ था. पुलिस ने जांच के दौरान मौके से एक कार बरामद की, जिसमें डबल बैरल गन भी मिली. पुलिस कार और गन के मालिक की पहचान करने में लगी है.

ओलंपियन सुशील कुमार का नाम आया

पुलिस अफसरों का कहना है कि यह मारपीट अजय, सोनू, सागर, प्रिंस और अमित के अलावा कई दूसरे पहलवानों के बीच हुई. आजतक को पुलिस सूत्रों ने बताया कि दो बार के ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार का नाम भी इस मामले में सामने आ रहा है. वो भी शक के दायरे में हैं. लेकिन जांच के बाद ही सारी बातें साफ हो पाएंगी. पुलिस ने इस संबंध में FIR दर्ज कर ली है. FIR में सुशील कुमार का नाम भी है.

दिल्ली पुलिस के डीसीपी (नॉर्थ-वेस्ट) डॉ. गुरइकबाल सिंह सिद्धू ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा-

दिल्ली पुलिस के सब इंस्पेक्टर जितेंद्र सिंह द्वारा दर्ज FIR और शुरुआती जांच से पता चला है कि पहलवान सुशील कुमार और उनके साथी इस अपराध में शामिल हैं. मृतक सागर दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्स्टेबल का बेटा था. जिन पहलवानों को चोटें आई हैं, उनमें सोनू महाल और अमित कुमार भी शामिल हैं. हमने इस मामले में प्रिंस दलाल को गिरफ्तार कर लिया है.

सुशील कुमार ने किया इनकार

इस मामले में 2 बार के ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार का नाम आने से विवाद बढ़ गया है. बुधवार को सुशील कुमार ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा था-

वो हमारे पहलवान नहीं थे. हमने पुलिस को जानकारी दे दी है कि कुछ लोग हमारे परिसर में बिना इज़ाजत के आ गए और झगड़ा करने लगे. इस घटना से हमारे स्टेडियम (छत्रसाल) का कोई कनेक्शन नहीं है.

फिलहाल यह मामला काफी तूल पकड़ रहा है. इसमें एक तरफ देश के जाने-माने पहलवान सुशील कुमार का नाम आया है तो दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल के बेटे और उभरते पहलवान की मौत हुई है. असली वजह क्या थी और क्या वाकई सुशील कुमार की इसमें कोई भूमिका थी, ये तो आने वाले दिनों में साफ होगा.


वीडियो – एशियन गेम्स में सोना जीतने वाले पहलवान बजरंग पूनिया की कहानी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.