Submit your post

Follow Us

म्यांमार की सेना ने अचानक 5 उग्रवादियों को भारत के हवाले कैसे कर दिया?

म्यांमार की सेना ने प्रतिबंधित रिवोल्यूशनरी पीपुल्स फ्रंट (RPF) के पांच उग्रवादी मणिपुर पुलिस के हवाले किए हैं. RPF, उग्रवादी संगठन पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) का सहयोगी संगठन है. बीते महीने पीएलए ने मणिपुर में असम राइफल्स के काफिले पर हमला किया था, जिसमें 5 जवानों सहित सात लोगों की मौत हो गई थी.

विमान से भारत लाया गया

इंडिया टुडे के हेमंत कुमार नाथ की रिपोर्ट के मुताबिक मणिपुर पुलिस के एक अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर बताया कि RPF से जुड़े मणिपुर के पांच उग्रवादियों को म्यांमार ने भारत को सौंपने का वादा किया था, जिसे उसने बुधवार 15 दिसंबर को पूरा कर दिया. इस अधिकारी के मुताबिक इन उग्रवादियों को एक विशेष विमान से इम्फाल लाया गया. इसके बाद पुलिस इन्हें तुरंत एक अज्ञात स्थान पर ले गई, जहां वरिष्ठ अधिकारी उनसे पूछताछ कर रहे हैं. हालांकि, पुलिस अभी इस बात की पुष्टि नहीं कर पाई है कि ये विद्रोही किसी घटना में शामिल थे या नहीं.

2020 में म्यांमार ने पकड़ा था

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल अगस्त में उत्तर-पश्चिमी म्यांमार के सगाइंग इलाके से वहां की सेना ने इन उग्रवादियों को पकड़ा था. इनकी पहचान नरेंद्र नोंग माइजिंग, लोइटोंगबाम राजकुमार, थोकचोम कलासना, सलाम सोमेंद्र और चौरेन रोहेन के रूप में हुई. म्यांमारी सेना के मुताबिक जांच के बाद पता लगा था कि ये सभी उग्रवादी वादी संगठन RPF के सदस्य हैं. जब इन्हें पकड़ा गया था, तब ये काफी बीमार थे, जिसके बाद इन्हें एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

म्यांमार ने क्यों उग्रवादी सौंपे?

भारत में हमला करने वाले उग्रवादी संगठनों को म्यांमारी सेना का करीबी माना जाता है. ऐसे में 5 उग्रवादियों को भारत को सौंपे जाने के बाद यह सवाल उठ रहा है कि आखिर म्यांमारी सेना ने इन उग्रवादियों को भारत के हवाले करने का फैसला कैसे ले लिया? इस सवाल का जवाब मणिपुर में 13 नवंबर को असम राइफल्स के काफिले पर हुए एक हमले से जुड़ा है. यह हमला पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) और उसके एक सहयोगी संगठन मणिपुर नगा पीपुल्‍स फ्रंट (MNPF) ने किया था. इसमें 46 असम राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी, उनकी पत्नी और 9 साल के बेटे सहित 7 लोगों की जान चली गई थी.

एशिया टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इस हमले के बाद से भारत और म्यांमार के रिश्ते में काफी तनाव आ गया था. क्योंकि ज्यादातर लोगों का मानना है कि सेना के काफिले पर हमला करने के बाद उग्रवादी म्यांमार की सीमा में भाग गए. एशिया टाइम्स के मुताबिक नगा, मणिपुर और असम के उग्रवादी पिछले कई सालों से म्यांमार के सगाइंग इलाके में अपने कैंप बनाए हुए हैं. ये कैंप भारत और म्यांमार के बीच लंबे समय से विवाद का विषय भी बने हुए हैं.

माना जा रहा है कि 13 नवंबर को असम राइफल्स के काफिले पर हुए हमले के बाद, जब भारत ने ज्यादा नाराजगी दिखाई, तो म्यांमारी सेना पर इन 5 उग्रवादियों को छोड़ने का दबाव बना और उसने इन्हें भारत के हवाले कर दिया.


वीडियो-मणिपुर: असम राइफल्स के काफिले पर हमले में कमांडिंग ऑफिसर समेत 5 शहीद

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.

भारत में कोरोना के XE Variant का पहला केस मिलने के दावे पर सरकार ने क्या कहा?

ये वेरिएंट कितना खतरनाक है, ये भी जान लें.

लल्लनटॉप अड्डा: 9 अप्रैल को मचने वाले धमाल का पूरा शेड्यूल पढ़ लो!

हंसी होगी, संगीत होगा और होंगे सौरभ द्विवेदी!