Submit your post

Follow Us

7 समंदर पार रहकर ये शख्स बना हुआ है पाकिस्तान का दुश्मन

98
शेयर्स

भारत में कहीं भी आतंकी हमला होता है. एक टेढ़ी निगाह पाकिस्तान की तरफ हो जाती है. वजहें भी वाजिब हैं. बीते कई आतंकी हमलों में सरहद पार से साजिश रचने के सबूत मिले हैं. पर क्या आप जानते हैं पाकिस्तान को अपने मुल्क में आतंकवाद का सामना आजादी के बाद से ही करना पड़ रहा है. बलूचिस्तान  समस्या को सुलझाने में पाकिस्तान के हुक्मरान 68 साल से नाकाम रहे हैं.

नवाब नवरोज खान की गुरिल्ला वॉर से रखी गई बलूचिस्तान आंदोलन की नींव आज आतंक के नए मुकाम पर है. वक्त बीतने के साथ इसके नेता बदलते रहे हैं. बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी पाकिस्तान की सरकार के लिए बड़ी मुसीबत बनी हुई है.

हम आपको बताते हैं बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी के उस मुखिया के बारे में, जो पाकिस्तान की आंखों में फांस की तरह चुभा हुआ है.
हर्बियार मर्री: बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी के हेड. बलूचिस्तान की आजादी आंदोलन के बड़े नेता खैर बख्श मर्री के बेटे हर्बियार. खैर बख्श मर्री बलूचिस्तान आंदोलन के बड़े नेता थे. उनकी एक आवाज पर पूरा बलूचिस्तान खड़ा हो जाता था. पर पाकिस्तानी हुक्मरानों से मर्री परिवार की ‘दुश्मनी’ पुरानी रही. साल 1978 में जब पाकिस्तान की कमान जनरल मुहम्मद जिया उल हक के हाथों में आई, तब इसका बड़ा असर देखने को मिला. हर्बियार मर्री को अपने परिवार के साथ पाकिस्तान छोड़ अफगानिस्तान बसना पड़ा. काबुल में शुरुआती एजुकेशन के बाद हर्बियार मर्री रूस चले गए. पाकिस्तान की जमीं से दूरी और सियासी जंग की नींव रखी जा चुकी थी.

सालों तक दूसरे मुल्कों में रहने के बाद 1992 को हर्बियार परिवार समेत पाकिस्तान लौट आए. पिता खैर बख्स मर्री की उम्र हो चली थी. लिहाजा राजनीति के गलियारों में बलूच आंदोलन की आवाज उठाने के लिए आगे आए खैर बख्स मर्री के बेटे बलाच मर्री. 1996 में हर्बियार मर्री बलूचिस्तान असेंबली के लिए चुने गए. हर्बियान बलूचिस्तान प्रांत के एजुकेशन मिनिस्टर भी बने. 

1998 में मर्री के परिवार पर जस्टिस नवाज मर्री की हत्या का आरोप लगा. तब से लेकर अब तक हर्बियार का परिवार पाकिस्तान से बाहर रह रहा है. लेकिन सरहदी दूरियां होने की वजह से रंग में भंग करने में हर्बियार मर्री आज भी पाक के दुश्मन बने हुए हैं. हर्बियार ब्रिटेन में रहते हैं. सात समंदर दूर रहकर भी बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी के नेता हर्बियार मर्री बलूचिस्तान की आजादी को लेकर लड़ रहे हैं.

पाकिस्तानी हुक्मरान भारत पर हर्बियार मर्री के साथ करीबी संबंध और बलूच प्रांत में हिंसा फैलाने का आरोप लगाते आए हैं. इमरान खान समेत कई पाकिस्तानी बड़े नेता हर्बियार मर्री से मिल विवाद सुलझाने की कोशिश कर चुके हैं. पर हर्बियार और पाकिस्तानी नेताओं के बीच दूरियां वैसी ही बनी हुई हैं, जैसे हमारे मुल्क में अलगाववादी नेताओं से हमारे हुक्मरानों की..

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
why baloch leader harbiyar marri is big enemy for pakistan

क्या चल रहा है?

जांघ पर गेंद लगी, आउट की अपील हुई, रन के लिए भागे, मगर धोनी की आंख में एक्सरे है

और कितने सबूत चाहिए.

PM मोदी की 'निजी यात्रा' पर पूरे प्लेन के लिए BJP ने एयर फोर्स को जितना पे किया, उसमें टैक्सी बुक न हो

845 रुपए में चंडीगढ़-शिमला-चंडीगढ़ के लिए आप पूरा प्लेन बुक कर सकते हैं, अगर देश के प्रधानमंत्री हों तो...

डुप्लेसी की शानदार फील्डिंग को देख धोनी दीपक चाहर को कह रहे होंगे- कुछ सीख लो इससे

डुप्लेसी ने हवा में करतब दिखाए.

अक्षर पटेल और ट्रेंट बोल्ट ने अगर बचपन में कंचे खेले होते तो दिल्ली फाइनल खेल रही होती

एक गेंद पर दो मौके बने मगर निशाने के कच्चे निकले दिल्ली के खिलाड़ी

दीपक चाहर के कैच छोड़ने पर धोनी और ताहिर ने उन्हें जैसे देखा, शुक्र है वो भस्म नहीं हुए

ऋषभ पंत का कैच छोड़ना किसी क्राइम से कम नहीं है.

गौतम गंभीर के हमशक्ल ने बताया कि वो गंभीर की जगह क्यों खड़ा था

कांग्रेस का बंदा बीजेपी के रोड शो में प्रचार क्यों कर रहा है?

20 लाख ईवीएम लापता होने वाली खबर पर चुनाव आयोग ने जवाब दिया है

और एक बड़ा संकेत भी दे दिया है...

मोदी INS सुमित्रा पर कैनेडियन अक्षय कुमार को लेकर गए थे, कांग्रेस का रिटर्न गिफ्ट

राजनीतिक लड़ाई के लिए इस्तेमाल हो रहे हैं युद्धपोत.

जब नायक फिल्म के अनिल कपूर की तरह ये लड़की एक दिन की DCP बनी

डीसीपी ऋचा सिंह ने जो कहा वो भी मज़ेदार है.

ऋषभ ने 10 मई 2018 को जो किया था, वो रिपीट हुआ तो CSK का भगवान ही मालिक होगा

पंत का बल्ला उस दिन पगला गया था.