Submit your post

Follow Us

गोरखपुर उपचुनाव के नतीजे दबाकर बैठने के आरोपी DM कौन हैं?

14 मार्च की सुबह से ही गोरखपुर और फूलपुर दोनों ही जगह हुए उपचुनावों के रुझान आने लगे. शुरुआती रुझानों में फूलपुर में सपा का कैंडिडेट आगे था तो गोरखपुर में भाजपा का कैंडिडेट. दोनों ही जगह पहले राउंड के आंकड़े जारी किए गए तो गोरखपुर में भाजपा के उपेंद्र शुक्ला सपा के प्रवीण निषाद से 1200 वोटों से आगे थे. फिर फूलपुर में दूसरे, तीसरे, चौथे और 10वें राउंड तक के आंकड़े जारी कर दिए गए. सपा का कैंडिडेट 10,000 से ज्यादा की लीड बना चुका था. मगर गोरखपुर में पहले राउंड के बाद आंकड़े ही नहीं जारी किए जा रहे थे. जबकि गिनती 10वें राउंड तक की हो चुकी थी. करीब 3-3.30 घंटे बीत गए. दूसरे राउंड के आंकड़े प्रशासन सामने ही नहीं ला रहा था. हंगामा होने लगा. यूपी विधानसभा में इसकी खबर पहुंची तो वहां भी बवाल होने लगा. 10 मिनट के लिए वहां भी कार्रवाई स्थगित करनी पड़ी.

सपा के कैंडिडेट प्रवीण निषाद ने आशंका जताई कि रिजल्ट में गड़बड़ी की जा सकती है. बोले- आखिर क्या वजह है कि फूलपुर में हर राउंड के आंकड़े आ रहे हैं. यहां 9 राउंड हो जाने के बाद भी आंकड़े नहीं जारी किए जा रहे. आरोप लगाया कि उनके एजेंट को भी बाहर निकाल दिया गया है.

गोरखपुर के डीएम राजीव पर काउंटिंग के दौरान मीडिया को रोकने का आरोप.
गोरखपुर के डीएम राजीव पर काउंटिंग के दौरान मीडिया को रोकने का आरोप.

ये तो कुछ भी नहीं. जब मीडिया के लोगों ने जानना चाहा कि नतीजे बताने में देरी क्यों की जा रही है तो रिपोर्टर्स की काउंटिंग सेंटर में एंट्री ही बैन कर दी गई. आरोप है कि जहां गिनती चल रही थी, वहां पर्दे लगवा दिए गए. ये सब कौन करवा रहा था. कौन मीडिया को रोक रहा था. किसने 9 राउंड के आंकड़े दबाकर रखे थे. नाम है राजीव रौटेला. ये गोरखपुर के डिस्ट्रिक्ट मैजिस्ट्रेट हैं. गिनती के वक्त राजीव रिटर्निंग ऑफिसर भी थे. पर वो ये सब क्यों कर रहे थे. किस बात का डर था?

इसका जवाब तब मिल गया जब मीडिया और विपक्ष के दबाव के बाद दूसरे राउंड के आंकड़े जारी किए गए. बताया गया कि सपा के प्रवीण निषाद बीजेपी के उपेंद्र शुक्ला से 24 वोट आगे निकल गए हैं. फिर तीसरे, चौथे, पांचवें राउंड के आंकड़े आते गए और सपा की लीड बढ़ती गई. विपक्ष का आरोप है कि डीएम साहब इसीलिए आंकड़े दबाकर बैठे हुए थे, क्योंकि बीजेपी पिछड़ गई थी. हर राउंड में वोटों का अंतर बढ़ता जा रहा था.

राजीव रौटेला
राजीव रौटेला से चुनाव आयोग ने जवाब मांगा है.

डीएम राजीव रौटेला से जब इस देरी के बारे में पूछा गया तो उनका कहना था- ऑब्जर्वर द्वारा साइन न किए जाने के कारण ही चुनाव नतीजों का ऐलान नहीं किया जा रहा. ये भी कहा कि काउंटिंग एक लंबी प्रक्रिया है, इसीलिए आंकड़े जारी करने में टाइम लग रहा है. मगर दूसरे राउंड के आंकड़े आए तो उनके तर्क कमजोर दिखने लगे. वो इसलिए भी क्योंकि इसी प्रक्रिया के तहत फूलपुर में भी काउंटिंग चल रही थी. सवाल उठता है कि वहां क्यों नहीं कोई दिक्कत आई.

वैसे ये पहली बार नहीं है जब 2002 बैच के आईएएस राजीव रौटेला विवादों में हों. उनके और भी किस्से हैं –

1. सितंबर 2013 में राजीव अलीगढ़ के डीएम थे. वहां मीडिया से बातचीत करते हुए राजीव ने भारत को ”लैंड ऑफ मॉर्नर्स” (मातम करने वालों का देश) बता दिया था. वो शहीदों के परिवारों को दिए जाने वाले मुआवजे पर टिप्पणी कर रहे थे. बोले – अफगानिस्तान में 5000 अमेरिकी मारे गए, पर उनके परिवारों ने कभी मुआवजे की मांग नहीं की.

2. 15 दिसंबर 2017 को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने रामपुर में अवैध खनन के मामले में दो अधिकारियों को निलंबित करने के आदेश दिए थे. इनमें से एक राजीव रौटेला ही थे. दूसरे कानपुर देहात के डीएम राकेश कुमार सिंह थे. दोनों पर माइनिंग को बढ़ावा देने और जिम्मेदारों पर कार्रवाई न करने के आरोप थे. कोर्ट ने मामले में प्रमुख सचिव को कार्रवाई के निर्देश दिए थे, मगर क्या हुआ वो सबके सामने है.

योगी के साथ गोरखपुर डीएम.
योगी के साथ गोरखपुर डीएम.

3. योगी आदित्यनाथ और उनके साथियों पर लगे मुकदमों को खत्म करवाने में भी रौटेला ने बहुत तेजी दिखाई थी. मामला गोरखपुर के पीपीगंज थाने का था, जिसमें योगी आदित्यनाथ समेत 10 अन्य पर धारा 188 के तहत मुकदमा दर्ज था. आरोप था कि 27 मई, 1995 को इन लोगों ने पीपीगंज में एक सभा की थी जबकि प्रशासन ने इस पर रोक लगाई थी. इसमें राज्य सरकार ने दावा किया था कि डीएम ने जांच पड़ताल करने के बाद केस हटाने का फैसला किया है.

4. अगस्त 2017 में गोरखपुर के बीआरडी कॉलेज में बच्चों की मौत की वारदात कौन भूल सकता है. उस वक्त भी रौटेला ही गोरखपुर डीएम थे. रौटेला ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा था कि ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स ने ऑक्सीजन सप्लाई काट दी थी. हालांकि कंपनी ने दावा किया था कि वो साबित कर सकती है कि उसने ऐसा नहीं किया.

गोरखपुर में अगस्त में इंसेफलाइटिस से पीड़ित बच्चे मरे थे.
गोरखपुर में अगस्त में इंसेफलाइटिस से पीड़ित बच्चे मरे थे.

वरिष्ठ पत्रकार शरद प्रधान ने कहा कि राजीव रौतेला सीएम योगी के बहुत खास हैं. गोरखपुर में ऑक्सीजन की कमी के चलते बच्चों की मौत के बाद कई अधिकारी हटाए गए, लेकिन राजीव सीएम से नजदीकी के चलते बचे रहे. वे अब उसी अहसान का कर्ज चुका रहे हैं और ये बहुत ही अचरज भरी बात है.

खैर, ये तो हो गई डीएम राजीव रौटेला की पुरानी बात. ताजा काउंटिंग वाले मामले में चुनाव आयोग ने उनसे रिपोर्ट भी मांगी है. देखने वाला होगा कि राजीव रिपोर्ट में क्या लिखकर देते हैं. मामले में राजीव की सोशल मीडिया से लेकर हर जगह भद पिट रही है. अब चुनाव आयोग क्या करेगा, इस पर भी सबकी नजर होगी. राज्य की योगी सरकार की भी इस मामले में काफी भद पिटी है, सो उनके ऐक्शन का भी सबको इंतजार रहेगा.


ये भी पढ़ें-

इन 7 वजहों से सीएम योगी की सीट भी नहीं बचा पाई बीजेपी

फूलपुर उप-चुनाव: क्या बीजेपी फिर से कमल खिला पाएगी?

गोरखपुर में प्रत्याशी कोई हो, लड़ाई योगी vs विपक्ष है

कभी कांग्रेस का अभेद किला रहे गोरखपुर पर कैसे चढ़ा भगवा रंग?

कहानी उस लोकसभा सीट की, जहां से तीन बार सांसद रहा शख्स साढ़े पांच साल जेल में रहा

जब नेहरू की सीट पर एक बाहुबली ने कब्जा जमाया

लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

30 लाख से अधिक ट्वीट कर छात्रों ने रेलवे से पूछा, 'कब होगी परीक्षा?'

30 लाख से अधिक ट्वीट कर छात्रों ने रेलवे से पूछा, 'कब होगी परीक्षा?'

1000 दिन बीत गए, अब तक एग्जाम की डेट नहीं आई.

IPL 2022 के लिए रिटेन नहीं हुए ये 11 खिलाड़ी मिल जाएं तो जीतने वाली टीम तैयार हो जाएगी

IPL 2022 के लिए रिटेन नहीं हुए ये 11 खिलाड़ी मिल जाएं तो जीतने वाली टीम तैयार हो जाएगी

ये खिलाड़ी मिल जाएं तो कोई इन्हें हरा नहीं सकता.

हार्दिक पंड्या, ईशान किशन को रिटेन न कर पाने पर रोहित शर्मा ने क्या कहा?

हार्दिक पंड्या, ईशान किशन को रिटेन न कर पाने पर रोहित शर्मा ने क्या कहा?

मुंबई ने चार खिलाड़ियों को रिटेन किया है.

अब केरल हाई कोर्ट ने नाबालिग से रेप के दोषी पादरी की सजा कम कर दी!

अब केरल हाई कोर्ट ने नाबालिग से रेप के दोषी पादरी की सजा कम कर दी!

हाल में इलाहाबाद और बॉम्बे हाई कोर्ट इसी तरह के फैसले दे चुके हैं.

सेक्स सीडी पर हाई कोर्ट में सुनवाई चल रही थी, अर्ध-नग्न आदमी घुस आया

सेक्स सीडी पर हाई कोर्ट में सुनवाई चल रही थी, अर्ध-नग्न आदमी घुस आया

सुनवाई में शामिल चर्चित वकील इंदिरा जयसिंह ने इस घटना पर कड़ी आपत्ति जताई है.

केशव प्रसाद मौर्य बोले- अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण जारी है, अब मथुरा की बारी है

केशव प्रसाद मौर्य बोले- अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण जारी है, अब मथुरा की बारी है

एक हिंदूवादी संगठन ने मथुरा की शाही मस्जिद में भगवान कृष्ण की मूर्ति लगाने का ऐलान भी कर दिया है

लोकसभा में कृषि मंत्री बोले- नहीं पता आंदोलन में कितने किसान मरे, मुआवजे का सवाल ही नहीं

लोकसभा में कृषि मंत्री बोले- नहीं पता आंदोलन में कितने किसान मरे, मुआवजे का सवाल ही नहीं

कहा- किसानों पर दर्ज मुकदमों के बारे में भी मंत्रालय के पास रिकॉर्ड नहीं.

1 दिसंबर से गैस सिलेंडर महंगा होने के साथ और क्या-क्या बदला?

1 दिसंबर से गैस सिलेंडर महंगा होने के साथ और क्या-क्या बदला?

ये बदलाव आपकी जेब पर सीधा असर डालेंगे

ओमिक्रॉन वेरिएंट वाले देशों से भारत लौटे महाराष्ट्र के 6 यात्री कोविड पॉजिटिव पाए गए

ओमिक्रॉन वेरिएंट वाले देशों से भारत लौटे महाराष्ट्र के 6 यात्री कोविड पॉजिटिव पाए गए

ये यात्री जहां से लौटे हैं, वहां ओमिक्रॉन वेरिएंट कहर बरपा रहा है

पराग अग्रवाल और अपने रिश्ते को लेकर श्रेया घोषाल का यह जवाब आपका दिल जीत लेगा!

पराग अग्रवाल और अपने रिश्ते को लेकर श्रेया घोषाल का यह जवाब आपका दिल जीत लेगा!

विनम्रता के साथ किसी को फटकार कैसे लगाई जाती है, यह श्रेया घोषाल से सीखा जा सकता है