Submit your post

Follow Us

जब शूटिंग कर रहे डायरेक्टर कबीर खान पर अफगानिस्तान में बरसीं गोलियां और रॉकेट्स

‘न्यूयॉर्क’, ‘एक था टाइगर’ और ‘बजरंजी भाईजान’ जैसी फिल्में बना चुके कबीर खान ने अपने करियर की शुरुआत एक डॉक्यूमेंट्री फिल्ममेकर के तौर पर की थी. इस दौरान उन्होंने ढेर सारा समय अफ़गानिस्तान में गुज़ारा था. उन्हीं अनुभवों से प्रेरित होकर उन्होंने पहली फीचर फिल्म ‘काबुल एक्सप्रेस’ बनाई थी. इस फिल्म में जॉन अब्राहम और अरशद वारसी ने मुख्य भूमिकाएं निभाई थीं. अब जब अफ़गानिस्तान में तालिबान की वापसी हो गई है, तब कबीर ने अपने उन दिनों के अच्छे और बुरे एक्सपीरियंस को बॉलीवुड हंगामा को दिए एक इंटरव्यू में साझा किया है. उन्होंने बताया कि जेल में बंद एक तालिबानी ने उनसे कहा कि एक दिन तालिबान वापस अफ़गानिस्तान पर राज करेगा. साथ ही ये भी बताया कैसे उनके ऊपर गोलियों और रॉकेट की बौछार हुई थी.

बॉलीवुड हंगामा के साथ हुई बातचीत में कबीर खान बताते हैं कि उन्हें अपनी डॉक्यूमेंट्री की शूटिंग के दौरान हुई एक घटना अब तक साफ-साफ याद है. वो लोग पंजशीर के एक जेल में थे. गिरफ्तार तालिबानी लोगों के साथ बातचीत रिकॉर्ड करने की कोशिश कर रहे थे. वहां पर एक शख्स था, जिसने कैमरे पर कुछ कहने से इन्कार कर दिया. मगर जैसे ही कबीर और उनकी टीम कैमरे वगैरह समेटने लगी, उसने कैमरे में घूरकर कहा-

”उन्हें लगता है हम चले गए? हम वापस आएंगे.”

कबीर बताते हैं कि उस आदमी की ये बात सुनकर वो भीतर तक डर गए. दुर्भाग्यवश उस आदमी ने जो कहा था, आज वो सही साबित हो रहा है. अफ़गानिस्तान में एक बार फिर से तालिबान का राज है.

‘काबुल एक्सप्रेस’ की बात करते हुए कबीर खान कहते हैं-

”वो मेरी पहली फिल्म है. कुछ मायनों में उसे ऑटोबायोग्राफिकल फिल्म भी कह सकते हैं. क्योंकि ये उन्हीं घटनाओं से प्रेरित है, जिनसे मैं और मेरे दोस्त राजन कपूर अफ़गानिस्तान में गुज़रे थे. वो फिल्म मुझे कभी नहीं छोड़ती. वो मेरी पहली फिल्म इसलिए थी क्योंकि अफगानिस्तान में जो कुछ भी हुआ, उसका मुझ पर गहरा प्रभाव पड़ा था. मुझे हमेशा ये लगता था कि वो कमाल की मानवीय कहानी थी, जो कही जानी चाहिए थी. ज़ाहिर तौर पर हमने उसमें ढेर सारे ह्यूमर और थ्रिलर एलीमेंट डाले. उस कहानी को कहने के पीछे का मक़सद ही ये था कि आप वो जानें, जो आज आप पढ़ रहे हैं. हम दुनिया को ये बताने की कोशिश कर रहे थे कि उस वक्त इंटरनेशनल न्यूज़ में जो दिखाया जा रहा था, हमने सिर्फ वही देखा. इसलिए वहां क्या हो रहा है, इस बारे में हमारा दृष्टिकोण बड़ा गड़बड़ हो गया.”

कबीर खान डायरेक्टेड फिल्म ‘काबुल एक्सप्रेस’ का ट्रेलर आप यहां देख सकते हैं-

बकौल कबीर, एक डॉक्यूमेंट्री फिल्ममेकर के तौर पर सबसे बड़ी सीख ये होती है कि आप कहीं जाते हैं, वहां वक्त गुज़ारते हैं. तब आपको अहसास होता है कि वहां एक्चुअली क्या हो रहा है. तब आपको पता चलता है कि मीडिया जो दिखा रही है और ग्राउंड पर जो हो रहा है, इन दोनों में बहुत अंतर है. कबीर बताते हैं-

”पिछले 20 सालों से हम सबको ये लगता रहा कि अमेरिका ये वॉर जीत रहा है. खुद अमरिकियों को भी लगता रहा कि वो ये युद्ध जीत रहे हैं. मगर असल बात ये है कि वो कभी ये वॉर जीत ही नहीं रहे थे. क्योंकि वो मन से जीतने की कोशिश ही नहीं कर रहे थे. ये बड़ी अजीब बात है कि प्रेज़िडेंट बाइडेन कहते उनका एजेंडा कभी नेशन बिल्डिंग नहीं था. अगर उनका एजेंडा नेशन बिल्डिंग नहीं था, तो वो 20 सालों तक वहां क्या कर रहे थे? अगर उनका एजेंडा तालिबान को डिस्मैंटल करने का था, वो तो हो नहीं पाया.”

फिल्म 'काबुल एक्सप्रेस' की मेकिंग के दौरान जॉन अब्राहम और अरशद वारसी के साथ कबीर खान.
फिल्म ‘काबुल एक्सप्रेस’ की मेकिंग के दौरान जॉन अब्राहम और अरशद वारसी के साथ कबीर खान.

कबीर खान अपनी इस बात में आगे जोड़ते हैं कि जब वो अफगानिस्तान में थे, तब उनके ऊपर गोलियां और रॉकेट बरसाए गए. इससे बचने के लिए उन्हें एक बंकर में छिपना पड़ा. गोलीबारी और बमबारी रुकने के 10-15 मिनट बाद वो बंकर से बाहर आए. उन्होंने देखा कि वहां कुछ टूटे-फूटे टैंक पड़े हुए थे. 7-8 साल के कुछ बच्चे उन्हीं टैंक के बैरल पर रस्सी बांधकर झूला झूल रहे थे. वो वहां खेलना चाहते थे. गोलीबारी वगैरह जब 10 मिनट के लिए भी रुकती, तो वो खेलने आ जाते. तमाम दुख-दर्द के बीच वो लोग नॉर्मल लाइफ जीने की कोशिश कर रहे थे. ये चीज़ उन्होंने अफगानिस्तान से लेकर कश्मीर तक में देखी है.

कबीर खान ने सलमान खान के साथ ‘ट्यूबलाइट’ जैसी फिल्म बनाने के बाद एमेज़ॉन प्राइम वीडियो के लिए ‘द फॉरगॉटेन आर्मी’ नाम की सीरीज़ डायरेक्ट की थी. 1983 वर्ल्ड कप पर विक्ट्री पर बेस्ड उनकी फिल्म ’83’ बनकर तैयार है. रणवीर सिंह समेत देशभर के स्टार्स से भरी हुई इस फिल्म को तब रिलीज़ करने की प्लानिंग है, जब सबकुछ नॉर्मल के काफी करीब आ जाए. अधिकतर लोग वैक्सीन ले चुके हों, ताकि वो अपनी फैमिली के साथ पूरी निश्चिंतता के साथ उनकी फिल्म देख सकें.


वीडियो देखें: फिल्म ’83’ में कौन सा एक्टर, किस क्रिकेटर का रोल करेगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?