Submit your post

Follow Us

चीन के मंत्री के सामने भारत के विदेश मंत्री ने क्या-क्या कहा?

RIC. रूस, इंडिया और चाइना. तीनों देशों के विदेश मंत्रियों की 23 जून को एक बैठक हुई. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए. ये मीटिंग ऐसे वक्त पर हुई जब भारत और चीन के बीच तनाव पसरा हुआ है. 15 जून को गलवान घाटी में हुई लड़ाई के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि शायद विदेश मंत्री एस जयशंकर इस बैठक में शामिल नहीं होंगे. हालांकि, वो बैठक में शामिल हुए. तीनों देशों के बीच कोरोना वायरस समेत कुछ अहम मुद्दों पर बातचीत हुई. इस बार रूस ने इस मीट को होस्ट किया था. हर साल होती है. चीन की तरफ से उनके विदेश मंत्री वांग यी मीटिंग में शामिल हुए.

‘इंडिया टुडे’ की विदेश मामलों की एडिटर गीता मोहन की रिपोर्ट के मुताबिक, रूस के विदेश मंत्री सर्गे लावरोव ने मीट की शुरुआत करते हुए कहा,

‘आज हमारे सामने कई सारी दिक्कतें हैं. सबसे पहली दिक्कत है कोविड-19. ये महामारी लोगों की जान लेते जा रही है, इसका दुनिया की इकॉनमी और राजनीति में नकारात्मक असर पड़ रहा है.’

भारत ने क्या कहा?

द्वितीय विश्व युद्ध (सेकंड वर्ल्ड वॉर) के समापन और यूनाइटेड नेशन्स के फाउंडेशन की 75वीं वर्षगांठ मनाने के लिए विशेष RIC मीट आयोजित की गई थी. एस जयशंकर ने अपने संबोधन की शुरुआत ही इस बात से की. विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर जयशंकर के ओपनिंग रिमार्क की जानकारी दी गई है. उसके मुताबिक, उन्होंने मीट में अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान करने, सहयोगियों के वैध हितों को अहमियत देने और साथ मिलकर काम करने पर ज़ोर दिया है. ये सारी बात उन्होंने चीन के मंत्री के सामने कही.

जयशंकर ने शुरुआत करते हुए कहा,

‘नाज़ीवाद और फासीवाद पर कई देशों के बलिदान के बाद जीत मिली थी. भारत ने भी महत्वपूर्ण योगदान दिया था, 2.3 मिलियन (23 लाख) नागरिक हथियारों के साथ शामिल हुए थे, वहीं 14 मिलियन नागरिक वॉर प्रोडक्शन में थे. विश्व के युद्धक्षेत्रों में भारतीयों का रक्त बहा, तोबरुक, एल अलामिन और मोंटे कैसीनो से लेकर सिंगापुर, कोहिमा और बोर्निओ तक. हमने पर्शियन कॉरिडोर और हिमालयन हंप, दोनों ही जगहों से ज़रूरत के सामानों की सप्लाई जारी रखी थी. अगर भारतीयों को ऑर्डर ऑफ द रेड स्टार दिया गया, तो डॉक्टर कोटनिस ने मेडिकल मिशन को लीड किया, वो चीन में एक लीजेंड हैं. जब जीतने वाले आगे के वैश्विक आदेशों को बनाने के लिए मिले, तो उस वक्त की राजनीतिक परिस्थितियां ऐसी रहीं कि भारत को उचित मान्यता/पहचान नहीं दी गई. ये ऐतिहासिक अन्याय 75 वर्षों तक गलत ही बना रहा, जबकि दुनिया इतने सालों में काफी हद तक बदल गई.’

आगे साथ मिलकर चलने की बात कही. जयशंकर ने कहा,

‘यूनाइटेड नेशन्स ने 50 सदस्यों के साथ शुरुआत की थी, अब उसमें 193 सदस्य हैं. हम RIC देश, वैश्विक एजेंडा को आकार देने में सक्रिय भागीदार रहे हैं. ये खास मीटिंग अंतरराष्ट्रीय संबंधों के सिद्धांतों पर हमारे भरोसे को दोहराती है, लेकिन आज हमारे सामने केवल अवधारणाओं और मानदंडों की चुनौती नहीं है, बल्कि उनके पालन में बराबरी करने की चुनौती भी है. दुनिया की प्रमुख आवाजों को हर तरह से अनुकरणीय (आदर्श योग्य, मिसाल) होना चाहिए. हमें अंतरराष्ट्रीय कानूनों, सहयोगियों के वैध (तर्कसंगत) हितों को पहचानते हुए, बहुपक्षीयता को सपोर्ट करते हुए और सबके हित में लिए गए फैसलों के साथ चलना होगा, ताकि हम लंबे समय तक चलने वाली वैश्विक व्यवस्था बना सकें.’

मीट के बाद सर्गे लावरोव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें उन्होंने बताया कि मीटिंग में इस बात पर चर्चा हुई कि भारत UN के सिक्योरिटी काउंसिल का स्थाई सदस्य बनने का माद्दा रखता है, और उसकी मेंबरशिप को लेकर आगे सपोर्ट किया जाएगा. सर्गे से इंडिया-चीन के बीच चल रहे तनाव को लेकर सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा,

‘मुझे नहीं लगता कि भारत और चीन को बाहर से किसी की मदद की ज़रूरत है. मुझे नहीं लगता कि जब देश के मुद्दों की बात होती है, तो उन्हें किसी की मदद चाहिए. वो अपने बल पर उसे हल कर सकते हैं. नई दिल्ली और बीजिंग ने शांति से इसका समाधान करने की प्रतिबद्धता दिखाई है.’

ये कुछ ज़रूरी बातें हैं, जो मीटिंग में हुई और इनके बारे में जानकारी सामने आई. भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में हुई लड़ाई के बाद ये मीटिंग काफी अहम मानी जा रही थी.


वीडियो देखें: भारत-चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद पता चला कि गलवान घाटी में कई सालों से क्या हो रहा था?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जिस वीडियो में भारत-चीन के सैनिक एक-दूसरे पर मुक्के बरसा रहे हैं, उसका सच क्या है?

वीडियो कब का है, कहां का है?

इंग्लैंड टूर से पहले पाकिस्तान के तीन क्रिकेटर कोविड पॉज़िटिव

अहम टूर से पहले पाकिस्तान को लगा झटका.

पटना के बैंक में दिन-दहाड़े 52 लाख रुपए की डकैती

अपराधियों ने बैंक में लगे CCTV की हार्ड डिस्क तोड़ दी.

अब लद्दाख की पैंगोंग झील के पास चीन की हरकत, भारतीय क्षेत्र में बना रहा है बंकर

सैटेलाइट इमेज एक्सपर्ट की बातें यही इशारा कर रही हैं.

भारतीय सेना के पूर्व अधिकारियों ने किस बात पर आपस में भयानक झगड़ा फ़ान लिया?

गौरव आर्या ने भीड़ से पिट जाने की बात कह डाली.

रेलवे की नौकरी के भरोसे न बैठें, रेलवे की जेबें खाली हैं!

कोरोना लॉकडाउन ने रेलवे का हाल खस्ता कर दिया है.

गलवान घाटी में भारत से लड़ाई पर चीन के लोग किस-किस तरह के सवाल उठा रहे हैं?

चीनी टि्वटर 'वीबो' पर कई पोस्ट लिखी गई हैं.

Exclusive: गलवान घाटी में 15 जून को तीन बार हुई लड़ाई में क्या-क्या हुआ था, विस्तार से जानिए

तीसरी लड़ाई के बाद भारत ने 16 चीनी सैनिकों के शव सौंपे थे.

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

एक और पार्टी है जिसने कांग्रेस जितनी सीटें जीती हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.