Submit your post

Follow Us

पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया कि ताली-थाली बजाने और दीया जलाने का क्या फायदा हुआ है

पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शुक्रवार 22 अक्टूबर को देश को संबोधित किया. उनका ये संबोधन भारत में कोरोना वैक्सीन के 100 करोड़ डोज़ लगने के अगले दिन ही आया है. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में मुख्य रूप से जो बातें कहीं, वो ये रहीं-

# दुनिया के दूसरे बड़े देशों के लिए वैक्सीन पर रिसर्च करना, वैक्सीन खोजना, इसमें दशकों से उनकी महारथ थी. भारत पहले इन देशों की बनाई वैक्सीन्स पर ही निर्भर रहता था.ऐसे में जब 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई, तो भारत पर सवाल उठने लगे. क्या भारत इस वैश्विक महामारी से लड़ पाएगा? भारत दूसरे देशों से इतनी वैक्सीन खरीदने का पैसा कहां से लाएगा? भारत को वैक्सीन कब मिलेगी? मिलेगी भी कि नहीं मिलेगी.

# भारत ने 100 करोड़ डोज़ लगाई हैं, वो भी बिना पैसे लिए. दुनिया भारत को अब कोरोना से ज्यादा सुरक्षित मानेगी. भारत फार्मा हब की तरह पहचान बना रहा है.

# कोरोना महामारी की शुरुआत में ये भी आशंकाएं व्यक्त की जा रही थीं कि भारत जैसे लोकतंत्र में इस महामारी से लड़ना बहुत मुश्किल होगा. भारत के लिए, भारत के लोगों के लिए ये भी कहा जा रहा था कि इतना संयम, इतना अनुशासन यहाँ कैसे चलेगा? लेकिन हमारे लिए लोकतन्त्र का मतलब है- ‘सबका साथ’

# सबको साथ लेकर देश ने ‘सबको वैक्सीन-मुफ़्त वैक्सीन’ का अभियान शुरू किया. गरीब-अमीर, गाँव-शहर, दूर-सुदूर, देश का एक ही मंत्र रहा कि अगर बीमारी भेदभाव नहीं करती तो वैक्सीन में भी भेदभाव नहीं हो सकता. इसलिए ये सुनिश्चित किया गया कि वैक्सीनेशन अभियान पर VIP कल्चर हावी न हो.

#देश के लिए कहा गया कि भारत में लोग टीका लगवाने आएंगे ही नहीं. दुनिया में वैक्सीन हेसिटेंसी (हिचक) चुनौती बन गई है. भारत के 100 करोड़ लोगों ने वैक्सीन लेकर सवाल उठाने वाले लोगों को निरुत्तर कर दिया है.

# देश ने एकजुटता को ऊर्जा देने के लिए ताली थाली बजाई, दिए जलाए. लोग कहने लगे क्या इससे बीमारी भाग जाएगी. इसमें हमें देश की एकता दिखी. इसी एकता की वजह से ही वैक्सीनेशन 100 करोड़ तक पहुंचा है.

# भारत का पूरा वैक्सीनेशन प्रोग्राम विज्ञान की कोख में जन्मा है. वैज्ञानिक आधारों पर पनपा है. और वैज्ञानिक तरीकों से चारों दिशाओं में पहुंचा है. हम सभी के लिए गर्व करने की बात है कि भारत का पूरा वैक्सीनेशन प्रोग्राम, Science Born, Science Driven और Science Based रहा है.

# एक जमाना था जब मेड इन ये कंट्री, मेड इन वो कंट्री. इसी का बोलबाला था. इसका बहुत क्रेज हुआ करता था. आज देशवासी ये अनुभव कर रहा है कि मेड इन इंडिया की ताकत बहुत बड़ी होती है. हमें हर छोटी से छोटी चीज जो मेड इन इंडिया हो, उसे खरीदने पर जोर देना चाहिए. ये सबके प्रयास से ही संभव होगा. वोकल फॉर लोकल हमें व्यवहार में लाना ही होगा. सबके प्रयास से हम ये भी करके रहेंगे.

# पिछली दिवाली हर किसी के मन में एक तनाव था. लेकिन इस दिवाली 100 करोड़ वैक्सीन के कारण एक विश्वास का भाव है. दिवाली के दौरान साल भर की ब्रिकी एक तरफ औऱ त्योहारों की बिक्री दूसरी तरफ होती है. 100 करोड़ वैक्सीन हमारे छोटे दुकानदारों और रेहड़ी पटरी वाले भाई-बहनों के लिए आशा की किरण बन कर आई है.

# हम आज कह सकते हैं कि देश बड़े लक्ष्य तय करना और उसे हासिल करना बखूबी जानता है लेकिन इसके लिए हमें सतत सावधान रहने की जरूरत है. हमें लापरवाह नहीं होना है. कवच कितना ही उत्तम हो, कवच कितना ही आधुनिक हो, कवच से सुरक्षा की पूरी गारंटी हो, तो भी जब तक युद्ध चल रहा है, हथियार नहीं डाले जाते. मेरा आग्रह है कि हमें अपने त्योहारों को पूरी सतर्कता के साथ ही मनाना है.

# जहां तक मास्क का सवाल है. मेरा इतना ही कहना है कि जैसे हमें जूते पहनकर बाहर जाने की आदत पड़ गई है. वैसे ही मास्क को लगाने को स्वभाव का हिस्सा बनाना होगा. जिन्हें वैक्सीन नहीं लगी है वो इसे सर्वोच्च प्राथमिकता दें. जिन्हें लग गई है उन्हें प्रेरित करें.


वीडियो – सेंट्रल विस्टा पहुंचे PM मोदी के सफेद हेलमेट पहनने की साइंस जानना बहुत जरूरी है!

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

उपचुनाव के नतीजे एक जगह पर.